सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

आतंकवाद पर कब तक बलिदान होती रहेगी घाटी ?

फय्याज का अपहरण और हत्‍या आतंकवादियों की कायराना हरकत : रक्षा मन्त्री

आतंकवादियों ने शोपियां जिले में सेना के एक अधिकारी का अपहरण कर उसकी हत्‍या कर दी। एक रिश्‍तेदार के विवाह में शामिल होने गए इस अधिकारी का गोलियों से छलनी शरीर आज सुबह शोपियां के हरमेन इलाके में मिला। सूत्रों के अनुसार पांच से छह आतंकवादियों ने कल रात लेफ्टिनेंट उमर फैयाज का अपहरण कर लिया था। कुलगाम जिले के फयाज जम्‍मू के अखनूर इलाके में तैनात थे। उन्‍हें पिछले साल दिसम्‍बर में सेना में कमीशन मिला था।

रक्षा मंत्री अरूण जेटली ने इसे कायरतापूर्ण कार्रवाई बताते हुए इसकी निंदा की है। उन्‍होंने कहा कि लेफ्टिनेंट उमर का बलिदान घाटी से आतंकवाद के खात्‍मे की देश की प्रतिबद्धता दोहराता  है। रक्षामंत्री अरूण जेटली ने उमर फय्याज की हत्‍या की निंदा की है। ट्वीट संदेश में श्री जेटली ने कहा कि उमर फय्याज का अपहरण और हत्‍या आतंकवादियों की कायराना हरकत है। उन्‍होंने कहा कि जम्‍मू कश्‍मीर का यह नौजवान अधिकारी एक रोल मॉडल और बेहतरीन खिलाड़ी था। श्री जेटली ने कहा कि उमर फय्याज से घाटी के युवाओं को प्रेरणा मिलती रहेगी। रक्षामंत्री ने कहा कि उमर फय्याज का बलिदान घाटी से आतंकवाद के खात्‍मे की राष्‍ट्र की प्रतिबद्धता दोहराता है। श्री जेटली ने  कहा कि दुख की इस घड़ी में हम लेफ्टिनेंट उमर फय्याज के परिवार के साथ हैं। सेना ने इस बहादुर सैनिक को सलाम करते हुए कहा है कि इस जघन्‍य हत्‍या के दोषियों को न्‍याय के कठघरे में लाने के लिए वह प्रतिबद्ध है।

जम्‍मू-कश्‍मीर में आज सैन्‍य अधिकारी लेफ्टिनेंट उमर फय्याज का अंतिम संस्‍कार पूरे सैनिक सम्‍मान के साथ कुलगाम जिले में उनके पैतृक गांव में कर दिया गया । इस अवसर पर पुलिस और सेना के वरिष्‍ठ अधिकारी मौजूद थे। आतंकवादियों ने कल शोपियां जिले में अपहरण के बाद उनकी हत्‍या कर दी थी। लेफ्टिनेंट उमर अपने रिश्‍तेदार के यहां शादी में गये थे।