खूनी हैं हरदोई की सड़कें, एक साल में निगल गयीं 414 की जान

December 1, 2018 0

मनोज तिवारी -जिले भर में एक साल में हुए 775 सड़क हादसे -हादसों में घायलों की संख्या भी 373 -सामान्य अवस्था मे करीब 1 हजार से अधिक लोग घायल -हादसों से बचने के लिए पुलिस […]

हिन्दुओं के भीतर कितना ‘हिन्दू’?

November 4, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय                 इस देश में जितने भी लोग ‘हिन्दू’ की दूकानें खोल-खोलकर बैठे हुए हैं, उनमें से पाँच प्रतिशत भी ऐसे नहीं हैं, जो दस वाक्यों […]

उत्तरप्रदेश लोकसेवा आयोग ने खड़ा किया ‘भयंकर अशुद्धियों’ का पहाड़!

November 1, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय (भाषाविद्-समीक्षक) दशकों से उत्तरप्रदेश लोकसेवा आयोग की अयोग्यता उसका पीछा नहीं छोड़ रही है। इस आयोग की ओर से जितनी भी परीक्षाएँ आयोजित की जा रही हैं, सभी में प्रश्नपत्र तैयार करनेवाले […]

विश्व की राजनीतिक क्षितिज पर देदीप्यमान महानायिका इन्दिरा प्रियदर्शिनी की पुण्यतिथि (३१ अक्तूबर) पर सम्पूर्ण भारतवासियों की श्रद्धाञ्जलि

October 31, 2018 0

विश्व की राजनीतिक क्षितिज पर देदीप्यमान महानायिका इन्दिरा प्रियदर्शिनी की पुण्यतिथि (३१ अक्तूबर) पर सम्पूर्ण भारतवासियों की श्रद्धाञ्जलि :———————— अभूतपूर्व आत्मविश्वास और कठिनतर परिस्थितियों में भी धैर्य खोये बिना स्वविवेक से निर्णय करने की सामर्थ्य […]

अब ‘सी० बी० आइ०’ को ‘स्वतन्त्र’ अधिकार दिया जाये

October 26, 2018 0

 डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय देश की जिस सी०बी०आइ० को शीर्षस्थ परीक्षण/जाँच-अभिकरण माना जाता है, राजनीतिक षड़यन्त्र के कारण उसकी प्रतिष्ठा को गहरा आघात पहुँचा है। इससे सम्पूर्ण विश्व में एक अविश्वसनीय और शोचनीय सन्देश सम्प्रेषित हुआ […]

प्रयाग तो देश-देशान्तर में परिव्याप्त है, फिर इलाहाबाद तक ही क्यों?

October 15, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ‘प्रयाग’ अथवा ‘तीर्थराज प्रयाग‘ के सम्बन्ध में पुराणों का मत है कि प्रयाग उसे इसलिए कहा गया है कि वह समस्त तीर्थों में सर्वोत्तम और उत्कृष्ट तीर्थ है। देवताओं की यज्ञभूमि होने […]

पलायनवादी आक्रोश और ‘इन्क़िलाब ज़िन्दाबाद’

October 14, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय आज जिधर देखिए उधर, ‘पलायनवादी आक्रोश’। चेहरे निस्तेज; हथेलियों की आग बुझी हुई। दिखती है तो पिछवाड़े में बाँस डालकर ख़ुद को सबसे अधिक ऊँचाई पर खड़े रहने की थोथी ख़्वाहिश। यही […]

क्या प्रो. जीडी अग्रवाल (स्वामी सानंद) की मृत्यु को स्वाभाविक मान लिया जाए

October 13, 2018 0

सुधान्शु बाजपेयी (रिसर्च फेलो)- कल सुबह अखबार में प्रो. जीडी अग्रवाल (स्वामी सानंद) की त्रासद मृत्यु की खबर देखी तो ऐसे लिखी गई मानो वह स्वाभाविक मौत मरें हो, बगल में ही *प्रधानमंत्री का बेशर्मी […]

‘विकल्प’ पूछनेवाले देश में ‘भिक्षाशाला’ खुलवाने की प्रतीक्षा में हैं

October 11, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय अपना देश बिखरता जा रहा है। केन्द्र और राज्य की सरकारें हमारे युवावर्ग के साथ ग़द्दारी करती आ रही हैं और अपने-अपने तरीक़े से देश के संसाधनों को लूटती जा रही हैं। […]

बैंकों के विलय से नहीं होगा ऋण-वसूली का कोई निदान

October 9, 2018 0

यूनाइटेड फोरम ऑफ़ बैंक यूनियंस के बैनर तले कर्मचारियों ने किया विरोध-प्रदर्शन   हरदोई। बैंकों की प्रमुख समस्या खराब ऋण हैं। बैंकों का विलय इन खराब ऋणों को वसूल करने का कोई समाधान नहीं है। […]

1 2 3 35
url and counting visits