सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

बिल्ग्राम-मल्लावां से बुलन्द हुआ “रोड नहीं तो वोट नहीं” का नारा,

सुधांशु दीक्षित-


एक तरफ जहां प्रदेश सरकार आगरा एक्सप्रेस हाइवे का लोकार्पण करने के साथ फाइटर प्लेन उतरवाकर वाहवाही लूट रही है,तो वहीं दूसरी तरफ आजादी के 70 वर्ष बीतने के बाद भी बिल्ग्राम-मल्लावां विधानसभा के ब्लाक माधौगंज के मोहब्बतपुर ठठिया गढ़ी बलेहरा टड़वा धानीखेड़ा सुल्तानपुरवा हरिपुरा जैसे गांव को जोड़ने वाला संपर्क मार्ग आज भी बदहाली पर आंसू बहाने पर मजबूर है इन गांवों में बसने वाली लगभग 15 से 20,000 की आबादी ने लोकसभा व विधानसभा में अपना कीमती वोट देकर जनप्रतिनिधि बनाकर विधानसभा व लोकसभा मे भेजा,जनप्रतिनिधियों ने विकास का वादा करके मार्ग को बनाने का वादा किया लेकिन दोबारा इस तरफ मुड़कर नहीं देखा इन खोखले वादों से त्रस्त होकर इस बार के विधानसभा चुनावों में वोट न करने का ज्ञापन राज्यपाल व मुख्यमंत्री को सैकड़ों हस्ताक्षर सहित भेजा पूर्व जिला पंचायत सदस्य प्रत्यासी विशाल जायसवाल के नेतृत्व में सैकड़ों ग्रामीणों ने खराब संपर्क मार्ग को लेकर बुधवार को विरोध प्रदर्शन किया और 2017 के विधानसभा चुनाव में “रोड नहीं तो वोट नहीं” के नारों के साथ प्रदर्शन किया।
क्षेत्र के जिन गांवों के लोगों ने रोड के लिये वोट बहिष्कार का नारा बुलंद किया है,वहां की सांसद भाजपा की हैं तथा विधायक भी भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर चुके हैं। विशाल जायसवाल ने बताया कि ग्रामीणों द्वारा कई बार उच्चाधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को प्रार्थना पत्र देकर ग्राम मोहब्बतपुर ठठिया गढ़ी बलेहरा टड़वा धानीखेड़ा सुल्तानपुरवा हरिपुरा को जोड़ने वाले संपर्क मार्ग की खराब हालत बयां की लेकिन आजादी के 70 वर्ष बाद भी लोग खड़ंजे तक के लिए भटक रहे हैं मार्ग पर इतना कीचड़ व गड्ढे हैं कि लोग आए दिन हादसे के शिकार होते हैं वहीं छोटे बच्चे अगर गड्ढे में गिर जाए तो उनकी जान तक जा सकती है लेकिन जनप्रतिनिधि व अधिकारी इस और मूकदर्शक बने हुए हैं,
उक्त समस्याओं को लेकर ग्रामीण विशाल जायसवाल के नेतृत्व में शुक्रवार को जिलाधिकारी हरदोई को ज्ञापन देंगे।