सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

अखिलेश अब उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और नेता जी को उन्हें निष्कासित करने का अधिकार नहीं : नरेश अग्रवाल

अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस-


कल सपा राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव द्वारा लखनऊ के जनेश्वर मिश्र पार्क में बुलाए गए आपात राष्ट्रीय अधिवेशन में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने और शिवपाल यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद की प्रतिक्रिया में अधिवेशन मंच पर आगे की कतार में मौजूद रहे सपा राष्ट्रीय महासचिव/राज्यसभा सदस्य नरेश अग्रवाल को सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव ने पार्टी से निष्कासित कर दिया था। प्रतिक्रिया में सांसद ने कहा था कि अखिलेश अब उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं और नेता जी को उन्हें निष्कासित करने का अधिकार नहीं है।

बहरहाल, लखनऊ के कल के घटनाक्रम के बाद आज नरेश अग्रवाल के गृह जनपद में हल्ला-बोल टाइप नज़ारा दिखा। उनके समर्थक नगर अध्यक्ष वसीम अहमद, जिला उपाध्यक्ष अमित बाजपेयी, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ प्रदेश सचिव संजय कश्यप और लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष आदर्श दीपक मिश्रा के साथ युवा कार्यकर्ता नगर पालिका कैम्पस स्थित सपा जिला कार्यालय पहुंच गए। अखिलेश और नरेश के समर्थन में कार्यकर्ताओं की ज़ोरदार नारेबाजी के बीच नगर अध्यक्ष वसीम अहमद शिवपाल समर्थक नवनियुक्त जिलाध्यक्ष रामू कश्यप की कुर्सी पर बैठ गए। यही नहीं, युवा कार्यकर्ताओं ने पार्टी दफ़्तर पर लगी होर्डिंग्स से शिवपाल की तस्वीरों को नोच डाला।

जिला उपाध्यक्ष अमित बाजपेयी ने अंतर्ध्वनि से बातचीत में कहा कि समाजवादी पार्टी कार्यकर्ता मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाए जाने की ख़ुशी का इज़हार करने जिला कार्यालय पर एकत्र हुए हैं। युवा कार्यकर्ता मिठाई बांटकर अपनी भावनाएं प्रकट कर रहे हैं। बाजपेयी ने कहा कि अखिलेश को सपा मुखिया बनाए जाने से राजनीति में नए युग का उदय हुआ है और इससे समाजवादी विचारधारा का नौजवान उत्साहित है। दावा किया कि नए नेतृत्व की रहनुमाई में हरदोई की आठों विधानसभा सीट पर समाजवादी पार्टी का परचम लहराएगा।