सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

अंतरराष्‍ट्रीय आतंकवाद से निपटने के लिए मजबूत अंतरराष्‍ट्रीय एकजुटता होनी चाहिए

भारत ने कहा है कि आतंकवाद विश्‍व समुदाय के सामने सबसे बड़ी चुनौती है। नई दिल्‍ली में रायसीना डायलॉग के दूसरे दिन विदेश सचिव एस जयशंकर ने कहा कि अंतरराष्‍ट्रीय आतंकवाद से निपटने के लिए मजबूत अंतरराष्‍ट्रीय एकजुटता होनी चाहिए। उन्‍होंने कहा कि आतंकवाद जैसी चुनौतियों का सामना करने के लिए अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर कुछ खामियां हैं लेकिन कुछ अवसर पर महत्‍वपूर्ण पहल भी हुई है।

विदेश सचिव ने पाकिस्‍तान पर टिप्‍पणी करते हुए कहा कि दक्षिण एशिया क्षेत्रीय सहयोग संगठन-सार्क एकमात्र सदस्‍य के रवैये से बेअसर हो गया। उन्‍होंने कहा कि क्षेत्रीय सहयोग और व्‍यापक समन्‍वय के लिए और संवेदनशील होना पड़ेगा। श्री जयशंकर ने कहा कि व्‍यापार और अन्‍य आर्थिक गतिविधियों से क्षेत्रीय विकास में मदद मिलती है लेकिन सम्‍पर्क और सुरक्षा के मोर्चे पर हम पिछड़ जाते हैं। उन्‍होंने कहा कि समन्‍वित सुरक्षा ढांचे के अभाव और क्षेत्रीय सीमा विवाद से एशिया महाद्वीप में कुछ अनिश्‍चय की स्‍थिति है। दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन आसियान की एकता का जिक्र करते हुए उन्‍होंने कहा कि महाद्वीप के पूर्वी छोर पर इस संगठन ने स्‍थिरता में अपनी महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाई है।