सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

जिलाधिकारी से माइनरों में पानी व सफाई न होने की शिकायत

रिपोर्ट- पी.डी. गुप्ता-


कछौना(हरदोई): माइनरों में समय से सफाई न होने व पानी न आने से कृषक हलकान हैं। किसानों के सामने सिंचाई की समस्या खड़ी है। सरकारी नलकूप शोपीस बने हैं। क्षेत्रीय विकास जनांदोलन के अध्यक्ष रामखेलावन कनौजिया व नवीन कुमार ने जनहित में तत्काल सिल्ट की सफाई व पानी भेजने की व्यवस्था सुनिश्चित कराने की मांग जिलाधिकारी से की है। बालामऊ निवासी नवीन कुमार ने बताया कि बालामऊ माइनर की सफाई कई वर्षों से नहीं हुई है जिससे बालामऊ, कलौली, नरायनदेव के किसान सिंचाई से वंचित हो जाते हैं। जिस पर अधिशाषी अभियन्ता ने बताया कि इस माइनर की ग्रामीणों की मांग पर सफाई हेतु बजट की धनराशि स्वीकृत हो गई है, शीघ्र ही सफाई कार्य आरम्भ हो जायेगा। क्षेत्र पंचायत सदस्य कमलेश कुमार ने बताया कि हमारे यहाँ गैसिंगपुर से लोंन्हारा माइनर में कई वर्षों से पानी न आने से ग्राम कंथा, पकरियाऊसर, दुगनाई, लोंन्हारा, खाँड़ाखेड़ा, हिंदूखेड़ा के किसान सिंचाई से वंचित हो जाते हैं जिससे किसान किराये के पम्पिंग सेट से सिंचाई करने को विवश हैं। सरकार की निःशुल्क सेवा छलावा साबित हो रही है। कई बार उच्चाधिकारियों को पत्र लिखने के बाद भी कोई कार्यवाही नही हुई है।

सामाजिक कार्यकर्ता उजागर लाल निवासी पैरा ने बताया कि कलौली रजबहा की कई वर्षों से सफाई न करने के कारण सूखा पड़ा है। सामाजिक कार्यकर्ता प्रेम कुमार ने बताया कि हथौड़ा रजबहा से टिकारी माइनर की भी सफाई नही कराई गई है जिससे ग्राम गोठवा, नरपतखेड़ा, पंजाबीखेड़ा, गाजू, फत्तेपुर, बहदिन, शिवपुरी, टिकारी के किसानों को फसल की सिंचाई हेतु परेशानी उठानी पड़ती है। हजारों एकड़ कृषि योग्य भूमि कई वर्षों से पर्याप्त पानी के अभाव में सिंचाई को कराह रही है, जिसकी शिकायत प्रेम कुमार ने जनसुनवाई के माध्यम से जिलाधिकारी से की है। अधिशाषी अभियन्ता शिकायत के समयबद्ध तरीके से निराकरण कराने के लिए प्रयासरत हैं जिससे किसानों को लाभ मिल सके।