रचना

July 8, 2020 0

आकांक्षा मिश्रा, गोंडा उत्तरप्रदेश तुम्हारी रचना सबसेसुंदर है ,उसमें प्रकृति का भास हैमधुर संगीत , सुनहरी धूप सतरंगी छटाएं सबको आशा कीकिरण से जगाती है। प्रकृति से हमे रूप-रंगसौंदर्य शौर्य मिलायही आत्मविश्वास चलना सिखाती है […]

बोल ए नेता जी! (पहिलका भाग)

July 8, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय हमार देसवा के बेचि-बाचि, खा गइल ए नेता जी!असल आपन रूपवा, देखाइ गइल ए नेता जी!बाड़ा भरोसिया कई के, तहरा के जितइनी हम,आपन दाँव-पेंचवा, देखाइ गइल तू ए नेता जी!बेसरम […]

जिसकी तुलना किसी से न की जा सके वो है “प्रेम”

July 8, 2020 0

सुलेखा सुमन (भागलपुर, बिहार) : प्रेम व्यक्ति की भावनाओं कागहरा सागर है ।जिसमे डूबकर मनुष्यसच्चाई की मार्ग पर चलता है।जिसकी व्याख्या करना असम्भव हैवो है प्रेम।प्रेम वो सत्य है, जो सब कुछ असत्य होने का […]

गुरु पूर्णिमा पर कविता

July 5, 2020 0

अज्ञान के तिमिर से निकालकर आलोक देते हैं गुरु।आत्मा का परमात्मा से मिलन करवाते हैं गुरु।। अविनाशी अविकारी नित्य होते हैं गुरु।साकार रूप में पथ प्रदर्शन करते हैं गुरु।। शस्त्र व शास्त्र का ज्ञान करा […]

काश ऐसा होता प्यारे..!

July 5, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय पूरब होता पच्छिम होता, सूरज-चाँद नहीं होते,धरती और आकाश भी होता, जीव-जगत् नहीं होते |हम भी होते तुम भी होते, सरोकार नहीं होते,कितना अच्छा होता हम, जब होकर भी नहीं […]

एगो भोजपुरी होइ जाइ

July 5, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय बउराइ गइल मनवाँ,अझुराइ गइल मनवाँ।कबो घाम कबो छाहीं,खउराइ गइल मनवाँ।झमझमाझम बूनी,सझुराइ गइल मनवाँ।सोझा तहरा होखते,भहराइ गइल मनवाँ।चिंहुकला से ओकरा,अगराइ गइल मनवाँ। (सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; ४ जुलाई […]

आवर्तन-दरार

July 2, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय एक–महकी अमराईचहका यौवनआग लगी पानी में!दो–आँखों-की खटासकोई आस-न-पासरिश्ते मुसकुरा उठे।तीन–काग़ज़ की नावबारिश की छाँवसूरज सघन चिकित्सा कक्ष में।चार–वर्तनी अकेलीसौन्दर्य-बोध लजीलाअभिव्यक्ति दरकने लगी।पाँच–प्रतीक सजीलाबिम्ब रंगीलाअभिव्यक्ति बहक पड़ी।(सर्वाधिकार सुरक्षित– आचार्य पं० पृथ्वीनाथ […]

अपनी ‘जन्मतिथि’ के अवसर पर स्वयंं को समर्पित पंक्तियाँ

July 1, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय आज कैलेण्डर में टँकी तिथिएक जुलाई,आँखों-में-आँखें डालतीन सौ पैंसठ दिनों की दैनन्दिनी उघारे,सिद्धहस्त ज्योतिषी-सदृश अतीत-वाचन कर रही है।आषाढ़-मास के उमड़ते-घुमड़ते बादल देख,कवि-कलाधर, कवि-कुसुमाकर, कवि-चूड़ामणिकवि-सम्राट कालिदास का‘मेघदूत’ जीवन्त हो उठता है।पावस-ऋतु […]

तन्हाई का सफर

June 30, 2020 0

तन्हाई में जीने का अंदाज अलग होता है।रूठने और मनाने का अंदाज़ अलग होता है।। दो जिस्म अलग अलग हो बेशक जमाने मे।रूह से रूह का मिलन मगर अलग होता है।। आसान नहीं बीते वक़्त […]

एतिबार मत करना, झूठी हैं कुर्सियाँ

June 30, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय कुर्सी है माई-बाप, अवसर हैं कुर्सियाँ,कुर्सी है छल-छद्म, हिंसक हैं कुर्सियाँ।जिस राह पे चलो, ख़ूब देख-भाल कर,क़ानून को भी आईन:, दिखातीं कुर्सियाँ।उधारी में जलता दिख रहा, ग़रीब का चूल्हा,अमीर का […]

मैं दीप हूँ

June 29, 2020 0

डॉ. राजेश पुरोहित मैं दीप हूँ जलता रहूँगाराहें रोशन करता रहूँगारात के गहन तमस कोमैं पल पल हरता रहूँगा लोग बैठे जो रोशनी मेंउन्हें उजाले देता रहूँगाप्यार बाँटता आया हूँप्यार ही बाँटता रहूँगा मेरे तले […]

एक अभिव्यक्ति

June 29, 2020 0

—आचार्य पं॰ पृथ्वीनाथ पाण्डेय प्रणय-पंछी विकल उड़ने के लिए,ताकता हर क्षण गगन की ओर है |किन्तु ममता की करुण विरह-व्यथा,ज्ञान-पथ को आज देती मोड़ है |धैर्य की सीमा सबल को तोड़ कर,दर्द की लतिका हरी […]

ज़िन्दगी थी ‘गीत’, ‘इतिहास’ बनकर खो गयी

June 29, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय रात घिरती रही, दीप जलता रहा।साज-श्रृंगार+ करती रही ज़िन्दग़ी,रूप भरती-सँवरती रही ज़िन्दग़ी।बेख़बर वक़्त की स्याह परछाइयाँ,उम्र चढ़ती-उतरती रही ज़िन्दग़ी।साध के फूल कुँभला गये द्वार पर,प्यास की तृप्ति का गाँव छलता […]

विडम्बनावश

June 29, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय यक़ीन नहीं आतामैं ख़ुद को देख रहा हूँ।अतीत, वर्तमान तथा भविष्य के गलियारे मेंमैं ढूँढ़ रहा हूँअपने न होकर भी हो जाने के साक्ष्य कोपर हर बारख़ुद को ख़ुद सेठगा […]

वह शख़्स क्या, जिसकी कोई कहानी न हो

June 29, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय वह हवा क्या, जिसकी कोई रवानी न हो,वह वफ़ा क्या, जिसकी कोई दीवानी न हो।ये अन्दाज़े बयाँ जज़्बात की अँगड़ाइयाँ हैं,वह लफ़्ज़ क्या, जिसमें आग और पानी न हो।हिज़्र की […]

नज़र का असर तीर-कमान-सा दिखने लगा

June 27, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय उसकी आँखों में बियाबान सा दिखने लगा,पहलू में आते ही श्मशान-सा दिखने लगा।मुट्ठी में बँधी नज़दीकी रेत-सी सरकती रही,जाने क्यों बुझा-बुझा अरमान-सा दिखने लगा।सलीक़ेमन्द लोग ताउम्र मिलते रहे एहतिराम से,नज़र […]

‘चौकीदार चाचा’ के फराकी ठोकल माहँगा पड़ि गउवे

June 27, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय ओकर बियहवा बिदेसे में कराई दीहल जाऊ का? आपन ओनिए रहि के फरियावत रही। काहें से कि जब देख तब, ओकरा गोड़वा में शनिचरे चढ़ल रहेले। हमरा इहो लागता कि […]

लात मारकर उसे देश से भगाओ!

June 23, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय देश की जनता जागो,विकल्प अब तलाशो।तल कर खा जायेगा देश को,गहरी नींद से सब जागो।पीड़ित हो कभी हमने कहा था,अँगरेज़ो! देश से अब भागो।अब जीना कर दिया दूभर उसने,लात मारकर […]

देश के ग़द्दार और संवेदनहीन नेताओं के ख़िलाफ़ सहन करने की अब कोई गुंजाइश न हो

June 23, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय हममें लाख मतभेद रहे, फिर भी,मनभेद की अब कोई गुंजाइश न हो।आवाज़ अब संग-संग उठे अपनी,फ़र्क़ की अब कोई गुंजाइश न हो।माना कि पेचोख़म हैं बहुत यहाँ,भ्रम की अब कोई […]

वे तो सौदागर हैं, ख़रीद-फ़रोख़्त ही ख़ुदा है उनका

June 23, 2020 0

— आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय उनकी बातों में न आना, वे बनाना जानते हैं बेशक,उनके हाथों में न आना, वे फँसाना जानते हैं बेशक।वे तो सौदागर हैं, ख़रीद-फ़रोख़्त ही ख़ुदा है उनका,उनके घातों में न […]

1 2 3 39
url and counting visits