धर्म और दर्शन

राघवेन्द्र कुमार ”राघव”-


……प्रधान संपादक…… …इण्डियन वॉयस 24…


प्राचीन धर्म ग्रन्थ कहते है ” जो धारण करने योग्य हो ” वह धर्म है | लेकिन आज के परिप्रेक्ष्य में धर्म आडम्बर से ज्यादा कुछ नहीं | हम किसी भी धर्म की आलोचना , अच्छाई या बुराई में नहीं पड़ना चाहते | लेकिन इतना जरुर है कि जब कोई धर्म के नाम पर इंसानों का बंटवारा करता है , धर्म के सीने में खंजर घोपने का काम करता है | धर्म में निष्ठा छिपी है , यही निष्ठा धर्म को मानने न मानने का आधार है | श्रीमद्भगवदगीता में भगवन् कहते हैं –

सर्वस्व चाहं हृदिसन्निविष्टो मत्तः स्मृतिर्ग्यानमपोहनम् च |

वेदैश्च सर्वेरहमेव   वेद्योवेदांतकृद्वेदविदेव चाहम् ||

अर्थात मै ही सब प्राणियों के ह्रदय में अंतर्यामी रूप से स्थित हूँ तथा मुझसे ही स्मृति , ज्ञान और अपोहन ( विचार के द्वारा बुद्धि में रहने वाले संशय , विपर्यय आदि दोषों को हटाने का नाम ‘अपोहन’ है |) होता है और सब वेदों द्वारा मैं ही जानने के योग्य ( सर्व वेदों का तात्पर्य परमेश्वर को जानने का है , इसलिए सब वेदों द्वारा ”जानने के योग्य ” एक परमेश्वर ही है | ) हूँ तथा वेदांत का कर्ता और वेदों को जानने वाला भी मै ही हूँ ||

अब अगर ईश्वर एक ही है , तो विभिन्न रूपों में भगवान को मानकर हम आपस में क्यों लड़ रहे है | धर्म के नाम पर झगड़ना बेवकूफी है | इंसानों में धर्म , क्षेत्र के नाम पर बंटवारा केवल मन का भ्रम है | सारा संसार एक ही परमपिता की संतान है | धर्म क्या है ? ऐसा कहने वालों की कमी नहीं है और होनी भी नहीं चाहिए | इसके पीछे कुछ तथ्य हैं | आज तक जो धर्म हमें बताया गया , वो तो समाज की जड़े काटने पर तुला है | जिसे हमने धर्म समझा है उसने ऊँच-नीच की चौड़ी खायी तैयार कर दी | इंसानों को धर्म के नाम से चिढ़ हो गयी कारण यही कि धर्म के ठेकेदारों ने उसे विक्रय की वस्तु माना | किसी भी धर्माचार्य ने हमें धर्म का वास्तविक अर्थ नहीं बताया | किसी भी आधुनिक ग्रन्थ ने सत्य को स्वीकार नहीं किया |

हम अक्सर धर्म ग्रंथों में लिखी हुई बातों को समझने में भूल कर बैठते हैं | यह भूल हमें धर्म मार्ग से हटाकर कभी – कभी अधर्म की ओर भी लिए जाती है | भारतीय परिदृश्य में एक बात तो साफ़ है , यहाँ धर्म ग्रंथों पर जो भी टीका , टिप्पणी की गयी वो कही न कहीं व्यक्तिवाद से प्रेरित रहीं | इस तरह हम जो जानकारी चाहते थे उससे वंचित रह गये | अब श्रीमद्भगवद्गीताके इस श्लोक को ही देखते हैं –

श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वानुष्ठितात |

स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्बिषम ||

अर्थात अच्छी प्रकार आचरण किये हुए दूसरे के धर्म से गुणरहित भी अपना धर्म श्रेष्ठ है ; क्योंकि स्वभाव से नियत किये हुए स्वधर्म रूप कर्म को करता हुआ मनुष्य पाप को प्राप्त नहीं होता |

अब यदि इस श्लोक के भावार्थ पर नजर डालें तो स्पष्टतः एक ऐसा तथ्य निकल कर आता है जो धर्मों के बीच विरोधाभास को दिखाता है | लेकिन क्या वास्तव में महात्मन श्री कृष्ण ने धार्मिक विद्वेष की बात की होगी ? नहीं उनके कहने मा मतलब ही अलग रहा होगा ! जहाँ तक हमारी छोटी बुद्धि समझती है , भगवान का कथन किसी आधुनिक धर्म की ओर कतई नहीं रहा होगा , क्योंकि उस समय तो सनातन धर्म ही था | जो सर्व मान्य आर्यों का धर्म था | श्रीकृष्ण ने अर्जुन से उस धर्म की बात कही होगी जो वर्ण व्यवस्था के आधार पर था | आप सब जानते है कि अर्जुन ने कुरुक्षेत्र में अपने सगे सम्बन्धियों को देखकर हथियार डाल दिए थे | अर्जुन युद्ध करने से मना कर रहे थे | ऐसे में विष्णु अवतार श्री कृष्ण ने उनसे ” क्षत्रिय धर्म ” के आदर्शों की बात कही और दूसरे धर्मों ( ब्राह्मण ‘ वैश्य और शूद्र ) को इस दशा में कमतर कहा | अब यदि सीमा पर फौजी लड़ाई से इंकार करे तो यह सैनिक धर्म के विपरीत है |

यजुर्वेद में अध्याय ३६ के १७वें सूक्त में कहा गया है कि ”चारों ओर से शांति बरस रही है | स्वर्ग लोक में भी शांति की वर्षा हो रही है | अंतरिक्ष में भी शांति व्याप्त है | पृथ्वी पर रची बसी सभी चीजों से शांति बरस रही है | पानी जो कण-कण में समाया हुआ है , बड़ी ही शांति से जीवों को पाल रहा है | कभी भी पानी के मन में ईर्ष्या -द्वेष , शत्रुता या साम्प्रदायिकता का भाव नहीं आया और न ही कभी पानी ने अपने जलधर्म  से विरोध ही किया है (अर्थात पानी ने मगरमच्छ और मछली दोनों को ही बराबर स्थान दिया है ) | वह तो सभी जीवों को आश्रय देकर जल धर्म का निर्वाह कर रहा है | जल शांति प्रदान कर रहा है  ” |

लेकिन आज धर्म के नाम पर अशांति , जिहाद , धार्मिक स्थलों में तोड़-फोड़ , आगजनी और भी न जाने क्या-क्या हो रहा है | मानवधर्म को भूल इंसान जाने किस अंधे कुँए की ओर जा रहा है | अरे जब आगे अँधेरा है तो स्वाभाविक सी बात है कि शक्ति और बुद्धि का प्रयोग व्यर्थ है , वहाँ कुछ भी मिलने वाला नहीं है |लेकिन हमारे शास्त्रों में एक सूक्ति है कि ” हर अँधेरे के पार रौशनी होती है ”| लोग इस उदाहरण को आगे रखकर बुरे कर्मों को भी अच्छी राह ले जाने का प्रयास करते है | परन्तु भूल जाते हैं कि अँधेरा चाहे जितना सघन हो लेकिन रोशनी को रोक पाने में वह असमर्थ है , कोई न कोई किरण तो पार आ ही जाती है अर्थात लक्ष्य स्पष्ट हो जाता है | हाँ यह हो सकता है कि लक्ष्य अच्छी तरह से दृष्टिगोचर न हो किन्तु अंधकारमय नहीं होगा |लक्ष्य को पाने के लिए प्रज्ञा (ज्ञान) की भी जरुरत होती है और प्रज्ञा शांति से आती है | अतः शांति ही कर्म , लक्ष्य और धर्म का आधार है | जो शांति में खलल डालता है वह धर्म नहीं है |

लेकिन अफ़सोस हमारे पाखंडी धर्मवेत्ताओं ने श्लोकों की अनुचित व्याख्या कर हम मनुष्य रुपी प्राणियों को आपस में लड़ने का मंच तैयार कर दिया | इसके पीछे इनकी मंशा यही रही होगी जो हमें गुलाम बनाने वाले अंग्रेजों की थी | हम धर्म के नाम पर लड़कर दिन-प्रतिदिन पीछे ही खिसक रहे है | ऐसे में जरुरत है धर्म के सही ज्ञान की , जिससे हम आपसी मतभेदों को भुलाकर प्रगति की ओर बढ़ सके |

22 Comments on धर्म और दर्शन

  1. Ꮃell, I am stunned you all left the very additional best oone for me.?
    Daddy stated with a teasing smile. ?It?s that he despatched
    Јesus t᧐ die for ᥙs and give us life endlessly and ever and that because of that we are going to be ɑ household in heavеn for millions օf years.
    That?s prettү good isnt it?

  2. Now that you learn about video editing and the things you need you
    are ready to start right onto your pathway of amateur
    filmmaker to professional director. Contestants worldwide will record songs on their own, or team up into virtual bands of 2-4 musicians, and
    compete for $5600 in prizes. You need a special connector typically termed as
    a Fire wire or known as an IEEE 1394 high band connector.

  3. The camera can make the brightest of scenes resemble it absolutely was taken during an eclipse.

    A model with 3 CCD carries a sensor that covers
    each one of the different colors (Red, Green, and Blue) causing superior color reproduction. Instead
    of enjoying karaoke parties, you’ll be able to
    always go ahead and take music and build your own song,
    by plugging it into your TV sets.

  4. Many of these shows are located in bigger cities like New York or Los Angeles, and that means you be able
    to travel free of charge if you achieve in the finals.

    It took about a few months to find out the text as well as the raucous, discordant (to my ears) “melody. Here you’ll be able to shop by theme or browse an entirely array of themes if you are sill unsure on what to base the party.

  5. The camera could make the brightest of scenes resemble it was taken during an eclipse.
    You don’t have to invest in the most important or heaviest tripod for personal use.
    This can be very advantageous for you because if you might be a fast learner, with
    just an effort, you might learn all you wished to very easily and free.

  6. As a result of their efforts, Positive View’s events have
    received coverage from the 3 global television networks and
    also have already been streamed for online viewing.
    It took about a couple of months to learn the language along with the raucous,
    discordant (to my ears) “melody. Here it is possible to shop by theme or browse a whole variety of themes if you’re sill unsure about what to base the party.

  7. As a result of their hard work, Positive View’s events have received coverage from several
    global television networks and have been streamed for online viewing.
    You don’t have to put money into the most important or heaviest tripod form
    of hosting use. Instead of enjoying karaoke parties, you are able to always take
    the music that will create your individual song, by plugging it to your TV sets.

  8. If jⲟb safety iss exсessiᴠe in your record of priorіties,
    this is another factoг that isnt offered by freelancing.
    Many individuals haνe to be assured of regular revenue, at a charge that they can rely
    on, with the intention to preserve their bills and everyday dwelling
    bils ɑas much as datе. Freelancing will not provide the job and reѵеnue security that youd һave
    from being on the staff of a law firm.

  9. Many of these shows are based in bigger cities like New York
    or Los Angeles, and that means you reach travel
    free of charge when you get into the finals. It took about a couple
    of months to find out the text along with the raucous,
    discordant (to my ears) “melody. Here you’ll be able to shop by theme or browse a whole selection of themes in case you are sill unsure on what to base the party.

  10. The art of ghazal singing has managed to entice millions
    around the globe. A model with 3 CCD features a sensor that picks up
    all the different colors (Red, Green, and
    Blue) leading to superior color reproduction. Here you’ll be able to
    shop by theme or browse an entirely selection of themes should
    you be sill unsure on which to base the party.

  11. The art of ghazal singing has been able to entice millions round
    the globe. These guides allow you to practice when you are prepared and possess the time and energy to
    do so. You need a special connector typically known as a Fire wire or commonly known as as an IEEE 1394 high band connector.

  12. The camera may make the brightest of scenes look like it turned out taken during an eclipse.
    You don’t have to spend money on the biggest or heaviest tripod web hosting use.
    Painting is surely an authentic gift due to the longevity and utility.

  13. The art of ghazal singing has were able to entice millions round the
    globe. ” It was President Theodore Roosevelt who had given it the category of White House in 1901. Here you can shop by theme or browse an entirely range of themes if you are sill unsure on the to base the party.

  14. The art of ghazal singing has was able to entice millions around the globe.
    It took about 3 months to find out what and the raucous, discordant
    (to my ears) “melody. Painting is an authentic gift because of its longevity and utility.

  15. Many of these shows are based in bigger cities like New York
    or Los Angeles, so that you be able to travel at no cost driving under the influence in to the finals.

    You don’t have to purchase the most important or heaviest tripod
    form of hosting use. Here you are able to shop by theme or browse a complete selection of themes in case
    you are sill unsure on the to base the party.

  16. The art of ghazal singing has were able to entice millions across the globe.
    These guides let you practice when you are ready and have the time to do so.
    You need a special connector typically referred to as a Fire wire
    or sometimes known just as one IEEE 1394 high band connector.

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


url and counting visits