सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

ब्याज दरों में एक दशमलव चार आठ प्रतिशत तक की कटौती

सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के करीब छह बैंकों ने कर्ज पर लगने वाली ब्याज दरों में एक दशमलव चार आठ प्रतिशत तक की कटौती की है। नोटबंदी से जमाराशि में वृद्धि के बाद बैंकों ने यह कदम उठाया है। इससे आवास, ऑटो और कॉर्पोरेट ऋण सस्‍ते हो जायेंगे।

भारतीय स्टेट बैंक की घोषणा के बाद, निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आई सी आई सी आई तथा सार्वजनिक क्षेत्र के ओरिएंटल बैंक आफ कामर्स तथा आंध्रा बैंक ने भी निधियों की सीमांत लागत आधारित ब्याज दर (एम सी एल आर) में कल कटौती की घोषणा की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नव वर्ष की पूर्व संध्या पर राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में बैंकों से गरीब, निम्न मध्यम वर्ग और मध्यम वर्ग पर ध्यान देने की बात कही थी।