कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

विदेश मंत्रालय ने संसद में दिया जवाब: पड़ोसी देशों और ईरान द्वारा पकड़े गए सभी 258 मछुआरे हुए रिहा

उड़ीसा की सम्भलपुर सीट से भारतीय जनता पार्टी के सांसद नितेश गंगा देब ने लोकसभा में पूछा था प्रश्न

विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने लिखित जवाब देते हुए प्रस्तुत किया राज्यवार आंकड़ा

11 मार्च, नई दिल्ली। विदेश मंत्रालय ने संसद में बताया है कि वर्ष 2020-2021 में पाकिस्तान, श्रीलंका, बांग्लादेश और ईरान द्वारा पकड़े गए सभी भारतीय मछुआरों को छुड़ा लिया गया है। लोकसभा में विदेश मंत्रालय ने एक प्रश्न के जवाब में यह बात कही।

उड़ीसा की सम्भलपुर सीट से भारतीय जनता पार्टी के सांसद नितेश गंगा देब ने लोकसभा में पड़ोसी देशों और ईरान द्वारा पकड़े गए भारतीय मछुआरों के संबंध में अतारांकित प्रश्न पूछा था। इसके जवाब में विदेश मंत्रालय ने लिखित उत्तर पेश करते हुए बताया कि इन दो वर्षों में ईरान और पड़ोसी देशों द्वारा गिरफ्तार किए गए सभी भारतीय मछुआरों को रिहा करा लिया गया है।

भाजपा सांसद नितेश गंगा देब ने प्रश्न पूछा था कि ”क्या भारतीय मछुआरों, जिन्हें पड़ोसी देशों और ईरान द्वारा अवैध रूप से बंद किया गया था, को हाल में छोड़ दिया गया है? यदि हां, तो इन देशों द्वारा छोड़े गए मछुआरों की संख्या कितनी है एवं उनका राज्यवार ब्यौरा क्या है?”

इस प्रश्न के संबंध में विदेश राज्य मंत्री वी. मुरलीधरन ने लिखित जवाब देते हुए कहा कि ”समय-समय पर भारतीय मछुआरों को पड़ोसी देशों द्वारा उनके समुद्रों में मछली पकड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया जाता है। जैसे ही पड़ोसी देशों द्वारा भारतीय मछुआरों के पकड़ने के मामले सामने आते हैं, वहां स्थित भारतीय मिशनों द्वारा कांसुली सहायता देने की दिशा में तत्काल कदम उठाए जाते हैं। मछुआरों की शीघ्र रिहाई और स्वदेश वापसी के लिए कानूनी सहायता सहित हरसंभव सहायता प्रदान की जाती है।”

अपने लिखित जवाब में विदेश राज्य मंत्री ने कहा कि ”सरकार भारतीय मछुआरों की सलामती, हिफाज़त और सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देती है।” इसके साथ ही उन्होंने आंकड़ा भी प्रस्तुत किया, जिसमें बताया गया कि वर्ष 2020 में पाकिस्तान द्वारा असम के एक और आंध्रा प्रदेश के 19 मछुआरों को पकड़ा गया था, पकड़े गए सभी 20 मछुआरों को छुड़ा लिया गया है। श्रीलंका द्वारा पकड़े गए मछुआरों का आंकड़ा देते हुए बताया गया कि 2020-2021 में श्रीलंका द्वारा तमिलनाडु के क्रमश: 49 और 52 मछुआरों को गिरफ्तार किया गया था, जिनको रिहा करा लिया गया है।

बांग्लादेश के संबंध में विदेश राज्य मंत्री ने अपने लिखित जवाब में कहा कि वर्ष 2020 में पश्चिम बंगाल के 117 और आंध्र प्रदेश के 8 मछुआरों को बांग्लादेश ने अपने समुद्री क्षेत्र में मछली पकड़ने के आरोप में गिरफ्तार किया था। सभी मछुआरों को भारतीय मिशन के प्रयासों से छुड़ा लिया गया है। वहीं ईरान के संबंध में उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 में ईरान ने तमिलनाडु के 12 मछुआरों को गिरफ्तार किया था जिनकी रिहाई हो चुकी है।