मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

स्वामी विवेकानन्द ने मनसा-वाचा-कर्मणा लोक जनमानस में आत्माभिमान का अंकुरण किया

September 11, 2022 0

डॉ. निर्मल पाण्डेय (लेखक/ इतिहासकार) : 1893 का वर्ष- वैश्विक दृष्टि से एक अविस्मरणीय वर्ष। इस वर्ष एक ओर जहाँ शिकागो के विश्वधर्म सम्मेलन में विवेकानन्द ने हिन्दू धर्म दर्शन की सर्वसमावेशी स्वर्णिम गौरवशाली परम्परा […]

स्पोर्ट्स, मेडल और प्रमोशन : क्या सेना आज भी “काले अंगरेज़ों” की मुट्ठी मे है?

August 9, 2022 0

अंग्रेजी हुकूमत के दौरान सेना के लिए अंग्रेजों का एक ही नियम था- Welfare for officers, Discipline for jawans.”लेकिन ऐसा लगता है कि आज़ादी के 75 वर्ष बाद भी सेना पर यही नियम लागू हो […]

जिसे हम एसीपी अजय सिंह राठौर समझने की भूल करते रहे , वह वास्तव में गुलफाम हुसैन है

August 4, 2022 0

कभी आमिर खान का मैं जबरा फैन हुआ करता था। साल में केवल एक मूवी। और मूवी भी ऐसी कि जैसे उस मूवी के कैरेक्टर को खुद जीता था वह। मंगल पांडेय के लिए मूँछे […]

पुरस्कार-सम्मान का यथार्थदर्शन

August 4, 2022 0

● आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय दशकों पहले आधिकारिक विद्वान् और विषयज्ञाता को पुरस्कार से समलङ्कृत किया जाता था, तब उसके कर्तृत्व-विषय के प्रति एक जिज्ञासा उत्पन्न हो जाती थी; क्योंकि तब चयनकर्त्ता आधिकारिक हस्ताक्षर हुआ […]

प्रेमचन्द के उपन्यासों में सामाजिक यथार्थ की दृष्टि और सृष्टि

July 31, 2022 0

प्रेमचन्द की जन्मतिथि (३१ जुलाई) पर विशेष प्रस्तुति ‘सर्जनपीठ’, प्रयागराज के तत्त्वावधान में आज (३१ जुलाई) एक आन्तर्जालिक राष्ट्रीय बौद्धिक परिसंवाद का आयोजन किया गया। प्रेमचन्द की जन्मतिथि के अवसर पर आयोजित ‘प्रेमचन्द के उपन्यासों […]

अग्निपथ योजनान्तर्गत 3500 पदों के लिए लगभग साढ़े सात लाख आवेदन योजना की सफलता या बढ़ती बेरोजगारी का प्रकटीकरण

July 9, 2022 0

05 जुलाई को वायु सेना में अग्निपथ योजना के अंतर्गत ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि समाप्त हुई तो साढ़े तीन हजार पदों के लिए लगभग साढ़े सात लाख आवेदन प्राप्त हुए हैं। इसे लोग […]

नूपुर शर्मा प्रकरण और इस्लामी हिंसा के सम्बन्ध मे सन्त समीर का गम्भीर विश्लेषण : न्यायपीठ पर हिन्दू-मुसलमान

July 2, 2022 0

माननीय न्यायाधीश महोदय (जस्टिस सूर्यकान्त, जस्टिस जे.बी. पारदीवाला वग़ैरह-वग़ैरह)! जैसा कि मैं समाचारों में पढ़ रहा हूँ, उसके हिसाब से आपने कहा है—“जिस तरह से उन्होंने (नूपुर शर्मा) देशभर में भावनाएँ भड़काई हैं….जो कुछ हो […]

आइए! सत्य-संधान करें

June 13, 2022 0

— आचार्य पंडित पृथ्वीनाथ पाण्डेय प्राय: सत्य स्वयं में नितान्त कटु होता है। इसका आयाम बृहद् है— कहीं मृदु अनुभव होता है और कहीं कठोर। यहीं पर सत्य की प्रियता-अप्रियता की, यापित काल-खण्डों में गहन […]

मिशन से प्रोफेशन होते हुए ऑपरेशन तक पहुँचा पत्रकारिता का सफ़र

May 30, 2022 0

किसी भी विषय पर हर व्यक्ति का अपना-अपना नजरिया होता है ऐसे में मेरा भी पत्रकारिता को लेकर जो भी थोड़ा बहुत अनुभव है उसके अनुसार अपनी बात कह रहा हूं। आज हिंदी पत्रकारिता दिवस […]

मै पत्रकार नही हूँ !

May 30, 2022 0

प्रभात सिंह (मान्यता प्राप्त पत्रकार, लखनऊ ) मैं ये स्वीकार करता हूँ कि मैं पत्रकार नही हूँ। मैं अपना दो- पहिया वाहन चलाते वक्त हेलमेट पहनता हूँ, गाड़ी के कागज़ पूरे रखता हूँ, मैं किसी […]

अमर बलिदानी सुखदेव : भारतीय स्वतंत्रता-संग्राम का एक अमिट व अतुलनीय पन्ना

May 15, 2022 0

संकलित- आज हुतात्मा सुखदेव का जन्म दिन है । 15 मई 1907 को रामलाल थापर व श्रीमती रल्ली देवी के घर पंजाब के शहर लायलपुर में जन्मे सुखदेव थापर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का एक अमिट […]

सम्प्रभुता-रक्षा हेतु सतत संघर्षरत अपराजेय-योद्धा महाराणा प्रताप को स्मरणाञ्जलि

May 9, 2022 0

डॉ॰ निर्मल पाण्डेय (इतिहासकार) : ‘आपने कभी अपने घोड़े पर मुग़लिया सल्तनत का शाही दाग़ नहीं लगने दिया, आपने अपनी पगड़ी कभी नहीं झुकाई ना ही आपने अपने घोड़े पर शाही मोहर नहीं लगने दी। […]

वाह रे भारत की धर्मनिरपेक्षता !

May 4, 2022 0

राघवेन्द्र कुमार “राघव”- यदि भारत में गैर मुसलमान से कुरआन को ईश्वरीय हिदायतनामा मानने की उम्मीद की जाती है तो यह भी सोचना चाहिए कि सच्चा हिन्दू मनुस्मृति और पुराणों को कैसे नकार सकता है […]

कविता : नशा

May 3, 2022 0

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’  (यह रचना राघवेन्द्र की पुस्तक “विकृतियाँ समाज की” से ली गयी है)- सड़क के किनारे पड़ी थी एक लाश । उसके पास कुछ लोग बैठे थे बदहवाश । उनमे चार छोटे […]

आरक्षण का विरोध क्यों नहीं?

May 1, 2022 0

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय (प्रख्यात लेखक/आलोचक)- आत्मीय अमित्र-मित्रवृन्द!‘आरक्षण’ देश को अयोग्यों की पंक्ति मे ला खड़ा करेगा और एक दिन ऐसा भी आयेगा, जब देश पर ‘नितान्त’ अक्षम, असमर्थ तथा संस्कारविहीन लोग शासन-प्रशासन करने लगेंगे; […]

धर्म और दर्शन : इस्लाम परिवर्तनो का विरोध करता है

May 1, 2022 0

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’— सारी दुनिया में आतंक का पर्याय माने जाने वाले गजनवी, गौरी, बाबर, ओसामा बिन लादेन और गद्दाफी सरीखे लोगों को भी मुस्लिम आतंकवादी और मानवता का हत्यारा नहीं बल्कि अपना आदर्श […]

गाँवों का जीवन झुलस रहा है

April 30, 2022 0

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’- वास्तव में भारत गाँवों में ही बसता है। शान्ति, सहिष्णुता, अहिंसा, नैतिक मूल्य और संस्कृति का दर्शन गाँवों के अतिरिक्त और कहाँ होगा? अफ़सोस गाँव बदल गए हैं। अब गाँव में […]

देह के उतार-चढ़ाव के प्रदर्शन की कोई आवश्यकता नहीं

April 29, 2022 0

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’- युगों-युगों से लाज और स्त्री का चोली-दामन सा साथ रहा है, लज्जा तो स्त्री का आभूषण है । भारतीय स्त्री का प्रतिबिम्ब एक स्वर्ण शरीर की मलिका, चंचल, मृगनयनी के समान […]

1 2 3 28