सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

सपा में रार, पदाधिकारी निखरार, चल रहा ‘होर्डिंग फाड़ो वॉर’

अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस-


हरदोई समाजवादी पार्टी दफ़्तर पर परसों अपदस्थ प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव, उनकी टीम के प्रदेश सचिव राजेश यादव और जिलाध्यक्ष रामू कश्यप की तस्वीर वाले होर्डिंग सांसद नरेश अग्रवाल समर्थकों ने फाड़ दिए थे। कल जवाबी कार्यवाही में राज्यमन्त्री (दर्जा प्राप्त) मुकेश अग्रवाल और पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ प्रदेश सचिव संजय कश्यप की तस्वीर वाले होर्डिंग को निशाना बनाया गया। वहीं, संजय ने पार्टी से अपने निष्कासन की संस्तुति पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है कि अव्वल तो वह जिला कार्यकारिणी में ही नहीं है, दूसरे रामू कश्यप जिलाध्यक्ष पद से अपदस्थ हो चुके हैं, फिर वह किस हैसियत से उन्हें निष्कासित कर रहे हैं।

संजय कश्यप ने जारी बयान में कहा है कि समाजवादी विचारधारा उनकी रगों में है। नेता जी उनके आदर्श हैं और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व सांसद नरेश अग्रवाल के वो सिपाही हैं। उन्होंने जिला कार्यालय पर परसों होर्डिंग फाड़े जाने की घटना में शामिल होने से इंकार किया है। उनका कहना है कि कार्यकर्ता पुरानी होर्डिंग उतारकर नई लगा रहे थे। वह मना करने पहुंचे और तस्वीर लेकर गलत तरीके से प्रस्तुत कर दिया गया। संजय का कहना है कि उनके और रामशंकर कश्यप के निष्कासन की संस्तुति आधारहीन है। उन्होंने रामू कश्यप पर निशाना साधते हुए कहा कि रामू का ओबीसी में कोई आधार नहीं है इसीलिए वह उन्हें टारगेट कर बिरादरी में उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश कर रहे हैं। संजय ने कहा है कि रामू उन पर जानलेवा हमला कराने की चर्चा कर रहे हैं, जिसकी शिकायत नेता जी और मुख्यमंत्री से करेंगे। कहा कि रामू आदि पिछले दिनों नेता जी और मुख्यमंत्री की मुर्दाबाद के नारे लगा रहे थे और अब खुद को मुलायमवादी साबित कर रहे हैं। उन्होंने रामू पर 2014 के लोकसभा चुनाव में भाजपा की मदद करने की बात कहते हुए उनके पार्टी से निष्कासन की मांग की है।

उधर, रामू कश्यप ने जारी एक विज्ञप्ति में कहा है कि जिला दफ़्तर पर नेता जी की होर्डिंग फाड़े जाने और कालिख पोतने से आहत यादव समाज ने पुलिस प्रशासन ने कार्यवाही की मांग की है। हालांकि, विज्ञप्ति में यादव समाज के किसी ज़िम्मेदार का नाम नहीं है। रामू ने कहा है कि घटना के विरोध में बिलग्राम विधानसभा क्षेत्र में उम्मीदवार अनीस मंसूरी, सवायजपुर में पद्मराग सिंह यादव पम्मू, शाहाबाद में सरताज खां, गोपामऊ में राजेश्वरी देवी, साण्डी में ऊषा वर्मा, बालामऊ में अनिल वर्मा और सण्डीला में प्रत्याशी अब्दुल मन्नान अपने-अपने क्षेत्र अध्यक्षों व अन्य पदाधिकारियों के साथ आक्रोश सभाएं करेंगे। सदर विधानसभा क्षेत्र में जिला कमेटी और फ्रंटल संगठनों द्वारा आक्रोश सभा की बात कही है, लेकिन प्रत्याशी नितिन अग्रवाल को शामिल नहीं किया है।

परसों के घटनाक्रम में को लेकर रामू कश्यप ने संजय कश्यप और रामशंकर कश्यप के निष्कासन की संस्तुति की थी। घटनाक्रम में शामिल रहे नगर अध्यक्ष वसीम अहमद, जिला उपाध्यक्ष अमित बाजपेयी, लोहिया वाहिनी जिलाध्यक्ष आदर्श दीपक मिश्रा सहित अन्य पदाधिकारियों पर कार्यवाही की बाबत पूछा गया तो रामू बोले कि प्रदेश नेतृत्व को अवगत करा दिया है। आक्रोश सभाओं की जारी विज्ञप्ति में सदर प्रत्याशी का उल्लेख नहीं होने पर वह चुप्पी साध गए। वहीं, रामू द्वारा जारी निष्कासन की संस्तुति और आक्रोश सभा की विज्ञप्तियों में उनके हस्ताक्षर अलग अलग होने से ये भी सवाल उठ रहा है कि लेटरहेड तो उनका है लेकिन इस्तेमाल कोई दूसरा कर रहा है।