रामलला श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में मन्दिर हेतु हुआ भूमि पूजन

भाजपा के कद्दावर नेता व मध्यप्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का निधन

लखनऊ, 21 जुलाई :

मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का मंगलवार सुबह निधन हो गया ।

वह राजधानी के मेदांता अस्पताल में भर्ती थे । मेदांता अस्पताल के निदेशक डा. राकेश कपूर ने ‘भाषा’ से कहा, ”मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का सुबह पांच बजकर 35 मिनट पर निधन हो गया ।”

टंडन के बेटे, जो उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं, आशुतोष टंडन ‘गोपाल जी’ ने जानकारी दी कि टंडन का अंतिम संस्कार गुलाला घाट, चौक में शाम साढे चार बजे होगा ।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टंडन के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा, ”लालजी टंडन के निधन पर देश ने एक लोकप्रिय जननेता, योग्य प्रशासक एवं प्रखर समाजसेवी को खोया है । लालजी टंडन लखनउ के प्राण ही थे ।”

राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश सरकार ने तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है ।

लालजी टंडन को पिछले महीने 11 जून को सांस लेने में दिक्कत, बुखार और पेशाब की समस्या के चलते अस्पताल में भर्ती किया गया था ।

लालजी टंडन की तबीयत खराब होने के कारण उत्तर प्रदेश की राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल को मध्‍य प्रदेश का अतिरिक्‍त कार्यभार सौंपा गया था ।

1962 में शुरू किया था अपना राजनीतिक सफर

लखनऊ चौक के रहने वाले लालजी टंडन बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं में शुमार थे। वह कई बार उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री भी रहे थे। टंडन 1962 में लखनऊ नगर निगम के सदस्य चुने गए थे और नगर निगम में ही वह भारतीय जनसंघ सभासद दल के नेता रहे थे। इसके बाद भारतीय जनसंघ की लखनऊ इकाई के अध्यक्ष रहने के बाद वह आपातकाल के दौरान 19 महीने तक जेल में भी रहे। 

टंडन 1978 में पहली बार उत्तर प्रदेश की विधान परिषद के लिए चुने गए और इसके बाद भी वह इस सदन के लिए निर्वाचित होते रहे। उन्होंने उत्तर प्रदेश में बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकारों में कई अहम ओहदों की जिम्मेदारी भी संभाली। टंडन 2009 में 15 वीं लोकसभा के सदस्य चुने गए थे।

url and counting visits