सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

अन्त की ओर बढ़ता समाजवादी पार्टी का दंगल

‘साइकल’ सिंबल फंसता देख मुलायम और शिवपाल भी नरम पड़ते नज़र आ रहे हैं । पार्टी की कमान पूरी तरह अखिलेश यादव को सौंपी जा सकती है । अब समाजवादी पार्टी का दंगल अन्त की ओर बढ़ रहा है। विधानसभा चुनाव की तारीखों के ऐलान के बाद मुलायम और अखिलेश दोनों खेमों में अंदरखाने चल रही सुलह की कोशिशें भी तेज हो गयी हैं । समाजवादी पार्टी अखिलेश के नेतृत्व में ही विधानसभा चुनाव लड़ने के मूड में है । चुनाव सिर पर है, ऐसे में मुलायम सिंह यादव ने भी किसी तरह विवाद को खत्म करने या फिर टाल देने में ही अपनी भलाई समझी है ।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की बुलाई गई बैठक में उनके समर्थक विधायकों और मंत्रियों ने अखिलेश यादव को हलफनामा सौंपा। विधायकों से लिए गए हलफनामे को अखिलेश चुनाव आयोग को सौंपेंगे। दरअसल चुनाव आयोग ने एसपी के दोनों गुटों से हलफनामा मांगा है। एसपी के करीब 220 विधानसभा सदस्यों और 60 विधान परिषद सदस्यों ने अखिलेश को हलफनामा सौंपा। बैठक से पहले ही हलफनामा तैयार था, विधायकों को सिर्फ उनपर दस्तखत करके अखिलेश को सौंपना था। अखिलेश की बुलाई बैठक में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के समधी और एसपी के एमएलसी जितेंद्र यादव भी शामिल हुए थे। जितेंद्र यादव को शिवपाल यादव का करीबी माना जाता है। बैठक में अखिलेश ने मौजूद विधायकों को भरोसा दिलाया कि यहां बैठक में जो भी आया है, उसका टिकट नहीं काटा जाएगा ।