अभी न होगा मेरा अन्त— निराला (आज निराला की पुण्यतिथि)

October 15, 2018 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय (भाषाविद्-समीक्षक) इलाहाबाद का नाम आते ही प्रथम पंक्ति में जिस सारस्वत हस्ताक्षर का नाम-रूप दिखता है, वह सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ का है। मेदिनी, पश्चिमबंगाल में जन्म लेनेवाले सूर्य कुमार ने ‘सूर्यकान्त त्रिपाठी […]

गर चुभती है जहाँ को सच्चाई, हमें कोई हर्ज नहीं

October 14, 2018 0

राजन कुमार साह- (Writer/Motivator) जिंदगी एक जंग है, यूँ हार मानते नहीं। गर हो खडे मैदान में, कभी छोड़ भागते नहीं।। है जोरावर दुश्मन का , हम भी किसी से कम नहीं। गर हो हौसला […]

ज्ञानार्जन में उपयोगी छंद संग्रह : “पाठशाला “

October 13, 2018 0

समीक्षक – संजय वर्मा ‘दॄष्टि ‘ मनावर (धार )   छंद काव्य के अंतर्गत ‘पाठशाला ‘ कवि राम शर्मा ‘परिंदा ‘ सुन्दर सजीला ज्ञानार्जन में उपयोगी संग्रह है | योगी नरहरि साहित्य मंच अछोदा (मनावर )प्रकाशक ,मुद्रक हुसैन […]

गीत : तुम अश्कों में मुस्काते हो

October 13, 2018 0

‘शारदेय’ सुषमा श्रीवास्तव, कानपुर, उत्तर प्रदेश जब-जब रंग बदलता मौसम, तब तब तुम याद आते हो, जब जब ठोकर खाती हूँ, तुम अश्कों में मुस्काते हो। मौसम की तरह तुम भी बदले, यह सोच के […]

एक अभिव्यक्ति : भाषा ले रसगागरी

October 13, 2018 0

डॉ०पृथ्वीनाथ पाण्डेय भाषा ले रसगागरी, चली पिया के देश। अगवानी में लिपि रही, मन्त्रमुग्ध परिवेश।। सौम्य कविता-कामिनी, ले रचना परिधान। उपमा, अद्भुत, सोरठा, सबका है सम्मान।। वहीं समीक्षा बैठकर, रहि माथा खुजलाय। कैसे-कैसे कवि यहाँ, […]

ख़मोशी में भी उनके कितनी अदब है

October 13, 2018 0

जगन्नाथ शुक्ल…✍ (इलाहाबाद) ख़मोशी में भी उनके कितनी अदब है, यही  तो मोहब्बत का पहला सबब है। न बहके   क़दम  जिनके  तन्हाइयों  में , तभी दिल  को  बस उन्हीं की तलब है। पलटते  हैं चिलमन […]

शालेय बाल अभिव्यक्ति पत्रिका – स्वच्छता ही सेवा 

October 11, 2018 0

समीक्षक – संजय वर्मा ‘दॄष्टि ‘ मनावर जिला धार  पत्रिका -शालेय पत्रिका बाल अभिव्यक्ति – स्वच्छता ही सेवा  प्रकाशक – बाल केबिनेट शासकीय नवीन प्रा. वि. (शाला सिद्धि ) नयापुरा माकनी ,जन शिक्षा केंद्र नागदा […]

माँ की महिमा

October 11, 2018 0

 शालू मिश्रा, नोहर जिला – हनुमानगढ़ (राजस्थान) नव दुर्गा मात की  महिमा है अपरंपार, नौ रूप है शक्ति तेरे  जग की तू है पालनहार । सुनहरे रंगो की लेकर मन में फुहार, अद्भूत सिंह पे होकर चली […]

भारतीय वायु सेना को समर्पित विनय शुक्ल जी की रचना

October 11, 2018 0

भारतीय वायु सेना के स्थापना दिवस के अवसर पर भारतीय वायु सेना को समर्पित विनय शुक्ल जी की बेहतरीन रचना : नीली वर्दी, नीला अंबर प्रबल, प्रचण्ड हे गरूड़ दिगम्बर क्षितिज नभ का हो या […]

नवरात्र शुरू हो चुके मातु, आकर के दर्शन दे जाना

October 10, 2018 0

सुधीर अवस्थी ‘परदेसी’ बघौली- नवरात्र शुरू हो चुके मातु , आकर के दर्शन दे जाना। उपवास किया मां तेरे लिए, एक दिन मेरे भी घर आना।। पता मातु मुझे भली भांति, तुम हमको छोड़ न […]

1 2 3 49
url and counting visits