सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

भारतीय महिला शांति सैनिकों की सबसे बड़ी पलटन तैयार, यूएन मिशन को देंगी सेवा

संयुक्त राष्ट्र अंतरिम सुरक्षा बल (UNISFA) में भारतीय बटालियन के हिस्से के रूप में भारत आज सूडान के अबेई क्षेत्र में महिला शांति सैनिकों की एक पलटन को तैनात करने के लिए तैयार है। सरकार ने गुरुवार को कहा कि सूडान-दक्षिण सूडान सीमा पर स्थित शत्रुतापूर्ण अबेई क्षेत्र में तैनात संयुक्त राष्ट्र अंतरिम सुरक्षा बल को सौंपी गई बटालियन के हिस्से के रूप में भारत शांति सैनिकों की एक महिला-केवल पलटन को तैनात करेगा।

संयुक्त राष्ट्र में देश के स्थायी मिशन के एक बयान में कहा गया है कि दल – जिसमें दो अधिकारी और विभिन्न रैंकों के 25 सैनिक शामिल होंगे। संयुक्त राष्ट्र मिशन के बाद से महिला शांति सैनिकों की सबसे बड़ी एकल इकाई होगी।

2007 में भारत संयुक्त राष्ट्र शांति मिशन के लिए पूरी तरह से महिलाओं की टुकड़ी को तैनात करने वाला पहला देश बन गया। लाइबेरिया में गठित पुलिस यूनिट ने 24 घंटे गार्ड ड्यूटी प्रदान की राजधानी मोनरोविया में रात्रि गश्त की और लाइबेरिया पुलिस की क्षमता बनाने में मदद की।

दुनिया भर में होती है सराहना:
पिछले महीने विदेश मंत्री एस० जयशंकर ने साइप्रस की यात्रा के दौरान संयुक्त राष्ट्र के साथ काम करने वाले भारतीय शांति सैनिकों की भूमिका की सराहना की थी। तस्वीरों को ट्वीट करते हुए उन्होंने कहा संयुक्त राष्ट्र के झंडे के नीचे काम करने वाले भारतीय शांति सैनिकों की दुनिया भर में सराहना की जाती है। एक आंकड़े के अनुसार भारत लगभग 6,000 कर्मियों के साथ संयुक्त राष्ट्र मिशनों में दूसरा सबसे बड़ा योगदानकर्ता है। कुल मिलाकर दो लाख से अधिक भारतीयों ने संयुक्त राष्ट्र के 71 शांति अभियानों में से 49 में सेवा की है जो 1948 से दुनियाभर में स्थापित किए गए हैं।

(रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी)