सियासत के आँगन में अतीत का आलाप : परिसीमन में ख़त्म अहिरोरी सीट के वोटर चले हवा के ख़िलाफ़

January 12, 2017 0

बृजेश ‘कबीर’ (स्वतन्त्र पत्रकार) / अंतर्ध्वनि आपातकाल के बाद 77 में केन्द्रीय सत्ता  विरोधी लहर में घुप्प अंधेरे में कांग्रेस को दिखाई भोर, 80 में कांग्रेस के दबदबे वाले दौर में भाजपा को बनाया सिरमौर, 91 […]

दिल्ली का कूड़ा

January 10, 2017 0

वीर विनोद छाबड़ा- दिल्ली में आये दिन सफाई कर्मी हड़ताल पर रहते हैं। कई कई दिन कूड़ा सड़क पर फैला रहता है। चैनलों के ज़रिये बदबू पूरे मुल्क में फैलती है। हड़ताल का मुख्य मुद्दा […]

चुनाव से पहले आम बजट …कितना सही ?

January 4, 2017 0

बृजेश ‘कबीर’- 05 राज्यों के विधानसभा आमचुनाव की आज भारत के निर्वाचन आयोग ने घोषणा कर दी है। यूपी में 11 फरवरी से 08 मार्च तक 07 चरणों में मतदान होगा। गैर-भाजपा दल अब 01 […]

अब बस भी कीजिये ‘माउथ स्टंट’ सर

December 14, 2016 1

अनुराग सिंह- जुकरबर्ग साहब के मोहल्ले में हमारी भी खोली है । हाँ ये बात सही है कि लोग थोड़े कम हैं, खोली थोड़ी छोटी है । पर बात में दम है । नहीं विश्वास […]

मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक की व्‍यवस्‍था असंवैधानिक : इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय

December 9, 2016 0

इलाहाबाद उच्‍च न्‍यायालय ने कहा है कि मुस्लिम महिलाओं के लिए तीन तलाक की व्‍यवस्‍था असंवैधानिक है और इससे उनके अधिकारों का हनन होता है। न्‍यायालय ने कहा कोई भी पर्सनल लॉ बोर्ड संविधान से […]

देश बदल रहा है, नोटबंदी से जनता खुश है

November 24, 2016 0

दिनेश दुबे (सुलतानपुर)- सड़क परिवहन एवं जहाजरानी मंत्री नितिन गड़करी ने विरोधी दलों पर हमला बोलते हुए कहा कि देश बदल रहा है। नोटबंदी से जनता खुश है। परेशान सिर्फ वे राजनीतिक दल है जिनके […]

भारतीय रेल का ‘ब्लैक संडे’ !

November 21, 2016 0

माधव झा (युवा विचारक)- “यात्रीगण कृपया ध्यान दे गाड़ी संख्या 19314 अपने निर्धारित समय से प्लेटफॉर्म संख्या 4 से रवाना होगी। भारतीय रेल आपकी यात्रा की सुखद कामना करता हैं”। ये पंक्ति भारतीय रेल की […]

सांसत में हैं अर्थव्यवस्था!

November 21, 2016 0

माधव झा (युवा विचारक)- 8 नवंबर 2106 की शाम रात 8 बजे तक सब कुछ यथावत था। सड़कों में भारी ट्रैफिक था, बाज़ार में भीड़ थी, शोरगुल था। इसी बीच रात 8 बजकर 5 मिनट […]

नोट की चोट : नोटबंदी या जुमलाबंदी?

November 19, 2016 2

माधव झा (युवा विचारक)- “मित्रों, मुझे सिर्फ 60 महीने दीजिए. मैं देश की तस्वीर बदलने की हिम्मत रखता हूँ. आपने उन्हें 60 बरस दिए, मुझे सिर्फ 60 महीने दीजिए. देश से भ्रष्टाचार मिटा दूंगा. कालेधन […]

कुछ दिन रहिये न बिना लक्ज़री के !

November 11, 2016 0

प्रभात सिंह (वरिष्ठ पत्रकार)- क्या हुआ, हज़ार पांच सौ के नोट ही तो बंद हुए हैं। ज़िन्दगी थम गयी ? साँसे भी क्या ? पैसों की गर्माहट नहीं महसूस हो रही अब ? उन नोटों […]

1 24 25 26 27
url and counting visits