स्वच्छता सर्वेक्षण में टॉप, लेकिन है गन्दगी का बॉस

‘सर्जनपीठ’ और ‘साहित्यांजलि प्रज्योदि’ के संयुक्त तत्त्वावधान में आयोजित बौद्धिक परिसंवाद

September 16, 2020 0

जीवन जीने की कला सिखाती हिन्दी मुख्य अतिथि के रूप में वरिष्ठ पत्रकार, विचारक तथा ज्योतिर्विद् रमाशंकर श्रीवास्तव ने कहा, “पठन-पाठन में हिन्दी भाषा की उपयोगिता और महत्ता हिन्दीभाषियों के लिए उतना ही आवश्यक है […]

देश की संसद् में ‘आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’ की प्रकारान्तर से जय-जयकार हुई

September 16, 2020 0

हमने सबसे पहले ‘सोसल डिस्टैंसिंग’ और ‘सामाजिक दूरी’ का मुखर विरोध करते हुए, स-तर्क ‘शारीरिक दूरी’ नामकरण किया था, जिसका हमारे ‘मुक्त मीडिया’ के सदस्यवृन्द ने स्वीकार भी किया था, वहीं अपने स्वभाव से विवश […]

सहर्ष घोषणा– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की आन्तर्जालिक पाठशाला

September 3, 2020 0

अब हमारी पाठशाला आन्तर्जालिक (ऑन-लाइन) रूप में शीघ्र प्रसारित होगी, जो हमारे सुविधानुसार संचालित होगी। पहला विषय– मौखिक और लिखित भाषा (लेखन-पठन-पाठन तथा उच्चारण)। ★ आप लिखते कुछ हैं और उच्चारण कुछ करते हैं। आप […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

September 2, 2020 0

समाचार-चैनल : ‘समाचार Plus’ का भाषिक अज्ञानइस चित्र को ध्यानपूर्वक देखिए। इसमें अंकित समाचार-शीर्षक को पढ़िए। पहली बात, यह समाचार-शीर्षक नहीं है, क्योंकि वही समाचार-शीर्षक उपयुक्त कहलाता है, जो क्रिया-रहित हो। यह तो एक वाक्य […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

August 31, 2020 0

★ कोश और कोष ‘कोश’ नैसर्गिक है, जबकि ‘कोष’ अनैसर्गिक/ कृत्रिम। आप ‘कोशिका’ का प्रयोग करते हैं; क्योंकि वह निसर्ग/ प्रकृति-जन्य है। आप उसे ‘कोषिका’ नहीं कह सकते। ‘कोष’ द्रव्यादिक से सम्बद्ध है। द्रव्यादिक नैसर्गिक […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

August 19, 2020 0

ऊपर दी गयी संस्थान की टीन-पट्टिका को ध्यानपूर्वक देखें। वह संस्थान ‘भरद्वाज-आश्रम’, प्रयागराज के सामनेवाले मार्ग पर स्थित है। टीन की यह पट्टिका वर्षों से संस्थान के प्रवेशद्वार के ऊपर लगी हुई है। इस संस्थान […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

August 13, 2020 0

कृपया निम्न टंकित चार शब्दों को गम्भीरतापूर्वक समझें। १- बाह्य— बाहरी, बाहर का, बाहर की ओर२- वाह्य— वहन (ढोने) करने-योग्य; जैसे– वाहन, वाहक आदिक।३- अन्तर्राष्ट्रीय— अपने राष्ट्र में होनेवाला; अपने राष्ट्र की भीतरी बातों से […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

August 4, 2020 0

——० संरचना-पक्ष ०—– ★ रचना— किसी भी उस पद्य अथवा गद्य-कृति को ‘रचना’ कहते हैं, जिसका प्रवाह नैसर्गिक होता है और सर्जन करने के लिए किसी का आश्रय नहीं लेना पड़ता। ★ लेख— किसी विषय […]

‘आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’ में जानिए ‘म्लेच्छ-भाषा’ क्या है?

July 23, 2020 0

‘म्लेच्छ-भाषा’ क्या है? अस्पष्ट भाषा/अपभ्रंश भाषा ‘म्लेच्छ-भाषा’ है। जिन वर्णों का उच्चारण व्यक्त न हो, वह ‘म्लेच्छ-भाषा’ कहलाती है। किरात, खस, बर्बर, पह्लव, पौण्ड्र, द्रविड, शक, शबर, सिंहल, यवन आदिक जातियाँ-जनजातियाँ- बर्बर जातियाँ ‘म्लेच्छ’ कहलाती […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

July 22, 2020 0

यहाँ उन शब्दों के प्रयोग के लिए अनुरोध किया गया है, जो शुद्ध हैं और उपयुक्त भी। कृपया अपने लेखन में उन शुद्ध शब्दों को स्थान देकर समाज का भाषिक मार्गदर्शन करें। ★ ‘प्रावधान’ के […]

देश के समस्त दोहाकारों से प्रश्न

July 19, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ‘क्ष’, ‘त्र’, ‘ज्ञ’ आदिक अक्षर यदि संयुक्ताक्षर हैं तो दोहा-संरचना में ‘दो मात्राओं’ की गणना क्यों नहीं? जब संयुक्ताक्षर के उच्चारण में दो प्रकार की ध्वनि का सम्मिश्रण है तब […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

July 18, 2020 0

जिन्होंने पी०सी०एस०-साक्षात्कार परीक्षा में हमारे विद्यार्थियों से प्रश्न किया है– मुख्यमन्त्री शब्द से पहले ‘श्री’ लगेगा अथवा नहीं, उनसे हमारा प्रश्न है– उत्तरप्रदेश के मुख्यमन्त्री का नाम हमने नीचे लिखा है। आपको इनमें से शुद्ध […]

सीखने-सिखाने की ‘सामर्थ्य’ जाग्रत कीजिए

July 17, 2020 0

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ‘भाषापरिष्कार-समिति’ केन्द्रीय कार्यालय, प्रयागराज। शब्द : भारी बहुमत से; प्रचण्ड बहुमत से; बहुत भारी बहुमत से; भयंकर बहुमत से ये सभी शब्द अब सार्वजनिक सम्पत्ति बन चुके हैं; ज़ाहिर है, ‘पंचायती […]

‘आचार्य पं॰ पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’ में आज सीखें किसी भी प्रकार की ‘लेखन’ और ‘रचना’ कैसे करें?

July 13, 2020 0

प्रथमत: ‘लेखन’ और ‘रचना’ की वस्तुपरकता और विषयपरकता पर दृष्टिनिक्षेपित करना अत्यावश्यक है। इन दोनों शब्दों की अर्थ, अवधारणा तथा परिभाषा में भिन्नता है। ‘लेखन’ तो किसी भी प्रकार का हो सकता है; परन्तु ‘रचना’ […]

देश की समाचार-चैनलों और समाचारपत्र-पत्रिकाओं का नंगा सच!

July 11, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ‘भाषा-परिष्कार-समिति’केन्द्रीय कार्यालय, इलाहाबाद! अब अनिवार्य हो गया है, देश के मीडिया-तन्त्र (मुद्रित-वैद्युत) में प्रत्येक स्तर पर काम करनेवाले-वालियों संवाददाताओं, समाचारलेखकों, समाचारवाचकों, सम्पादकों, प्रधान सम्पादकों, प्रूफ़-संशोधकों उद्घोषकों, सूत्रधारों आदिक के लिए […]

‘आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’

June 29, 2020 0

आइए! शब्द-मन्थन कर, शब्द-सामर्थ्य अर्जित करें। ★ शब्द है— ‘आयाम’। प्राय: हमारे अधिकतर अध्यापक, विद्वज्जन, साहित्यकार, समीक्षक, मीडियाकर्मी आदिक ‘आयाम’ का अनुपयुक्त प्रयोग करते-कराते आ रहे हैं— चाहे वह वाचिक हो अथवा लिखित हो; फलत:, […]

कौशाम्बी : सूर्यग्रहण में सूर्य दिखा द्वितीया के चाँद की तरह

June 21, 2020 0

साल 2020 का पहला और अकेला सूर्य ग्रहण आज 21/06/2020 को ( उत्तर प्रदेश ) कौशाम्बी जिले मे लोगों ने देखा । बादलों और रिमझिम बारिश के बीच अचानक थोड़ी देर के लिए अर्ध चन्द्राकार […]

भाषा-शुचिता की ओर ‘दैनिक जागरण-परिवार’ के बढ़ते चरण

June 21, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ‘दैनिक जागरण-परिवार’ ने ‘हिंदी हैं हम’ के अन्तर्गत हमारी भाषा-शुचिता अभियान को गति देते हुए, ‘शहीद-शहादत’ तथा ‘शहीद की पत्नी’ के स्थान पर हमारी भारतीय संस्कृति, परम्परा तथा मूल्यबोध से […]

1 2 3 18
url and counting visits