कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले की सुनवाई पर लगी रोक हटी

उच्चतम न्यायालय ने कठुआ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के मामले की सुनवाई पर लगी रोक हटा ली है। न्यायालय ने इस मामले की सुनवाई जम्मू-कश्मीर के बाहर पंजाब के पठानकोट में करने के आदेश दिये हैं। प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्र, न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा की पीठ ने आदेश दिया कि मामले की सुनवाई बंद कमरे में और दिन प्रति दिन होगी, ताकि इसमें कोई देरी ना हो।

शीर्ष न्यायालय ने कहा कि यह मुकदमा जम्मू-कश्मीर में लागू रणबीर दण्ड संहिता के प्रावधानों के अनुसार चलाया जाएगा। न्यायालय ने यह भी कहा कि यह सुनवाई निष्पक्ष रूप से होनी चाहिए, ताकि आरोपी के साथ-साथ पीड़िता के परिवार को भी न्याय मिल सके। उच्चतम न्यायालय ने पीड़िता के परिजनों, पारिवारिक मित्रों और उसका मुकदमा लड़ रही वकील को दी जा रही सुरक्षा जारी रखने के भी आदेश दिये। मामले से संबंधित सभी बयान और रिकॉर्ड का अनुवाद उर्दू से अंग्रेजी में कराये जाने के आदेश भी दिये गये। न्यायालय ने कहा कि किशोर आरोपी को दी जा रही सुरक्षा भी जारी रहेगी। कठुआ सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता के पिता ने मामले की सुनवाई पठानकोट में कराने के उच्चतम न्यायालय के निर्णय का स्वागत किया है और कहा है कि उन्हें न्यायपालिका पर पूरा विश्वास है।

url and counting visits