हे राम! देखिए कहाँ… माँ ने जीवित नवजात को फेंका

बदहवास और घायलावस्था में तारों से बंधा मिला अपहृत छात्र

दीपक कुमार श्रीवास्तव :

एक दिन पूर्व जनपद बाराबंकी में कोचिंग जाते समय हुआ था छात्र का अपहरण

बघौली/कछौना (हरदोई) : प्रदेश की राजधानी लखनऊ से सटे जनपद बाराबंकी से मंगलवार को अपहृत हुआ छात्र बुधवार को जनपद हरदोई के बघौली थाना क्षेत्र में सड़क किनारे स्थित खाई में बदहवास व घायल अवस्था में पड़ा मिला। सूचना पर पहुंची पुलिस ने छात्र को उपचार हेतु सीएचसी भेजते हुए उसके परिजनों को सूचना दी।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार की दोपहर बघौली थाना क्षेत्र के अंतर्गत लखनऊ-हरदोई राजमार्ग पर स्थित अर्चिशा इंटरनेशनल स्कूल के सामने स्थित खाई से कराहने की आवाज राहगीरों को सुनाई दी। राहगीरों ने मौके पर जाकर देखा तो बदहवास अवस्था में तारों से बंधा एक किशोर कराहते हुए पड़ा मिला। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक किशोर के गले, सीने व पीठ पर तार के निशान साफ दिखाई दे रहे थे। राहगीरों की सूचना पर क्षेत्राधिकारी बघौली उमाशंकर सिंह व प्रभारी निरीक्षक जितेंद्र मोहन सरोज पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे और घायल किशोर को उपचार हेतु सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कछौना भिजवाया। जहाँ चिकित्सक डॉक्टर शक्ति सिंह द्वारा प्राथमिक उपचार के बाद हालत सामान्य होने पर किशोर ने पुलिस को पूछताछ के दौरान अपना नाम शिवम यादव, उम्र 17 वर्ष बताते हुए बताया कि वह जनपद बाराबंकी के ग्राम पंचायत अमराई के गांव पांडेपुरवा थाना रामनगर निवासी किसान सिपाही लाल यादव का छोटा पुत्र है और रानी लक्ष्मीबाई इंटर कॉलेज लखपेड़ाबाग बाराबंकी में इंटरमीडिएट का छात्र है। कोरोना काल के कारण विद्यालयों के बंद होने के चलते बीते लगभग दो-तीन माह से वह और उसका बड़ा भाई सत्यम यादव जनपद बाराबंकी के ग्राम बंजरिया थाना महमदपुर खाला स्थित अपने फूफा कृपाशंकर यादव के यहाँ रह रहे थे। जहाँ से वह कंप्यूटर शिक्षा ग्रहण करने के लिए रोजाना साइकिल द्वारा तहसील फतेहपुर स्थित साईं कंप्यूटर सेंटर को जाता था। बीते 20 अक्टूबर की सुबह लगभग 9 बजे वह नित्य की भांति कंप्यूटर कोचिंग जाने के लिए साइकिल द्वारा अपने फूफा के घर से निकला था। इसी दौरान ग्राम जरखा और गणेशपुरवा के बीच अज्ञात सफेद मारुति वैन सवार मुंह पर मास्क लगाए चार लोग उतरे और उसकी साइकिल रोककर उनमें से एक ने पीछे से उसके सर पर किसी कठोर चीज से प्रहार कर उसे मूर्छित कर दिया। जिसके बाद अगले दिन बुधवार को वह जनपद हरदोई के बघौली थाना क्षेत्र में बदहवास और घायल अवस्था में तारों से बंधा पड़ा मिला।

एक बार पहले भी हो चुका है छात्र शिवम का अपहरण

बघौली पुलिस द्वारा छात्र से उसके परिजनों का नंबर लेने के बाद उन्हें दूरभाष पर सूचना देने के दौरान अपहृत छात्र के बड़े भाई सत्यम यादव ने बताया कि 20 अक्टूबर मंगलवार देर शाम तक शिवम के वापस नहीं लौटने पर खोजबीन शुरू की मगर उसका कोई पता नहीं लग सका। जिसके बाद उसके लापता होने की लिखित सूचना जनपद बाराबंकी के थाना महमदपुर खाला और थाना फतेहपुर में दी थी। पुलिस से बातचीत के दौरान सत्यम ने इससे 1 वर्ष पूर्व अपने छोटे भाई शिवम के एक बार पहले भी बाराबंकी के नाके से अपरहण किए जाने की सनसनीखेज बात बताई। जिसके बाद वह नेपाल सीमा के निकट बनबसा क्षेत्र में बदहवास अवस्था में मिला था। किसी रंजिश या अन्य किसी कारणों के तहत छात्र शिवम यादव के साथ अपरहण की घटना को बार-बार अंजाम दिए जाने के बारे में पूछे जाने पर छात्र के बड़े भाई सत्यम यादव और स्वयं शिवम दोनों ने ही किसी पुरानी रंजिश की बात से साफ इनकार किया है।

फिलहाल कुछ भी हो छात्र के साथ दोबारा हुई अपरहण की वारदात से एक बात तो साफ है कि कहीं ना कहीं कोई तो ऐसी बात है जिसे छात्र या उसके परिजन छुपा रहे हैं। पुलिस द्वारा गहनता से मामले की जांच और पूछताछ के बाद ही तस्वीर साफ होने की उम्मीद है।

url and counting visits