सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

स्‍कूलों में जाने वाले बच्‍चों के मन में विचारों और नवाचार की शक्ति पैदा की जानी चाहिए : प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने कहा है कि भारत 2030 तक विज्ञान और प्रौद्योगिकी में विश्‍व के तीन बड़े देशों में होगा। वे आज आंध्रप्रदेश के तिरूपति में एक सौ चौथी भारतीय विज्ञान कांग्रेस का उद्घाटन कर रहे थे। श्री मोदी ने कहा कि उनकी सरकार विज्ञान के विभिन्‍न क्षेत्रों में सहयोग के लिए प्रतिबद्ध है।

श्री मोदी ने कहा कि विज्ञान को लोगों की बढ़ती हुई आकांक्षाओं को अवश्‍य पूरा करना चाहिए और बुनियादी तथा समाज कल्‍याण से संबंधित मंत्रालयों को हर हालत में इसका इस्‍तेमाल करना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत के सर्वोत्‍तम वैज्ञानिक संस्‍थानों को दुनिया के अन्‍य देशों की भांति बुनियादी अनुसंधान को मजबूत करना चाहिए। प्रधानमंत्री ने कहा कि स्‍कूलों में जाने वाले बच्‍चों के मन में विचारों और नवाचार की शक्ति पैदा की जानी चाहिए। इससे नये अनुसंधान के लिए व्‍यापक आधार बन सकेगा और देश का भविष्‍य सुरक्षित रहेगा। श्री मोदी ने विख्‍यात वैज्ञानिक डॉ0 एम जी के मेनन को भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि उन्‍होंने देश की बहुत सेवा की है। डॉ0 मेनन का हाल में निधन हो गया था। श्री मोदी ने कहा कि साफ पानी और पर्यावरण की समस्‍याएं समाज के लिए बड़ी चुनौतियां हैं और आने वाले समय में इनसे कई अन्‍य चुनौतियां पैदा होंगी। पांच दिन के इस सम्‍मेलन में नोबेल पुरस्‍कार विजेताओं सहित विख्‍यात वैज्ञानिक भाग ले रहे हैं। इस सम्‍मेलन का विषय है- राष्‍ट्रीय विकास के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी।