अपराध का ‘विकास’ अब बन कर रह गया ‘इतिहास’

July 10, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय लगभग तीन दशकों तक उत्तरप्रदेश में ‘आतंक’ का पर्याय बना रहा, कानपुर के आठ पुलिसकर्मियों की निर्मम हत्या का मुख्य आरोपित कानपुर का विकास दुबे एक बहुत ही नाटकीय अन्दाज़ […]

विकास दुबे का क़ुबूलनामा– मैं सभी पुलिसवालों की हत्या कर उन्हें एक साथ जलाकर साक्ष्य मिटाना चाहता था

July 9, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय मध्यप्रदेश की पुलिस का कहना है– हमने विकास दुबे को आधिकारिक रूप से गिरिफ़्तार नहीं किया है। ऐसे में, प्रश्न है– विकास दुबे को गिरिफ़्तार किया गया था अथवा शासन […]

विकास दुबे-प्रकरण– माता-पिता के विरोधाभास बयान

July 5, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय विकास दुबे की माता जी सरला दुबे कहती हैं– मेरा बेटा अपराधी है; आतंकी है, उसका ‘एनकाउण्टर’ कर दीजिए। मैंने उसे बहुत समझाया कि अपराध की दुनिया छोड़कर शरीफ़ का […]

काग़ज़ी कोरोना योद्धाओं को ‘प्रमाणपत्र’ देनेवालों और उन्हें लेनेवालों को धिक्कार है

July 5, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय —आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय (प्रयागराज) कोरोना-काल अभी समाप्त नहीं हुआ है। वास्तव में, जो कोरोना योद्धा हैं, उनका कहीं-कोई सम्मान नहीं और जो ‘छद्म’ कोरोना योद्धा हैं, उन्हें नाना […]

चीन को चारों ओर से घेरने की भारतीय रणनीति

July 3, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय — आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय भारत-चीन-सीमा पर आज (३ जुलाई) जाकर प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी का सीमा पर डटे भारत के सैनिकों से मिलना; घायल भारतीय सैनिकों को सुखद आश्वासन […]

उन्हें प्लाज़्मा चाहिए; किन्तु प्लाज़्मा क्या है, बताते नहीं

July 2, 2020 0

★ आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय देश के पाँच प्रतिशत लोग भी ‘प्लाज़्मा’ के बारे में नहीं जानते। वे मीडियाकर्मी भी नहीं जानते, जो समाचार-चैनल और समाचारपत्र-पत्रिकाओं के माध्यम से इस शब्द को सार्वजनिक कर रहे […]

न्यूइण्डिया की मोदी-सरकार के प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी का ‘राष्ट्र के नाम सन्देश’ की समीक्षा

June 30, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय प्रकारान्तर से नरेन्द्र मोदी ने अपने ‘लॉक-डाउन’ को ‘अनलॉक’ करने को ग़लत ठहराया है, तभी तो ‘अनलॉक- एक’ के परिणाम पर उन्होंने गहरी चिन्ता व्यक्त की है। दिखावे के लिए […]

उत्तरप्रदेश के विद्यालयों में हिन्दी-अध्ययन-अध्यापन की यह तस्वीर सच बोलना जानती है

June 29, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय — आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ‘हिन्दी’ विषय कितना आसान है, इसे उत्तरप्रदेश का एक ‘कुकुर’ भी जानता है; लेकिन वह ‘देवनागरी लिपि’ में भौंक नहीं पाता। हमारे देश जाना-माना […]

‘न्यूइण्डिया’ की शिक्षा को मुँह चिढ़ाती ‘गुरुकुल-शिक्षा’

June 27, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय — आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय एक वह समय था, जब पिंजरे में बैठा ‘भारत’ के गुरु-आश्रम का तोता संस्कृत के शताधिक श्लोकों को कण्ठस्थ कर लेता था; आतिथ्य/आतिथेयी का […]

विरोध के लिए ‘आयुर्वेद’ का विरोध

June 25, 2020 0

आरती जायसवाल (साहित्यकार, समीक्षक) इधर भारत में पतञ्जलि ने वैश्विक महामारी ‘कोरोना’ की आयुर्वेदिक औषधि बनाई और उधर हो-हल्ला। हो भी क्यों न? अभी विश्व के वैज्ञानिक/चिकत्सक खोज में लगे हैं और हमारे योग बाबा […]

आज 25 जून है, आपातकाल की घोषणा की पैंतालीसवीं बरसी

June 25, 2020 0

– डॉ. निर्मल पाण्डेय (इतिहासकार) आपातकाल भारतीय लोकतंत्र का न मिटाया जा सकने वाला काला अध्याय है, जिसपर कांग्रेस और उन्ही के धन-यश-सुविधा पर पलने वाले कम्युनिस्टों-सोशलिस्टों से इतर आज भारतवर्ष के लिए कृतसंकल्पित मानस […]

परीक्षा परिणामों से निराश हुए बिना प्रतिभा के आधार पर निर्धारित करें अपना लक्ष्य

June 24, 2020 0

आरती जायसवाल (साहित्यकार, समीक्षक) परीक्षा और परीक्षा परिणामों से निराश हुए बिना प्रतिभा के आधार पर अपने लक्ष्य का निर्धारण करें क्योंकि“परीक्षा परिणाम बच्चों द्वारा दी गई परीक्षा का आकलन होता है न कि उनके […]

तुम्हि असल्यावरति अम्हाँ काय हो उणें अर्थात तुम मिले तो और किस की इच्छा मुझे है

June 21, 2020 0

डॉ॰ निर्मल पाण्डेय (लेखक/इतिहासकार) महाप्रयाण से महीने भर पूर्व 11 मई 1940 को हुयी एक बैठक में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के आद्य सरसंघचालक डॉ. हेडगेवार ने समाज में कार्यकर्ताओं को किस प्रकार बर्ताव करना चाहिए […]

‘नाटो’ ने मनबढ़ चीन को घेरने की रणनीति बनायी

June 20, 2020 0

त्वरित टिप्पणी—— —आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय संयुक्त राज्य अमेरिका के प्रभाव में काम करनेवाले अति महत्त्वपूर्ण सैन्य गठबन्धन नाटो/नैटो– N.A.T.O. (नॉर्थ एटलाण्टिक ट्रीटी ऑर्गनाइज़ेशन) ने चीन की अतिवादी साम्राज्यवादी नीति को ध्वस्त करने के लिए […]

नृशंस और संवेदनहीन सरकार की निरंकुशता

June 16, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय आम जनता गऊ है, जैसा चाहो, दूहो, सोखो, नोचो-बकोटो और विरोध करने पर ‘राष्ट्रद्रोह’ का केस ठोंकवाकर जेल में ठूँसवा दो। देश की सरकार के […]

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की अपूर्ण आत्मकथा की अपूर्ण भूमिका

June 15, 2020 0

एक ‘विद्रोही’ की डायरी ”डंके की चोट पर” अन्त:करण से निकले शब्द महासागर के तटप्रान्त के निभृत निलय (एकान्त स्थान) पर जब स्वयं को खड़ा पाता हूँ तब जीवन का सच्चा पक्ष मेरे समक्ष आ […]

आचार और विचार का संघर्षण

June 14, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय — आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय देश के किसी भी सिद्धपीठ मन्दिर के देवी-देव से वरदान माँगने पर यदि उसकी पूर्णता हो जाती तो आज देश में कोई ग़रीब नहीं […]

कोरोना के चलते लॉकडाउन ने पर्यावरण को बदला, क्या लॉकडाउन विकल्प हो सकता है ?

June 5, 2020 0

राम वशिष्ठ (युवा चिन्तक व फिल्म निर्देशक) : यह ब्रह्मांड बहुत बड़ा है लेकिन जीवन केवल पृथ्वी पर है । सभी ग्रहों में पृथ्वी का पर्यावरण जीवन के अनुकुल है इसलिए इस ग्रह पर जीवन […]

Rotten Education, Examination and Evaluation Policy of U.P Board, C.B.S.E. , U.P.SC. etc.

June 3, 2020 0

◆ यह तथ्यपरक विचार उन सफ़ेदपोश आई० ए० एस० और पी० सी० एस० अधिकारियों के लिए है, जो वातानुकूलित और ऐश्वर्यमय कक्ष में बैठकर अनेक विशिष्ट सुविधाओं का भोग करते हुए, देश की शिक्षा-परीक्षानीति का […]

शिक्षा-परीक्षा को कलुषित और निरर्थक करती हमारी व्यवस्था

June 1, 2020 0

‘मुक्त मीडिया’ का ‘आज’ का सम्पादकीय —- आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय श्रमिक-वर्ग की बेकारी उतना चिन्त्य नहीं है जितना कि शिक्षित-वर्ग की। श्रमिक-वर्ग कहीं-न-कहीं सामयिक काम पाकर अपना जीवन-यापन कर लेता है; परन्तु शिक्षित-वर्ग जीविका […]

1 2 3 23
url and counting visits