नारी-सम्मान को आघात पहुँचानेवाला ‘फेवीकोल इजी स्प्रे’ का विज्ञापन!..?

April 22, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय दूरदर्शन के सभी चैनलों (सरकारी-ग़ैरसरकारी) पर ‘फेवीकोल’ का जो विज्ञापन सुनाया-दिखाया जा रहा है, वह निस्सन्देह, नारी-सम्मान के प्रति अक्षम्य धृष्टता है। देश के सूचना एवं प्रसारण-मन्त्रालय को सम्बद्ध विज्ञापन-एजेंसी से स्पष्टीकरण […]

केन्द्र-शासन के ‘मृत्युदण्ड’ की व्यवस्था का स्वागत है

April 21, 2018 0

  डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय इन दिनों जिस अमानवीयता का परिचय देते हुए, निर्दोष, निरपराध तथा निश्छल बालिकाओं के साथ शारीरिक दुष्कर्म किये जा रहे हैं और साक्ष्य मिटाने के लिए उनकी निर्मम हत्याएँ की जा […]

चिन्तन की एक कड़ी

April 18, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय वाह रे मनुष्य ! ‘मोदी-मोदी’ अथवा ‘योगी-योगी’ अथवा इस तरह की कोई भी गतिविधि मात्र पानी का एक बुलबुला है। जल की सतह पर कुछ ही पल के लिए ‘बुलबुला’ दिखता है […]

एक दिन यही आरक्षण देश का विभाजन करेगा!

April 17, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय आरक्षण को बनाये रखने के ‘औचित्य’ की समीक्षा अब अपरिहार्य है। आरक्षण १० वर्षों के लिए था, फिर बिना इसकी समीक्षा किये क्यों बढ़ाया जाता रहा है? ग़रीबी कुछ जातियों-वर्गों में है? […]

संसद में काम ना होने पर देशव्यापी उपवास रखने वाले कठुआ और उन्नाव गैंगरेप पर चुप क्यों ?

April 13, 2018 0

अनुराग सिंह (पत्रकार)- संसद में काम ना होने पर जिस पार्टी के सांसदों ने देशव्यापी उपवास रखा वो कठुआ और उन्नाव गैंगरेप पर चुप है । उन्नाव गैंगरेप को 261 दिन बीत गए आरोपी बीजेपी […]

साम्प्रदायिकता और प्रगतिशीलता

April 8, 2018 2

  डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय कल विलम्ब रात्रि में अचानक मेरा घर ढूँढ़ते-ढूँढ़ते सम्बित पात्रा और अतुल अनजाना आ गये। हम तीनों किसी और विषय पर संवाद करना चाहते थे कि अचानक सम्बित और अतुल में […]

आदित्यनाथ योगी के पास बुन्देलखण्ड के ‘सर्वहारा-वर्ग’ के लिए समय तक नहीं

April 7, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय उत्तरप्रदेश के एक महत्त्वपूर्ण भाग ‘बुन्देलखण्ड’ की जीवन-शैली को अब ‘मुक्त मीडिया’ के माध्यम से सप्रमाण सामने लाने की आवश्यकता बन गयी है, क्योंकि वह महत्त्वपूर्ण भाग उत्तरप्रदेश के अन्तर्गत है, परन्तु […]

हमें ‘राजनीतिक’ आरक्षण नहीं, ‘वास्तविक’ आरक्षण चाहिए

April 6, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय वर्तमान सरकार बहुत ही ढीठ और ख़ुदगर्ज़ है। सत्ता की राजनीति के अलावा अब तक जनहित में कुछ नहीं कर पायी है। उसे मालूम है कि अब तक जिनको आरक्षण का लाभ […]

भारत में रंगभेद/जातिभेद कहाँ और क्यों ?

April 4, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय हम कितने अज्ञानी हैं, जो ‘सवर्ण’ को मात्र कतिपय जातियों तक सीमित करके देखते हैं। पहले की व्यवस्था को वर्तमान सामाजिक व्यवस्था के परिप्रेक्ष्य में यदि देखा जाये तो आज की तुलना […]

उत्तरप्रदेश में अब निजी विद्यालयों की मनमानी नहीं चलेगी

April 4, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय (प्रख्यात भाषाविद्-समीक्षक) डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय उत्तरप्रदेश-शासन की ओर से निजी शिक्षालयों की निरंकुश प्रवृत्ति पर नियन्त्रण करने के लिए कठोर नियम बनाने की घोषणा की गयी है, जो राज्य के उन विद्यालयों […]

1 2 3 26
url and counting visits