सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज हुआ जानकी प्रसाद इण्टर कॉलेज का अनोखा कारनामा

बृजेश ‘कबीर’ (अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस)-


ये हौसलों की उड़ान और खुद को साबित करने के जज़्बे की ही मिसाल है कि छोटे से कस्बे कछौना के 1,156 बच्चों ने दुनिया के मानचित्र पर हरदोई को स्थापित कर दिया। कछौना के पतसेनी स्थित जानकी प्रसाद इण्टर कॉलेज के बच्चों ने दुनिया को पर्यावरण का महत्व समझाने और हरियाली को बढ़ावा देने के लिए 7,329 मीटर लम्बा निबन्ध लिखा जो अब गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज हो गया है। अभी तक रिकॉर्ड ब्रिटेन के 09 विद्यालयों के बच्चों द्वारा लिखी गई 4,800 मीटर लम्बी चिट्ठी के नाम था।

जानकी प्रसाद इण्टर कॉलेज के प्रधानाध्यापक शिवराज सिंह पटेल के मुताबिक 1,156 बच्चों ने पर्यावरण से सम्बंधित 7,329 मीटर लम्बा निबन्ध पत्र तैयार किया, जो आज तक का लिखा गया सबसे लम्बा निबन्ध है। इस निबन्ध को बनाने के लिए 7,329 मीटर लम्बा कागज का रोल तैयार किया और उस पर अलग अलग रंगों की कलम से पर्यावरण संरक्षण का महत्व लिखा। पटेल के अनुसार निबन्ध को विद्यालय प्रशासन ने 12 फरवरी को भारत में गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के अधिकारी पवन सोलंकी को सौंपा।

बता दें, अभी तक गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में सबसे लम्बे पत्र का रिकॉर्ड ब्रिटेन के नाम दर्ज था। ब्रिटेन के नेशनल स्टेशनरी वीक- 2015 पर हेलेन रिचर्डसन की देखरेख में 09 विद्यालयों के बच्चों ने एक साथ मिलकर 4,800 मीटर लम्बा पत्र लिखा था। यह गिनीज़ बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स में दर्ज अभी तक का सबसे लम्बा पत्र था। लेकिन 02 साल में ही भारत के बच्चों ने रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया। इस उपलब्धि पर जानकी प्रसाद इण्टर कॉलेज प्रशासन को लगातार बधाइयां मिल रहीं हैं।