सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

युवा छात्र का एक संदेश… माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी के नाम

आदित्य सिंह-


माननीय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी, आपने जैसा कहा कि सरकारी नौकरी की परीक्षाओं में पारदर्शिता ला कर भ्रष्टाचार खत्म किया जायेगा। उक्त विषय से संबंधित हम समस्त प्रतियोगियों का आपसे अनुरोध है कि केंद्र सरकार की भांति सबसे पहले तत्काल प्रभाव से अराजपत्रित पदों पर साक्षात्कार प्रक्रिया समाप्त करें। साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि कोई भी भर्ती निकले उसकी समय सीमा निर्धारित हो। अमूमन अधिकतम 2 महीने, और ये बिलकुल संभव भी है। चयन प्रक्रिया में सुधार कोई राकेट साइंस नहीं है ये बहुत ही आसान है।

चयन प्रक्रिया कुछ इस तरह से हो —

अराजपत्रित पदों पर साक्षात्कार समाप्त करके हर परीक्षा दो चरणों में हो।
पहला चरण ऑफलाइन हो जो एक ही दिन में संपन्न हो जाए। पहले चरण में नक़ल / पेपर आउट होने की समस्या से बचने के लिए पहले चरण को सिर्फ क्वालीफाइंग कर दें, कोई समस्या नहीं होगी।
फिर अगले चरण में कुल पद के 15 या 20 गुना अभ्यर्थियों को पास करके उनकी परीक्षा एक ही दिन में ऑनलाइन हो। अंतिम चरण के लिए संख्या 4 या 5 गुना भी की जा सकती है अगर पहला चरण शुचितापूर्ण संपन्न हो गयी हो तो। नहीं तो 15 या 20 गुना ही सही है अंतिम चरण में नकलचियों को बाहर करने के लिए। और इस चरण में सुरक्षा के कड़े से कड़े इंतजाम किये जाएं। जैसे परीक्षा से एक घंटे पहले जैमर द्वारा इंटरनेट बैन आदि तरीके अपनाकर।
प्रथम चरण का परिणाम भले ही थोड़ा समय लें निकालने में लेकिन अंतिम चरण का परिणाम अधिकतम एक हफ्ते से लेकर 10 दिनों में जारी कर दियें जायें।
(आनालाइन परीक्षा का परिणाम तुरंत संभव है, ये कोई राकेट साइंस नहीं है जिसको कंप्यूटर की जरा सी भी जानकारी होगी वो इस बात को समझता है। ये बहुत ही आसान है, फिर भी उत्तर की आपत्ति आदि के समय को मिलाकर अधिकतम 10 दिन समय लिया जा सकता है)
प्री की मेरिट सभी वर्गों की एक ही बने। इससे एक फ़ायदा यह होगा कि विकलांग और एक्स सर्विसमैन आदि वर्गों के एकदम अयोग्य अभ्यर्थी बाहर हो जाएंगे भले ही उनकी सीटें खाली चली जाए। और दूसरा फायदा यह होगा कि प्री में कोई आराक्षण का पचड़ा भी नहीं होगा तो कोर्ट केस से भी बचा जा सकेगा क्योंकि प्री में सभी वर्गों की एक ही कट ऑफ बनाना नियम के अनुसार ही है। अंतिम परिणाम में सभी वर्गों को आरक्षण देते हुए परिणाम जारी किये जायें और रिजल्ट के साथ ही कट ऑफ मार्क्स और सभी चयनितों / अचयनितों के मार्क्स एक साफ़ पीडीएफ फ़ाइल में अपलोड किये जायें साथ ही ऑनलाइन उपलब्ध भी कराये जायें। प्री के मार्क्स भी प्री के रिजल्ट के बाद तुरंत उपलब्ध करा दिये जायें।
ये सम्पूर्ण प्रक्रिया अधिकतम 50 दिन में बहुत आसानी से संभव है। ध्यान दीजिए ‘आसानी’ से बहुत ही कम समय में संभव है। जब आसानी से कम समय में संभव है तो ऐसा किया जाए न?
क्यों एक रिजल्ट आने में साल-साल 6-6 महीनें लग जाते हैं???
अंत में मुख्यमंत्री जी से यह भी कहना है कि उन्हें 325 का बहुमत दिलाने में हम प्रतियोगियों का बहुत बड़ा योगदान रहा है माहौल बनाने में ।
कृपया हमें अनदेखा न करें।