संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

युवा ही परिवर्तन ला सकते हैं : प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी

Courtesy All India Radio-


प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने युवाओं से एक ऐसा समाज बनाने का आह्वान किया है, जिसमें नकद लेन-देन की कम से कम जरूरत हो। आकाशवाणी से 26वीं मन की बात कार्यक्रम में श्री मोदी ने कहा कि युवा ही परिवर्तन ला सकते है। उन्‍होंने युवाओं से वरिष्‍ठ नागरिकों को ऑनलाइन लेन-देन का तरीका समझाने को कहा। हर दिन आधा-घंटा, घंटा, दो घंटा निकाल करके कम से कम 10 परिवारों को आप ये टेक्‍नोलॉजी क्‍या है, टेक्‍नोलॉजी का कैसे उपयोग करते हैं, कैसे अपनी बैंकों की एप्‍प डाउनलोड करते हैं? अपने खाते में जो पैसे पड़े हैं, वो पैसे कैसे ख़र्च किए जा सकते हैं? कैसे दुकानदार को दिए जा सकते है? दुकानदार को भी सिखाइये कि कैसे व्‍यापार किया जा सकता है?

प्रधानमंत्री ने गरीब लोगों के खातों में अपना  कालाधन जमा कराने वालों को सख्‍त कार्रवाई की चेतावनी दी है। उन्‍होंने कहा कि ये लोग कालेधन को अर्थव्‍यवस्‍था में वापस लाना चाहते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि भ्रष्‍ट लोग गरीबों को लालच देने का प्रयास कर रहे हैं। ग़रीबों को भ्रमित कर, लालच या प्रलोभन की बातें करके, उनके खातों में पैसे डाल करके पैसे बचाने की कुछ लोग कोशिश कर रहे हैं। मैं ऐसे लोगों से आज कहना चाहता हूँ – कानून का पालन करना, न करना आपकी मर्जी, वो का़नून देखेगा क्‍या करना? लेकिन मेहरबानी करके आप गरीबों की जि़ंदगी के साथ मत खेलिए। आप ऐसा कुछ न करें कि रिकॉर्ड पर ग़रीब का नाम आ जाए और बाद में जब जॉंच हो, तब मेरा प्‍यारा ग़रीब आपके पाप के कारण मुसीबत में फँस जाए।

श्री मोदी ने कहा कि नोटबंदी के प्रभाव से स्थिति को सामान्‍य बनाने में पचास दिन लगेंगे। प्रधानमंत्री ने कहा कि 70 साल पुरानी समस्‍या से छुटकारा पाना आसान नहीं है। 70 साल से जिस बीमारियों को हम झेल रहे हैं उस बीमारियों से मुक्ति का अभियान सरल नहीं हो सकता है। लेकिन जब मैं आपका समर्थन देखता हूँ, आपका सहयोग देखता हूँ, आपको भ्रमित करने के लिए ढेर सारे प्रयास चल रहे हैं, उसके बावजूद भी, कभी-कभी मन को विचलित करने वाली घटनायें सामने आते हुए भी, आपने सच्‍चाई के इस मार्ग को भली-भांति समझा है, देशहित की इस बात को भली-भांति आपने स्वीकार किया है।

श्री मोदी ने लेन-देन में नकदी के इस्‍तेमाल को समाप्‍त करने की आवश्‍यकता पर ज़ोर देते हुए कहा कि उनका सपना एक ऐसे समाज का निर्माण करना है, जहां नकदी का लेन-देन कम से कम हो। हमारा सपना है कैशलेस सोसायटी। ये ठीक है कि शत-प्रतिशत कैशलेस सोसायटी संभव नहीं होती है। लेकिन क्‍यों न भारत लेस-कैश सोसायटी की तो शुरूआत करे। एक बार अगर आज हम लेस-कैश सोसायटी की शुरूआत करे दें, तो कैशलेस सोसायटी की मंजि़ल दूर नहीं होगी। बैंक और डाकघरों के कर्मचारियों की सेवाओं की सराहना करते हुए श्री मोदी ने कहा कि वे लोग भारत में बदलाव लाने के मि‍शन को लेकर दिन-रात काम में जुटे हुए हैं। मुझे बराबर याद है, जब प्रधानमंत्री के द्वारा जन-धन योजना का अभियान चल रहा था और बैंक के कर्मचारियों ने जिस प्रकार से उसको अपने कंधे पर उठाया था और जो काम 70 साल में नहीं हुआ था, उन्‍होंने करके दिखाया था। आज फिर एक बार, चुनौती को उन्‍होंने लिया है और मुझे विश्‍वास है कि सवा-सौ करोड़ देशवासियों की संकल्‍प सबका सामूहिक पुरूषार्थ, इस राष्‍ट्र को एक नई ताक़त बना करके प्रशस्‍त करेगा।

प्रधानमंत्री ने किसानों को भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की रीढ़ बताया और कहा कि इस कठिन समय में वे मजबूती से खड़े हुए है। पिछले वर्ष की तुलना में काफ़ी मात्रा में बुआई बढ़ी है। कठिनाइयों के बीच भी, किसान ने रास्‍ते खोजे हैं। सरकार ने भी कई महत्‍वपूर्ण निर्णय किए हैं, जिसमें किसानों को और गॉंवों को प्राथमिकता दी है। उसके बाद भी कठिनाइयॉं तो हैं, लेकिन मुझे विश्‍वास है कि जो किसान हमारी हर कठिनाइयॉं झेलते हुए भी हमेशा डट करके खड़ा रहता है, इस समय भी डट करके खड़ा है।

श्री मोदी ने छोटे व्‍यापारियों से कहा कि उन्‍हें व्‍यापार बढ़ाने के लिए डिजि‍टल तकनीक अपनानी चाहिए। मैं अपने छोटे व्‍यापारी भाइयों-बहनों से कहना चाहता हूँ कि मौका है, आप भी डिजिटल दुनिया में प्रवेश कर लीजिए। आप भी अपने मोबाइल फोन पर बैंकों की एप्‍प डाउनलोड कर दीजिए। आप भी क्रेडिट कार्ड के लिए पोस मशीन रख लीजिए। आप भी बिना नोट कैसे व्‍यापार हो सकता है, सीख लीजिए। आप देखिए, बड़े-बड़े मॉल टेक्‍नोलॉजी के माध्‍यम से अपने व्‍यापार को जिस प्रकार से बढ़ाते हैं, एक छोटा व्‍यापारी भी इस सामान्‍य यूज़र फ्रेंडली टेक्‍नोलॉजी से अपना व्‍यापार बढ़ा सकता है।

श्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा कि इस वर्ष की दीपावली खास थी, क्‍योंकि 125 करोड़ भारतीयों ने यह दीपावली सैनिकों को समर्पित की थी। श्री मोदी ने कहा कि जब राष्‍ट्र सशस्‍त्र बलों के साथ खड़ा होता है, तो उनका मनोबल सवा सौ करोड़ गुना बढ़ जाता है। जम्‍मू कश्‍मीर में घाटी में शिक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने वाले ग्राम प्रधानों की प्रशंसा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि हाल ही में राज्‍य में बोर्ड परीक्षा में 95 प्रतिशत विद्यार्थी शामिल हुए। अभी कुछ दिन पहले जब बोर्ड की एक्‍ज़ाम हुई, तो कश्‍मीर के बेटे और बेटियों ने करीब 95 प्रतिशत, छात्र-छात्राओं ने बोर्ड की परीक्षा में हिस्‍सा लिया। बोर्ड की परीक्षाओं में इतनी बड़ी तादाद में छात्रों का सम्मिलित होना, इस बात की ओर इशारा करता है कि जम्‍मू-कश्‍मीर के हमारे बच्‍चे उज्‍ज्वल भविष्‍य के लिए, शिक्षा के माध्‍यम से-विकास की नई ऊँचाइयों को पाने के लिए कृतसंकल्‍प है।