डॉ. उर्मिलेश उत्सव अब २९ जनवरी के स्थान पर ३० जनवरी से

डॉ. उर्मिलेश जन-चेतना समिति द्वारा प्रख्यात कवि डॉ. उर्मिलेश की स्मृति में चार दिवसीय डॉ. उर्मिलेश स्मृति उत्सव का भव्य आयोजन अब २९ जनवरी के स्थान पर ३० जनवरी से आयोजित होगा । गंगा यात्रा के कारण तिथि में परिवर्तन किया गया है । सांस्कृतिक प्रतिभाओं के लिए अनेक प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी ।

कार्यक्रम में राज्य या राष्ट्रीय स्तर की प्रतिभाओं को सम्मान प्रदान किया जाएगा । प्रख्यात कवि डॉ उर्मिलेश की स्मृति में डॉ. उर्मिलेश जनचेतना समिति के स्थापना के 15 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर यह आयोजन किया जा रहा है । डॉ. उर्मिलेश उत्सव अब २९ जनवरी के स्थान पर ३० जनवरी से से 2 फरवरी 2020 के मध्य आयोजित किया जायेगा। २९ जनवरी प्रस्तावित गंगा यात्रा के कारण अब उत्सव का भव्य उद्घाटन ३० जनवरी को होगा। उत्सव में प्रथम दिन आयोजित लोक नृत्य प्रतियोगिता अंतिम दिन २ फरवरी को होगी शेष कार्यक्रम यथावत रहेंगे। आयोजन में अखिल भारतीय कवि सम्मलेन, संगीत संध्या, महफ़िल ए कव्वाली, लोक गायन, भारतीय सांस्कृतिक संध्या, भांगड़ा म्यूजिकल नाईट सहित प्रथम चार दिवसीय नाट्य समारोह एवं स्कूली बच्चों के अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रम जैसे एकल व समूह लोकनृत्य, सुगम संगीत, रंगोली, मेंहदी, पोस्टर, शिशुुवेश, हेल्थी बेबी, महिलाओं के लिए भारतीय परिधान प्रतियोगिता सहित जनपद की ऐतिहासिक समृद्धता एवं प्रमुख हस्तियों के योगदान को प्रदर्शित करती वीडियोग्राफी प्रतियोगिता विभिन्न आयु वर्गों में आयोजित होगी। इन प्रतियोगिताओं के फार्म समस्त विद्यालयों में उपलब्ध कराये दिए गए हैं। आवेदन निःशुल्क होगा एवं आवेदन की अंतिम तिथि 20 जनवरी 2020 रहेगी। आयोजन में उन महिलाओं को भी सम्मानित किया जायेगा जिन्होंने वर्ष २०१९ में कन्या को जन्म दिया हैं. बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान से प्रेरित इस आयोजन में इच्छुक महिलाएं अपने बच्ची का जन्म प्रमाण पात्र और विवरण बदायूं क्लब उपलब्ध करा सकते हैं।

उत्सव में विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय योगदान देने वाले महत्वपूर्ण विभूतियों को सम्मानित किया जाएगा। वहीं वर्ष 2019-2020 में राज्य या राष्ट्रीय स्तर पर उल्लेखनीय स्थान प्राप्त करने वाली प्रतिभाओं को भी सम्मनित किया जाएगा। यह सम्मान बदायूँ क्लब, बदायूँ से आवेदन पत्र प्राप्त कर आवेदित किये जा सकते हैं ।

url and counting visits