पति के मामू ने किया बलात्कार, पीड़िता ने डीजीपी से की शिकायत

दूषित पानी की समस्या देखने पहुँचे नोडल अधिकारी

बदायूँ: ऐसा कहा जाता है कि जल ही जीवन है, मगर विकास खण्ड उझानी के गांव नरऊ में जल लोगों के लिए जानलेवा साबित हो रहा है। दरअसल यहां के लोग दूषित पानी पीने को मजबूर हैं। नगर पालिका उझानी का दूषित पानी गांव के पास तालाब में काफी दिनों से इकट्ठा हो रहा है, जिसके कारण नलों में भी दूषित पानी आने लगा है। जलनिगम ने जांच की तो उसमें कई प्रकार की कमियां पाई गईं, जिससे ज्ञात हुआ कि यह पानी पीने योग्य ही नहीं है।

रविवार को आयुक्त बरेली मण्डल बरेली एवं जनपद के नोडल अधिकारी रणवीर प्रसाद ने जिलाधिकारी कुमार प्रशान्त, मुख्य विकास अधिकारी निशा अनंत ने जल समस्या का जायजा लिया। नोडल अधिकारी ने कहा कि दूषित पेयजल से संक्रामक रोग होने की ज्यादा संभावना रहती है। इस कारण बरसात और गर्मी में दूषित जल से रोगियों की तादाद बढ़ जाती है। अधिकतर बीमारियों की वजह गंदा पानी है।

गांव की समस्या को दृष्टिगत रखते हुए नोडल अधिकारी ने जिला विकास अधिकारी चन्द्रशेखर को निर्देश दिए कि तालाब से दूर अधिक गहराई वाले ट्यूबवैल की व्यवस्था करें, जिससे ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मुहैया हो सके। गांव में क्लोरीन की गोली भी बांटी जाए एवं इसका प्रयोग भी बताया जाए। गोबर आदि सड़कों पर न डाला जाए, साफ-सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए।

url and counting visits