बांग्लादेश ने भारत को ‘आइ०सी०सी० अण्डर-19 विश्वकप क्रिकेट टूर्नामेण्ट’ में पराजित किया

भाषाविद्-समीक्षक डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

● आइ०सी०सी० अण्डर-19 विश्वकप क्रिकेट-टूर्नामेण्ट २०२० का फाइनल मैच

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

पोटचेपस्ट्रम (दक्षिणअफ़्रीका) में आज (९ फ़रवरी) भारत-बांग्लादेश के मध्य ‘आइ०सी०सी० अण्डर-19 विश्वकप क्रिकेट’ फाइनल की प्रतियोगिता हुई, जिसमें टॉस हारकर पहले बल्लेबाज़ी करते हुए, भारत ने ५० ओवरों में मात्र १७७ रन बनाये थे। यशस्वी जायसवाल को छोड़कर सभी भारतीय बल्लेबाज़, विशेषकर मध्यम-क्रम के बल्लेबाज़ पूरी तरह से असफल रहे। विकेट गेंदबाज़ों की मदद कर रही थी; परन्तु भारतीय बल्लेबाज़ गेंद के स्वभाव को परखे बिना शॉट लगा रहे थे, परिणामत: मात्र १७७ रनों पर ढेर हो गये। यशस्वी जायसवाल ही एक ऐसे खिलाड़ी रहे, जो गेंदों की योग्यता को समझते हुए बल्लेबाज़ी कर सर्वाधिक रन बनाये थे। बहुत कम स्कोर को देखते हुए भारतीय गेंदबाज़ों को धैर्य और बुद्धिमत्ता के साथ गेंदबाज़ी करनी चाहिए थी; परन्तु गेंदबाज़ों ने बड़ी संख्या में ‘वाइड बॉल’ किये थे और कुछ ‘नो बॉल’ भी। इस तरह से क्षेत्ररक्षण करते हुए भारत ने अतिरिक्त रनों के रूप में ३३ रन दिये थे। भारत के हाथों से एक आसान कैच करने और एक रन-आऊट करने के अवसर हाथों से फिसल चुके थे। स्पिन गेंदबाज़ रवि विश्नोई ने ४ विकेट लेकर भारत को मैच में वापस लाया था; परन्तु उनका साथ देनेवाला कोई गेंदबाज़ नहीं दिख रहा था।

दूसरी ओर, बांग्लादेशी बल्लेबाज़ों ने आरम्भ में आक्रामक बल्लेबाज़ी की थी। उसके जब पाँच विकेट गिर गये थे तब उसके बल्लेबाज़ धैर्यपूर्वक खेलते नज़र आये; क्योंकि विजयश्री उसकी डेहरी के समीप पहुँच चुकी थी। इस तरह उसके ७ विकेट गिर चुके थे। वर्षा ने मैच को बाधित भी किया था। यह कारण भी बांग्लादेश के पक्ष में रहा। अन्तत:, बांग्लादेश ३ विकेटों से जीत कर चैम्पियन बन चुका था। इस तरह से पहली बार फाइनल में पँहुचनेवाला बांग्लादेश फाइनल-विजेता बन चुका है। भारत के स्पिन गेंदबाज़ रवि विश्नोई ने फाइनल में ४ विकेट लिये थे और इस पूरे टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक १७ विकेट लेकर उन्होंने कीर्तिमान स्थापित किया है। यशस्वी को इस टूर्नामेण्ट में सर्वाधिक ४०० रन बनाने के लिए ‘प्लेयर ऑव़् द टूर्नामेण्ट’ का पुरस्कार दिया गया था।

(सर्वाधिकार सुरक्षित– डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; ९ फ़रवरी, २०२० ईसवी)

url and counting visits