मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

हमारे दो गोई बैल!

September 26, 2022 0

हमारे गांव बरी वाले घर में दो गोई (जोड़ी) यानी कुल चार बैल हुआ करते थे। बड़ी वाली गोई ‘बछौना’ (जब बछवा यानी बच्चा था, तभी खरीदा गया था इसलिए बछौना ) और ‘बड़ौना’ (थोड़ी […]

भादों वाला भद्दर प्यार

September 25, 2022 0

(एक काल्पनिक कहानी) बचपन की बात है। एक बार ऐसे ही झमाझम बारिश हो रही थी और मुझे जोर से ‘दो नंबर’ लग आई। तब घरों में शौचालय नहीं हुआ करते थे इसलिए मैं छाता […]

निजीकरण के दौर मे टारगेट अचीव करना ही एक लक्ष्य

September 23, 2022 0

आजकल निजीकरण का दौर है। इसलिए सबको टारगेट अचीव करना पड़ता है। नहीं तो व्यक्ति को ‘फ्लावर’ देने की जगह ‘फायर’ कर दिया जाता है। बहुत पहले नहीं, बस आज से दो-तीन दशक पहले तक […]

कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के जाने का तात्पर्य

September 22, 2022 0

मैं कल से ही सोच रहा हूं कि स्टैंड अप कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव के जाने का इतना दुख क्यों है?😢😢क्या इसलिए कि वह हास्य कलाकार थे? लेकिन हास्य कलाकार तो सेकुलर कपिल शर्मा और जिहादी […]

क्या हिंदी सिर्फ लड़कियों या पढ़ाई में कमजोर छात्रों की भाषा है?

September 14, 2022 0

1984 की बात है। ‘बड़ा पेड़’ गिरने के बाद धरती हिलकर लगभग शांत हो चुकी थी। मैं पापा के साथ मुंबई घूमने गया था, अपने नाना के घर। चूंकि उन दिनों किसी घर का दामाद […]

विश्वास ही सबसे कारगर इलाज़ है, डॉक्टर और दवाएं तो निमित्त मात्र हैं

September 11, 2022 0

लगभग तीन दशक पहले की बात है। मैं 12 वीं कक्षा में पढ़ता था। हमें लालगंज बैसवारा में रहते हुए 4-5 साल हो गए थे। इसलिए अब तक सब कुछ तय सा हो गया था। […]

श्री हरिद्वार सिंह जैसे तमाम गुरुजनो को शिक्षक दिवस पर हार्दिक नमन

September 5, 2022 0

विनय सिंह बैस : श्री हरिद्वार सिंह (पूर्व प्रधानाध्यापक, इंटर कॉलेज विष्णुखेड़ा) पापा के सहकर्मी और घनिष्ठ मित्र थे। मेरे लिए भी वह गुरु और पितातुल्य दोनो थे। पापा के साथ 15 अगस्त और 26 […]

हरितालिका व्रत का पालन

August 31, 2022 0

हरितालिका व्रत का पालन भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को सधवा महिलाओं द्वारा पति की लंबी उम्र और कुंवारी लड़कियों द्वारा सुंदर, सुशील, धनवान वर की कामना हेतु किया जाता है। चूंकि इस व्रत […]

Justice For Ankita : सेक्युलरिज्म की बहुत बड़ी कीमत चुका रहे हैं हम

August 30, 2022 0

फ़ोटो में झारखंड के दुमका में एक हिंदू किशोरी की नृशंस हत्या करने वाले इस मजहबी नराधम के चेहरे पर पुलिस की कस्टडी में भी विजयी और कुटिल मुस्कान इसलिए है क्योंकि:- इसे पता है […]

हॉकी के बेताज बादशाह की दर्द भरी दास्तान

August 29, 2022 0

पिछले कई दशकों से खेलों विशेषकर हॉकी में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फिसड्डी होने के जिम्मेदार हम खुद ही रहे हैं। क्या आपको पता है कि जिस खिलाड़ी के नाम पर “राष्ट्रीय खेल दिवस” मनाया जाता […]

विश्व के सबसे बड़े वर्चुअल कवि सम्मेलन के तीसरे दिन चेतनाप्रकाश चितेरी ने किया काव्यपाठ

August 25, 2022 0

बुलंदी साहित्यिक संस्था द्वारा आयोजित विश्व के सबसे बड़े वर्चुअल कवि सम्मेलन के तीसरे दिन देश – विदेश के कवियों ने अपनी उत्कृष्ट रचनाओं से श्रोताओं का मन मोह लिया । विश्व के इस सबसे […]

करिश्माई भाजपा नेता अरुण जेटली की तीसरी पुण्यतिथि पर नमन

August 25, 2022 0

अगस्त का महीना एनडीए सरकार और भाजपा के लिए कुछ ज्यादा ही उल्लेखनीय रहा है। जहाँ एक ओर अनुच्छेद 370 की समाप्ति, राम मंदिर का शिलान्यास जैसे युगान्तकारी कार्य अगस्त के महीने में हुए । […]

भक्तों को उनके भगवान् भी न बचा सके!

August 20, 2022 0

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय १९ अगस्त को “आ बैल! मार मुझे” की कहावत चरितार्थ होती दिखी; और वह भी ‘भगवान्’ के दरबार मे। इसके लिए पूरी तरह से राज्य-शासन और ज़िला-प्रशासन उत्तरदायी है। जब […]

यादें : पता नहीं! किन कारणों से आज़ाद, भगत सिंह, रोशन सिंह आदि क्रांतिकारियों के बारे मे ज्यादा नहीं बताया जाता था

August 15, 2022 0

बचपन के स्वतंत्रता दिवस की कुछ धूमिल यादें अब भी मन-मस्तिष्क में हैं! हमारे विद्यालय प्राथमिक पाठशाला बरी में प्रधानाध्यापक श्री अवधेश बहादुर सिंह हुआ करते थे। श्री देव नारायण सिंह, श्री अयोध्या सिंह शिक्षक […]

जिधर देखो उधर हमारी राष्ट्रीयता का अनादर!

August 11, 2022 0

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय देश के राष्ट्रध्वज का वस्त्र खादी का रहा है। इस सरकार ने उसे भी बदल दिया है। खद्दर हमारी राष्ट्रीय भावना का प्रतीक है। विदेशी वस्त्रों का बहिष्कार और उनका […]

शिवभक्तों की ग़ज़ब की आस्था; आइए! समझते हैं

August 9, 2022 0

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ● आज भक्तों की अपार भीड़ और सबसे पहले भगवान्-दर्शन करने की होड़ मे भगदड़ मचने से खाटूश्याम मे भक्तगण एक-दूसरे को रौंदते हुए बढ़ते रहे; ३ महिलाओं को भक्तों ने […]

सच्चे मित्रों की अहमियत!

August 7, 2022 0

तांबरम (चेन्नई) ट्रेनिंग सेंटर में हमारे एक ‘मित्र’ थे।नाम था—– खैर छोड़िए, शेक्सपियर कह गए हैं कि नाम में क्या रखा है? इसलिए चलो काम की बात करते हैं। काम की बात यह कि हमारे […]

दिल्ली वाला बिहारी!

August 6, 2022 0

आज दिल्ली में बारिश हुई तो लिट्टी-चोखा खाने का मन किया और मैं गोविंदपुरी मेट्रो स्टेशन के पास एक परिचित सनातनी दुकान पर रुककर लिट्टी चोखा खाने लगा। लिट्टी-चोखा वास्तव में स्वादिष्ट था। मैं तारीफ […]

1 2 3 31