निर्माण एवं मरम्मत कार्यो में भ्रष्टाचार के बाद ग्राम प्रधान व ग्राम पंचायत अधिकारी को कारण बताओ नोटिस व अवर अभियंता के विरूद्ध कार्यवाही की संस्तुति

जिलाधिकारी पुलकित खरे ने बताया है कि मा0 उच्च न्यायालय खण्ड पीठ लखनऊ में योजित रिट याचिका नरेशपाल बनाम उ0प्र0 सरकार के पारित आदेश द्वारा याचिका निस्तारित करते हुए याची के प्रत्यावेदन का निस्तारण करने के निर्देश दिये गये थे। उन्होंने बताया कि याची नरेशपाल पुत्र मिश्रीलाल निवासी ग्राम शिवपुरी, ग्राम पंचायत पुरवाबाजीराव ब्लाक कोथावां के शिकायती पत्र के क्रम में अधिशासी अभियंता नलकूप खण्ड एवं सहायक अभियंता जिला ग्राम्य विकास अभिकरण की टीम गठित कर पूर्व प्रधान उजागर लाल के विरूद्ध जांच कराई गयी।

जांच आख्या में शिकायतकर्ता द्वारा ग्राम पंचायत का राज्य वित्त योजनान्तर्गत बैंक में खुले खाते का एकाउन्ट स्टेटमेंट प्रस्तुत किया गया। इस एकाउन्ट स्टेटमेंट में 01.01.2013 को रू0 562382.00 उपलब्ध थे तथा साल 2013 से सितम्बर 2015 तक कुल 232744.00रू0 ग्राम पंचायत को उपलब्ध हुए और इस प्रकार ग्राम पंचायत के खाते में कुल 2889822.00 रू0 की धनराशि योजना में उपलब्ध थी। ग्राम पंचायत अधिकारी षिवपुरी द्वारा कार्यो के सापेक्ष आगणन लागत माप-पुस्तिका के अनुसार लागत, कैश बुक के अनुसार वास्तविक व्यय लागत संबंधी प्रमाण प्रपत्र में 2603730.00रू0 का व्यय कार्य वार दिखाया गया, इसके अतिरिक्त 286000.00 रू0 का भुगतान अन्य मदों में किया गया अनुमानित है। ग्राम पंचायत अधिकारी द्वारा कार्यवार में दर्शाये गये भुगतान में 260373.00 रू0 के कार्यो की जांच की गयी, जिसमें 08 निर्माण कार्यो में पाया गया कि ग्राम पंचायत में एम0बी0 में आंकलित की गयी धनराशि से वास्तव में किये गये भुगतान में 2.45 लाख रू0 अधिक किया गया है तथा इन कार्यो की स्थल पर गयी माप और एम0बीव की माप में अन्तर पाये जाने के कारण रूपया- 1.45 लाख का अधिक भुगतान आहरित किया गया है तथा स्पष्ट है कि इन 08 कार्यो के सापेक्ष रू0 3.90 लाख का अधिक भुगतान हुआ है।

इसके अतिरिक्त हैण्डपंपों की मरम्मत एवं कुओं की मरम्मत पर भुगतान की षिकायत की जांच में कैश बुक के अनुसार दर्शाये गये व्यय विवरण में हैण्डपंप मरम्मत में रू0 321383.00, ह्यूप पाइप क्रय पर रू0 122766.00 तथा कुंओं की चौकी निर्माण पर 20000.00 रू0 भुगतान दिखाया गया है उक्त मरम्मत के कार्य जो विगत ग्राम पंचायत के कार्यकाल के दौरान कराये गये, कैश बुक में 15000.00 अवशेष दिखाया गया है जिसकी वसूली की संस्तुति की गयी है।

जिलाधिकारी ने बताया कि 08 निर्माण कार्यो में एम0बी0 से अधिक भुगतान एवं वास्तविक कार्य से अधिक मापन से कुल रू0 3.90 लाख एवं नकद अवशेष की धनराशि रू0 15000.00 कुल धनराशि 405000.00 रूपये की शासकीय क्षति पायी गयी है जिसके लिए पूर्व प्रधान ग्राम पंचायत पुरवाबाजीराव उजागर लाल एवं ग्राम पंचायत अधिकारी संतोष कुमार को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है तथा अवर अभियन्ता ग्रामीण अभियन्त्रण सेवा के विरूद्ध कार्यवाही हेतु अधिशासी अभियन्ता ग्रामीण अभियन्त्रण प्रखण्ड हरदोई को पत्र लिखा गया है।