सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

प्रधानमंत्री ने कानपुर में आज देश के पहले भारतीय कौशल संस्‍थान की आधारशिला रखी

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कानपुर में आज देश के पहले भारतीय कौशल संस्‍थान की आधारशिला रखी। सिंगापुर के तकनीकी शिक्षा संस्‍थान की यात्रा के दौरान श्री मोदी  ने भारतीय कौशल संस्‍थान की स्‍थापना की परिकल्‍पना की थी। इस संस्‍थान को कौशल विकास मंत्रालय, सिंगापुर के तकनीकी शिक्षा संस्‍थान के साथ भागीदारी से स्‍थापित कर रहा है। प्रधानमंत्री ने युवाओं के लिए कौशल प्रदर्शनी का भी उद्घाटन किया। इस प्रदर्शनी में विभिन्न क्षेत्रों की अत्याधुनिक व्‍यावसायिक प्रशिक्षण पद्धतियां प्रदर्शित की गई हैं।

श्री नरेन्‍द्र मोदी ने कानपुर में परिवर्तन रैली को संबोधित कर रहे हैं। उन्‍होंने कहा कि सरकार देश के गरीबों क विकास के लिए समर्पित है। श्री मोदी का कहना था कि नई तकनीक और युवाओं का कौशल विकास देश के विकास में बहुत काम आ सकता है। देश के नौजवान जिसके पास ऊर्जा है। ऐसे ऊर्जावान नौजवानों के हाथ में अगर हुनर आ जाये। मेरे देश का ऊर्जावान नौजवान पूरे भारत को नई ऊर्जा दे सकता है, नई गति दे सकता है। विकास की नई उड़ान दे सकता है। और इसलिए आज यहां पर तीन डेवलेपमेंट के अनेक योजनाओं का आरंभ किया है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सभी वर्गों के उत्‍थान के लिए हमारी योजनाएं केन्द्रित हैं। पहले दिन से हमने जो-जो योजनाएं लाए हैं। वो सारी योजनाएं इस देश के गांव, गरीब, किसान, दलित, पीडि़त, शोषित, वंचित, माताएं, बहनें, युवा उन्‍हीं के जीवन में बदलाव लाने के लिए हमारी सभी योजनाएं केन्द्रित हैं। प्रधानमंत्री ने शीतकालीन सत्र में संसद की कार्यवाही में बाधा डालने के लिए विपक्ष की आलोचना की। उनका कहना था कि वे हर मुद्दे पर चर्चा करने को तैयार थे फिर भी विपक्ष ने अपने राजनीतिक लाभ के लिए दोनों सदनों की कार्यवाही में बाधा डाली।

पूरा महीना संसद चलने नहीं दी। ये संसद क्‍यों चलने नहीं दी भाई। पार्लियामेंट में चर्चा क्‍यों नहीं की। राष्‍ट्रपति के कहने के बाद भी हो-हल्‍ला करते रहे, नारे बुलाते रहे। ये इसलिए करते थे कि जिन मुद्दों पर सरकार चर्चा चाहती थी, इससे वो भाग रहे थे। उत्तर प्रदेश में प्रधानमंत्री की ये छठी परिवर्तन रैली है। इससे पहले, श्री मोदी ने गाजीपुर, आगरा, कुशीनगर, मुरादाबाद और बहराइच में परिवर्तन रैलियों को संबोधित किया था। राज्य में इस समय चार परिवर्तन यात्राएं चल रही हैं, जिनकी शुरुआत भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सहारनपुर में की थी। ये यात्राएं राज्य के चार सौ तीन विधानसभा क्षेत्रों में लगभग 17 हजार किलोमीटर की दूरी तय करेंगी।