सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

अर्जुनपुर – बड़ागांव के बीच रामगंगा नदी पर पुल का शीघ्र होगा निर्माण

सवायजपुर विधानसभा क्षेत्र के हरपालपुर ब्लॉक में अर्जुनपुर से बड़ागांव के बीच रामगंगा नदी पर 1441.40 मीटर लम्बे पुल का निर्माण वर्षान्त तक प्रारम्भ हो सकता है। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी और उप मुख्यमंत्री/पीडब्ल्यूडी मंत्री केशव प्रसाद मौर्या से ऐसा ठोस आश्वासन लेकर लौटे क्षेत्रीय विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह ‘रानू’ ने आज पत्रकार वार्ता में यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा क्षेत्र में 102 सम्पर्क मार्गों के अनुरक्षण/मरम्मत के अनुरोध पर 35 को मंजूरी मिल गई है और बाकी को बाद में मिल जाएगी। इसके अलावा 79 नए सम्पर्क मार्गों और 56 अन्तरसम्पर्क मार्गों के निर्माण का प्रस्ताव सरकार को दिया है।

विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह, सदर सांसद अंशुल वर्मा और फर्रूखाबाद सांसद मुकेश राजपूत के साथ आज पीडब्लूडी गेस्ट हाउस में पत्रकारों से मुख़ातिब थे। विधायक ने बताया कि अर्जुनपुर-बड़ागांव के बीच रामगंगा नदी पर पुल निर्माण के पीछे के भावनात्मक और विकासगत कारणों को उन्होंने योगी और मौर्या के सामने रखा। दोनों नेताओं ने उनकी बात को संवेदनशीलता से लिया और दिसम्बर तक पुल निर्माण की स्वीकृति का आश्वासन दिया। विधायक ने कहा कि पुल निर्माण के लिए पंचनद विकास संघर्ष समिति लम्बे अरसे से संघर्ष कर रही है। हरपालपुर ब्लॉक प्रधान संघ की पूर्व अध्यक्ष सीमा मिश्रा पुल निर्माण होने तक सुहाग चिन्ह तजने का संकल्प लिए हुए हैं। विधायक ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि इसी बरस पुल निर्माण को मंजूरी मिल जाएगी और उसकी आधारशिला सीमा मिश्रा रखेंगी।

सदर सांसद अंशुल वर्मा ने कहा कि 2014 में निर्वाचित होने के बाद से ही वह पुल निर्माण को लेकर प्रयासरत रहे। लोकसभा की बैठकों में लगातार मुद्दे को उठाते रहे। केन्द्र सरकार इस दिशा में अपना अंशदान देने को तैयार थी, लेकिन प्रदेश की पूर्ववर्ती सरकार ने प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दी। अब जब प्रदेश में भी भाजपा की सरकार है, तब अड़चन दूर हुई है। इस दिशा में उन्होंने केन्द्रीय जल संसाधन मन्त्री साध्वी उमा भारती से भेंट की थी। उन्होंने पुल निर्माण के लिए केन्द्रीय अंशदान की स्वीकृति की बात कही है। सांसद ने कहा कि पूरा भरोसा है कि साल के अन्त तक पुल निर्माण शुरू हो जाएगा और कटियारी की साध पूरी होगी। कहा कि हम जन प्रतिनिधि तो महज माध्यम होंगे, लेकिन इसका श्रेय उनको जाएगा जिन्होंने पुल निर्माण के लिए अपने को संघर्ष की भट्ठी में तपाया।

फर्रूखाबाद के सांसद मुकेश राजपूत ने कहा कि अर्जुनपुर-बड़ागांव के बीच रामगंगा नदी पर पुल निर्माण बनने से दोनों जनपदों के बीच विकास का एक आर्थिक गलियारा विकसित होगा। शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहूलियतें मिलेंगी। फर्रूखाबाद की लखनऊ से दूरी कम होगी। फर्रूखाबाद का प्रसिद्द बौद्ध तीर्थ स्थल संकिसा हरदोई और लखनऊ जनपद से सीधे जुड़ जाएगा। यही वजह रही कि पुल निर्माण की दिशा में उन्होंने अंशुल वर्मा के साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर साथ दिया, सभी फोरम पर।

विधायक माधवेन्द्र प्रताप सिंह ने क्षेत्र में सड़कों, पुल-पुलियों, नलकूपों, स्कूलों, अस्पतालों, साण्डी व पाली की उप कृषि मण्डियों के उच्चीकरण, विद्युतीकरण, पेयजल और क्रीड़ा स्थल आदि के प्रस्ताव सम्बन्धित विभागों को देने का ब्यौरा दिया। पत्रकार वार्ता में भाजपा के निवर्तमान जिलाध्यक्ष राजीव रंजन मिश्रा, जिला उपाध्यक्ष आज़ाद भदौरिया, जिला महामन्त्री रामचन्द्र सिंह राजपूत, आप और हम चेतना मंच संयोजक कमलेश पाठक, भाजयुमो जिलाध्यक्ष ठाकुर सन्दीप सिंह, प्रीतेश दीक्षित, विवेक प्रताप सिंह और आदेश सिंह आदि मौजूद रहे।

-अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस वार्ता