सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

अवैध मिट्टी खनन से ग्रामीण/किसान परेशान, शिकायत की

कछौना, हरदोई : कोतवाली क्षेत्र में अवैध खनन का काला कारोबार जोरों से फल फूल रहा है। प्रशासनिक सांठगांठ के चलते खनन माफिया सरकार के लाखों के राजस्व को चूना लगाने के साथ-साथ किसानों की हवा निकालने से भी गुरेज नहीं करते हैं। कोतवाली क्षेत्र के रैसों, कटियामऊ, समोधा, उसरहा, गढ़ी, सैदूपुर, बघुआमऊ सहित दर्जनों गांवों में इन दिनों मिट्टी खनन का काला कारोबार जमकर फल फूल रहा है।

कोतवाली क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली यूपीएसआईडीसी में निर्माणाधीन दर्जनों व्यवसायिक उपक्रमों में इन दिनों अवैध खनन करके पटान का कार्य जोरों से संचालित हो रहा है। ऐसे में खनन माफिया गठजोड़ के चलते किसी भी हद तक मिट्टी खोदकर गहरे तालाब के रूप में खेत को परिवर्तित करने से गुरेज नहीं करते।

ऐसी ही घटना रैसों निवासी शैलेंद्र सिंह पुत्र चंद्रशेखर सिंह के साथ हुई। पीड़ित किसान शैलेंद्र सिंह ने बताया विगत शुक्रवार के दिन उसके खेल से जबरन चोरी करके करीब 40 फुट लंबा 20 फीट चौड़ा वह तकरीबन 15 फीट गहरा गड्ढा के रूप में खोदकर उसके खेत में लगभग 35 डंपर मिट्टी निकाली गई। पीड़ित किसान ने उस घटना को लेकर जब स्थानीय कोतवाली को दी पुलिस के चार सिपाहियों द्वारा जेसीबी संख्या यूपी 30 बीटी 8978 कोतवाली कछौना लेकर गए व पीड़ित किसान से कोतवाली आने को कहा गया। पीड़ित किसान जब कोतवाली पहुंचा तो वहां जेसीबी ना पाकर पूछा तब उसे वहां उससे समझौता करवा देने की बात कही गई। किसान ने बताया कि उक्त जेसीबी के ड्राइवर द्वारा बताया गया है बबलू ठेकेदार बालागंज लखनऊ व अभय सिंह जो कि संडीला निवासी है के द्वारा मिट्टी खनन करवाई जा रही थी।

पीड़ित किसान द्वारा उक्त मामले को लेकर उप जिलाधिकारी महोदय संडीला को समाधान दिवस में देकर न्याय की गुहार लगाई है। अब देखना यह है कि क्या प्रशासनिक अधिकारी कर्मचारी किसान के प्रार्थना पत्र पर क्या कार्यवाही करते हैं। “एक कहावत है कि चिराग तले अंधेरा” ये कहावत चरितार्थ होती नजर आ गई ग्राम पंचायत रैसो में जहां खनन माफियाओं के बुलंद हौसलों की दाद देनी पड़ेगी। खनन माफियाओं का हब बन गए कोतवाली कछौना क्षेत्र में खनन चरम सीमा तक पहुंच गया है ।

रिपोर्ट – पी०डी० गुप्ता