ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

February 21, 2021 0

भाषा व्यक्तित्व को निखारती है और उसमें एक सुखद आकर्षण भी उत्पन्न करती है। आइए! अपने व्यक्तित्व को सँवारें। सौन्दर्य और सौन्दर्य-बोध की अवधारणा — कोई भी कविता ‘सुन्दर’ अथवा ‘nice’, ‘beautiful’, ‘great’ नहीं होती […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

February 19, 2021 0

कल (२० फ़रवरी) शनिवार रहेगा। ‘दैनिक जागरण-परिवार’ की शनिवासरीय प्रस्तुति ‘भाषा की पाठशाला’ में आप कल अनेक ऐसे शब्दों का अध्ययन करेंगे, जिनका ‘आप सभी’ अभी तक अशुद्ध अर्थ जानते-मानते-समझते तथा व्यवहार करते आ रहे […]

कान पकाती सदाबहार ज़ुम्लेबाज़ी

February 6, 2021 0

★ आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय आरोपी (यहाँ शुद्ध और उपयुक्त शब्द ‘आरोपित’ है।) पकड़ लिये गये हैं; गिरफ़्तारी (शुद्ध शब्द ‘गिरिफ़्तारी’ है।) हो गयी है; निलम्बित किये गये हैं; जाँच के आदेश दे दिये गये […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

January 31, 2021 0

◆ प्रतियोगिता-प्रकोष्ठ ● प्रतियोगिता– एक ★ विषय– ‘प्रथम’ गत मास हमने इस आशय की सूचना सम्प्रेषित की थी कि इस पाठशाला की ओर से निकट भविष्य में एक ‘प्रतियोगिता-शृंखला’ का आयोजन किया जायेगा, जो कि […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

January 28, 2021 0

★उत्तरप्रदेश-विधानसभा समूह ‘ख’ की परीक्षा पर प्रश्नचिह्न★’हिन्दी-भाषा’ के प्रश्नपत्र तैयार करनेवालों की अयोग्यता सामने आयी विद्यार्थी किसी भी परीक्षा में इसलिए सम्मिलित होते हैं कि उनका परिश्रम सार्थक हो और वे परीक्षा की कसौटी पर […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

January 15, 2021 0

★ आप ‘कितने’ पानी में हैं, टटोलिए! १- आपके घर के ठीक पीछेवाले घर से, दायीं ओर से चौथा घर किसका है ?२ – आप घर से जब नित्य जिस विद्यालय में अथवा जिस कार्यालय […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

January 11, 2021 0

”देखिए! ये हसीं शाम ढलने को है,अब तो जाने की इजाज़त दे दो मुझे।” यह युगल गीत ‘राज़’ फ़िल्म का है, जिसे लता मंगेश्कर जी और मुकेश जी ने गाये हैं। यहाँ पर दो विचारणीय […]

‘शब्दशिल्प-संस्कार’ की उपयोगिता-महत्ता को समझें

January 2, 2021 0

•••••••••••••••••••••••••••••••हमारा सांस्कृतिक-सामाजिक वैभव कैसे लुप्त हुआ? ★आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय हमने जब अँगरेज़ी तिथि, माह तथा वर्ष अङ्गीकार कर लिये हैं अथवा उनका व्यवहार करने के लिए व्यवस्था बना दी गयी है तब उन्हें ‘आङ्गल’ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

December 30, 2020 0

■ म्लेच्छ-भाषा– अर्थ, अभिप्राय तथा अवधारणा अस्पष्ट भाषा/अपभ्रंश भाषा ‘म्लेच्छ-भाषा’ है। जिन वर्णों के उच्चारण व्यक्त न हों, वे ‘म्लेच्छ-भाषा’ कहलाती हैं। किरात, खस, बर्बर, पह्लव, पौण्ड्र, द्रविड, शक, शबर, सिंहल, यवन इत्यादिक जातियाँ-जनजातियाँ-बर्बर जातियाँ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

December 19, 2020 0

★ शब्द-विचारज़िम्म:दार-ज़िम्म:वार— सही शब्द ‘ज़िम्म:दार’ और ‘ज़िम्म:वार’ है। अब प्रयोग के धरातल पर वही ‘जिम्मेदार’ और ‘जिम्मेवार’ बन गया है। दोनों ही ‘अरबी’ शब्द हैं। दोनों का एक ही अर्थ है। ज़िम्मा में क्रमशः ‘दार’ […]

‘आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला’ की ओर से सर्वसामान्य के लिए सूचना

December 17, 2020 0

•••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••••आप ‘दैनिक जागरण’, ‘नई दुनिया’ तथा ‘नव दुनिया’ में ‘हिंदी हैं हम’ के अन्तर्गत प्रकाशित होनेवाले साप्ताहिक (शनिवासरीय) स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ के लिए उन शब्दों को हमारे भेज सकते हैं, जिनके प्रयोग को लेकर […]

‘आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की प्रायोगिक पाठशाला’

December 11, 2020 0

◆ नीचे दिये गये ‘चित्र’ को गम्भीरतापूर्वक देखें।■ न हिन्दी और न ही अँगरेजी का बोध!‘बस-विभाग’ की मूढ़ता अथवा ‘वाराणसी विकास प्राधिकरण’ का प्रमाद कहा जाये– न हिन्दी का संज्ञान और न ही अँगरेज़ी का […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

December 5, 2020 0

■ ‘विरामचिह्नों के प्रयोग वाक्य में स्पष्टता लाने के लिए, अर्थात् अर्थ का भाव प्रकट करने के लिए विराम-चिह्नों के प्रयोग अनिवार्य माने गये हैं। निस्सन्देह, विरामचिह्न की स्वतन्त्र सत्ता नहीं होती; परन्तु महत्ता अवश्य […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 27, 2020 0

कल (२८ नवम्बर) शनिवार रहेगा और आपको देश के शीर्षस्थ दैनिक हिन्दी-समाचारपत्र ‘दैनिक जागरण’ और मध्यप्रदेश के पाठकप्रिय दैनिक हिन्दी-समाचारपत्र ‘नई दुनिया’ के कल के अंक में अतीव उपयोगी साप्ताहिक स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ (‘सप्तरंग’ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 26, 2020 0

निर्देश– नीचे दिये गये प्रश्नों में पाँच शब्द अंकित हैं और उत्तर के रूप में उनके विकल्प भी। आप प्रश्न-प्रकृति को समझते हुए, दिये गये शब्दों के शुद्ध और उपयुक्त अर्थ बताइए।१- परिरम्भ :–(क) गाढ़ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 20, 2020 0

कल (२१ नवम्बर) शनिवार रहेगा और आपको देश के शीर्षस्थ दैनिक हिन्दी-समाचारपत्र ‘दैनिक जागरण’ और मध्यप्रदेश के पाठकप्रिय दैनिक हिन्दी-समाचारपत्र ‘नई दुनिया’ के कल के अंक में अतीव उपयोगी साप्ताहिक स्तम्भ ‘भाषा की पाठशाला’ (‘सप्तरंग’ […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 14, 2020 0

शुद्ध और उपयुक्त शब्द-प्रयोग :– दीपावली-दीवाली, दीया-दिया, प्रज्वलन, अधिकांश-अधिकतर, अवतरण-जन्म। ★ दीपावली-दीवाली– इन दोनों ही शब्द-प्रयोग को लेकर लोग भ्रम और संशय की स्थिति में रहते हैं। यही कारण है कि कुछ लोग ‘दीपावली’ तो […]

परीक्षा नियामक प्राधिकारी, उत्तरप्रदेश के हिन्दी-प्रश्नपत्र में लज्जाजनक अशुद्धियाँ!..?

November 9, 2020 0

● भाषाविद्-समीक्षक आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ने चिन्ता जतायी परीक्षा नियामक प्राधिकारी, उत्तरप्रदेश की ओर से 6 अक्तूबर को करायी गयी द्वितीय सेमेस्टर– 2020 के हिन्दी-विषय की परीक्षा; प्रश्न-पुस्तिका ‘।।-6’ में ऐसी-ऐसी अशुद्धियाँ देखने को […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 7, 2020 0

◆ निम्नांकित शब्द उत्तरप्रदेश के आंचलिक बोली-व्यवहार के अन्तर्गत आते हैं। आंचलिक शब्दों का कोई ‘सर्वमान्य’ व्याकरण नहीं है, इसीलिए स्थानिक भाषा का कोई स्वतन्त्र व्याकरण नहीं होता और उन्हें ‘बोली’ का नाम दे दिया […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की पाठशाला

November 5, 2020 0

किशोर अजनानी की ‘सौ बात की एक बात’ का सचये हैं, किशोर अजनानी। ये वही साहिब हैं, जो समाचार-चैनल ‘News 18 इंडिया’ पर प्रतिरात्रि-दिन ‘सौ बात की एक बात’ के अन्तर्गत विविध प्रकार के समाचार […]

1 2 3 7
url and counting visits