प्रकाशन-जगत् का शुक्ल और कृष्णपक्ष

August 17, 2019 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय– पुस्तकें जीवन-मरण का आख्यान करती हैं। पुस्तकें कृष्ण और शुक्ल-पक्षों का अनावरण करती हैं। पुस्तकें मर्मान्तक पीड़ा देती हैं। पुस्तकें मन-प्राणों पर इन्द्रधनुषी रंगों का अनुलेपन करती हैं। पुस्तकें राग-अनुराग और द्वेष-विद्वेष […]

शांति का प्रतीक धर्मप्रिय सत्यशील ऐसा देश है हमारा

August 14, 2019 0

शांति का प्रतीक धर्मप्रिय सत्यशील ऐसा देश है हमारा हिन्दुस्तान, सभी मिलजुल के रहे, दिल की बात खुल के कहें, मन में तनिक भी नहीं अभिमान, जात और पात की ना करे कोई बात कद्र […]

काश कि हर लड़की दुआ करती कि उसको रावण सा भाई मिला होता

August 13, 2019 0

लेखक – सीतांशु त्रिपाठी, सतना मध्यप्रदेश आज मैं उस समाज की बात कर रहा हूँ जहाँ कहा तो ये जाता हैं की लड़की लक्ष्मी का रूप होती है । लड़की देवी होती है । लड़की […]

नदी अब बहुत गुमान में है

August 9, 2019 0

शिवांकित तिवारी “शिवा”, युवा कवि एवं लेखक– नदी अब बहुत  गुमान में है, क्योकि वो आजकल उफ़ान में है । ग़रीब तो आज भी फुटपाथ पर सोते है, अमीरजादे तो अंदर अपने  मकान में है । ज़मीं से तो उनका रिश्ता […]

वक़्त की ठोकर का शिकार

August 8, 2019 0

शिवांकित तिवारी “शिवा”, (युवा कवि एवं लेखक) संपर्क:- 7509552096 वक़्त  की  ठोकर  का  शिकार  हुए  है, तबीयत ठीक है जिनकी अब वो बीमार हुए है । चट्टानों  से  मजबूत  हौसले थे जिनके, वक़्त की मार से […]

देश को क्यों नहीं मिला ‘दूसरा प्रेमचन्द’?

July 31, 2019 0

आज (३१ जुलाई) प्रेमचन्द की जन्मतिथि है। डॉ. पृथ्वीनाथ पाण्डेय कथा-विषय पर जब संवाद-परिसंवाद होता है तब समीक्षक पारदर्शिता के साथ ‘प्रेमचन्द’ से आगे बढ़ नहीं पाता है। यह अलग बात है कि कतिपय साहित्यिक […]

कहो तो इल्जाम खुद पर लगाऊं

July 30, 2019 0

जयति जैन “नूतन” – नहीं साब जीदोषी मैं हूँमैंने खुद का बलात्कार किया हैकपड़े उतारे खुदके मैंनेखुद को नोंच लिया है।खुद को दोषी कह ना पाऊंइसलिए नाम दूसरे का लिया हैन्याय की गुहार लगाई मैंनेअपनों […]

गीतों के राजकुमार गोपाल दास नीरज पर केंद्रित समाचार संगम के विशेष अंक का विमोचन सम्पन्न

July 23, 2019 0

भवानीमंडी:- साहित्य संगम संस्थान दिल्ली द्वारा प्रकाशित साप्ताहिक समाचार पत्र समाचार संगम के द्वारा ताजा अंक गीतों के राजकुमार गोपाल दास नीरज पर केंद्रित विशेष अंक का विमोचन मंगलवार को सम्पन्न हुआ। समाचार संगम के […]

गीत ऋषि गोपाल दास नीरज का हिन्दी साहित्य में स्थान

July 21, 2019 0

राजेश कुमार शर्मा”पुरोहित”, राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी साहित्य संगम संस्थान दिल्ली हिन्दी फिल्मों में आपने कई गीत लिखे। गीतों के लिए तीन बार फ़िल्म फेयर अवार्ड मिला। इटावा उत्तरप्रदेश के पुरावली गाँव में बाबू बृजकिशोर सक्सेना […]

पुस्तक समीक्षा : एहसास

July 20, 2019 0

लेखिका:- निक्की शर्मा”रश्मि” प्रकाशक:-भारत पब्लिकेशन ,मुम्बई संस्करण:-प्रथम,1मई 2019 पृष्ठ:-56 मूल्य:-75/- समीक्षक:- राजेश कुमार शर्मा”पुरोहित” कवि, साहित्यकार देश की ख्यातिनाम कथाकार निक्की शर्मा रश्मि की ये प्रथम कृति “एहसास” है। प्रस्तुत कहानी संग्रह में कहानियां सामाजिक […]

कविता – बेटियां

July 18, 2019 0

जयति जैन “नूतन” घर से भाग जाती है जो बेटियां वे ले जाती हैं कई बेटियों के सपने उनकी उम्मीदें,वह कायम कर जाती है मां बाप के दिलों में एक डर जो उन्हें दिन रात सताता है कहीं दूसरी बेटियों […]

ये वहम तुम्हारा अहम है

July 16, 2019 0

शिवांकित तिवारी “शिवा”- सिर्फ   हम   ही   हम  है, ये वहम तुम्हारा अहम है । आसमां  में  उड़ रहे है वो, जिनके लिए जमीं कम है । पिता सबसे अनमोल है जग में, बाहर से कठोर […]

मेरे जख्मों पर हँस रहा है वो

July 10, 2019 0

शिवांकित तिवारी “शिवा”,   युवा कवि एवं लेखक,        सतना (मध्यप्रदेश) संपर्क:- 7509552096 मुझ पर तानें कस रहा है वो, मेरे जख्मों पर हँस रहा है वो । गुरुर  की  नाव  में  सवार  होकर  […]

ख़ुद को बदल रहा है वो

July 8, 2019 0

शिवांकित तिवारी “शिवा”,  युवा कवि एवं लेखक,        सतना (मध्यप्रदेश) संपर्क:-7509552096 आखिर अब खुद को बदल रहा है वो, गिर  उठ  गिर  फिर  संभल रहा है वो । मौसम  का  मौसम  बिगड़ रहा है अब, […]

देश की सुप्रसिद्ध कवयित्री गौरी मिश्रा की काव्य यात्रा का सफरनामा

July 7, 2019 0

राजेश कुमार शर्मा ‘पुरोहित’- कवि, साहित्यकार हमारे देश में नारी को देवी का रूप मानकर पूजा जाता है। लेकिन उसी देवी को घर की चारदीवारी में कैद कर रखा जाता है। कुछ बेटियां जीवन संघर्ष […]

रामभक्ति देखिए, कुर्सी से अब सटने लगे!

July 4, 2019 0

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय– बातों-ही-बातों में, ‘आदर्श’ अब बँटने लगे, जनाब को देखिए, मुद्दों से अब हटने लगे! राम तो राजसिंहासन, त्याग कर आगे बढ़े, ग़ज़ब की रामभक्ति, कुर्सी से अब सटने लगे! आश्वासनबाबू की बाबूगिरी […]

डॉक्टर का डॉक्टर होना, मगर इतना भी आसान नहीं

July 3, 2019 0

शिवांकित तिवारी “शिवा”        अपने सुकून की बलि देकर, वो सबकी जान बचाता है, भूख प्यास भूल कर वो डॉक्टर होने का फर्ज निभाता है दर्द से दवा तक का सफ़र था कड़ा, वो गिरा लड़खड़ा के, हुआ फिर खड़ा […]

कहानी : विभाजन की रेखाएँ

July 2, 2019 0

राजेश कुमार शर्मा “पुरोहित” कहानीकार, वरिष्ठ साहित्यकार एवं कवि कुण्डलपुर गाँव में आज एक ही चर्चा थी सेठ धनपत राय के चारों बेटे ने अपना अपना हिस्सा ले लिया। सेठजी की धन दौलत मकान दुकान […]

तुम नहीं दिखे

June 30, 2019 0

ज़ैतून ज़िया- तुम आये कब मुझे आहट भी ना लगी कितने दिन से व्यथित थी पीड़ा थी आज स्वप्न में तुम्हारी हर चीज दिखी मुझे ये वर्दी, ये सितारे और भूरा बटुआ मेरे तिल के […]

पुस्तक समीक्षा : कृति – ख़ामोश दर्द

June 30, 2019 0

लेखक:- प्रमोद कुमार “हर्ष” संस्करण:- प्रथम 2019, पृष्ठ:-64 प्रकाशक:- वर्तमान अंकुर नोएडा, गौतमबुद्धनगर समीक्षक:- राजेश कुमार शर्मा”पुरोहित’ इस कृति की भूमिका में आ.आरती प्रदर्शनी लिखती है कि प्रस्तुत कृति की कहसनियाँ मार्मिक एवम भावपूर्ण हैं […]

1 2 3 31
url and counting visits