जलाभिषेक के लिए कांवड़ियों का केसरिया सैलाब सड़कों पर

अंकित सक्सेना बदायूँ-

सावन महीने के चौथे व अंतिम सोमवार को लेकर जलाभिषेक के लिए कांवड़ियों का केसरिया सैलाब सड़कों पर हैं। रविवार सुबह से ही बदायूं जिले की सड़के केसरिया दिखाई दे रही हैं, इसमें खासकर बदायूं मथुरा मार्ग पर भोले तेरी जय-जयकार हो रही है। कछला गंगा घाट पर भक्ति का माहौल तड़के से ही देखने को मिला, जो गंगा स्नान के साथ ही पूजापाठ कर रहे है।

गंगा स्नान के दौरान हर-हर गंगे और कांवड़ कंधे पर रखने के बाद हर-हर महादेव , बम-बम भोले की कांवडि़ियों की जुबां पर पुकार है। इस जयघोष से कछला से लेकर बदायूं तक महौल भक्तिमय है और भगवा रंग से मार्ग केसरिया ही दिख रहा है। कांवड़ियों की जुबां पर भोले के गीत भी आ रहे हैं, सज जा सांवरिया, भर ले कांवरिया चल शिव की नगरिया रे जैसे गीतों ने भक्ति में झूमने को मजबूर कर दिया है।

शहर के पांच मंदिरों में होगा जलाभिषेक जगह जगह हो रहे है भंडारे

इधर सावन के महीने में शहर के पांच मंदिरों पर विशेष रूप से जालभिषेक किया जाता है जिन पर भीड़ भी भक्तों की काफी रहती है और पूजा अर्चना को सुबह से ही भक्तों की लाइनें लग जाती हैं। सोमवार को जलाभिषेक को लेकर मंदिरों पर सजावट का काम तेजी के साथ चल रहा है कहीं मदिरों पर साफ-सफाई कराई जा रही है तो कहीं मंदिरों पर झालरों से सजावट की जा रही है। शहर के लाला हर प्रसाद मंदिर के साथ ही बिरूआबाडी़ मंदिर, गौरी शंकर मंदिर पर भी तैयारियां देखने को मिली हैं। वहीं कांवड़ियों के ठहरने के लिए भी व्यवस्थाएं थी और कांवड़ियों ने आराम फरमाया।

डीएम और एसएसपी ने अधिकारियों को चौकसी बरतने के निर्देश दिए कि अब तक कांवड़यात्रा सकुशल निकली है, अब एक दिन का समय और बचा है, इसलिए कहीं कोई परेशानी नहीं होनी चाहिए। यातायात व्यवस्था सुचारू बनाए रखने के लिए रूट डायवर्जन लागू किया गया था, इसकी वजह से बसों और ट्रकों को अलग रूट से निकाला गया।

url and counting visits