सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

खण्ड शिक्षा अधिकारी ने प्रबन्धकों व प्रधानाचार्यों को टिप्स दीं

रिपोर्ट- पी०डी० गुप्ता


कछौना (हरदोई): खण्ड शिक्षा अधिकारी विश्वनाथ पाठक ने विद्यालयों में बेहतर शैक्षिक माहौल के लिये प्राइवेट मान्यता प्राप्त विद्यालयों के प्रबंधकों व प्रधानाचार्यों को ब्लॉक संसाधन केंद्र पर टिप्स दीं। वहीं विकास खण्ड में दर्जनों संचालित अमान्य विद्यालयों को तत्काल बंद करने का निर्देश दिया। उन्होंने बताया कि विद्यालय में दाखिले के लिये कोई शुल्क नहीं लें तथा विद्यालय प्रांगण से कॉपी, किताबें व स्टेशनरी की बिक्री की शिकायत नहीं आनी चाहिये। बच्चे के स्थानांतरण प्रमाण पत्र देने में कोई शुल्क न लें। विद्यालय में ऐसा माहौल विकसित करें कि जिससे प्रत्येक बच्चे को उनके स्तर के अनुसार सीखने का अवसर एवं बेहतर माहौल मिल सके। बच्चों को रटाने की अपेक्षा उनमें समझ विकसित करें। स्कूली बच्चों को लाने व ले जाने के लिये लगे वाहनों में बच्चों को निर्धारित संख्या में बैठायें। वाहनों व ड्राइवर के नाम-पता की सूची कार्यालय में तत्काल जमा करें। वाहनों में स्वास्थ्य सुविधाएं, स्कूल वाहन लिखा होना अनिवार्य है। प्रत्येक वाहन के आगे व पीछे स्कूल का नाम व मोबाइल नंबर लिखा होना चाहिये। प्रत्येक बस में अग्निशमन यन्त्र अनिवार्य रूप से उपलब्ध होना चाहिये।
साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि शिक्षा का अधिकार अधिनियम के तहत गरीब बच्चों का 25% प्रवेश लेना सुनिश्चित करें। विद्यालय में स्वच्छता हेतु बालक व बालिकाओं के अलग-अलग शौचालय प्रत्येक दशा में होने चाहिये व पेयजल की गुणवत्तापरक व्यवस्था होनी चाहिये। यदि कोई भी व्यक्ति अथवा संस्था मान्यता या मान्यता प्रत्याहरण के उपरान्त भी विद्यालय संचालित करता है तो ऐसी दशा में उन्हें एक लाख का जुर्माना देना होगा। इस अवसर पर एबीआरसी रामशंकर कनौजिया, आदित्य त्रिवेदी, ललित प्रकाश, जानकी प्रसाद पब्लिक जूनियर स्कूल के प्रबन्धक डॉ०शिवराज सिंह, सन शाइन कान्वेंट स्कूल के प्रबंधक सुनील सोनी, बालामऊ पब्लिक स्कूल के प्रबंधक अंकित कुमार, जे०पी० पब्लिक स्कूल के प्रबंधक दिवाकर शर्मा सहित दर्जनों प्रबन्धक व प्रधानाचार्य मौजूद रहे। उन्होंने शिक्षण कार्य मे आ रही दिक्कतों को भी खण्ड शिक्षा अधिकारी से साझा किया।