फाइलेरिया बीमारी को खत्म करने में समाज का सम्पूर्ण सहयोग आवश्यक, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की दी दवा ज़रूर खाएं

जिला महिला अस्पताल में फइलेरिया दिवस के अवसर पर आयोजित गोष्ठी का उद्घाटन मुख्य अतिथि के रूप में नगर पालिका परिषद अध्यक्ष सुखसागर मिश्रा ने फीता काट कर किया। इस अवसर पर उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुए श्री मिश्र ने कहा कि फाइलेरिया एक खतरनाक बीमारी है और इससे इन्सान की मृत्यु नही होती है पर जीवन भर के लिए विकलांग हो जाता है, इस लिए समस्त जनपदवासी स्वयं के साथ अपने बच्चों को भी 25 नवम्बर से 10 दिसम्बर 2019 तक चलने वाले अभियान के तहत फइलेरिया की दवा अवश्य खिलायें और इस भयानक बीमारी से छुटकारा पायें।

गोष्ठी में श्री मिश्र ने उपस्थित लोगों को फाइलेरिया के सम्बन्ध में संकल्प दिलाते हुए कहा कि सभी संकल्प ले कि फाइलेरिया बीमारी को खत्म करने में अपना सहयोग देगें और अभियान के अन्तर्गत घर-घर आने वाली आशा दीदी के माध्यम से उनके सामने ही फाइलेरिया की दवा खायेगें तथा घर के अन्य सदस्यों साथ अपने गांव के लोगों को भी दवा खाने के लिए प्रेरित करेगें।

गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 एसके रावत ने कहा फाइलेरिया अभियान 25 से 10 दिसम्बर 2019 तक जनपद में गांव-गांव तक चलाकर आशाओं के माध्यम से स्त्री, पुरूष एवं बच्चों को फाइलेरिया की दवा खिलाई जायेगी। उन्होने कहा कि फाइलेरिया होने पर हाथी पावं या हीड्रोसील होने का खतरा होता है, इसलिए सभी जनपदवासी स्वयं के साथ अपने पूरे परिवार को फाइलेरिया की दवा अवश्य खिलायें।

गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए एसएमओ डा0 अभिषेक पाल ने बताया कि यह बीमारी संक्रमित होती है और यह गन्दे पानी में बैठने वाले मच्छरों के काटने से होती है और फाइलेरिया के बचाव के लिए फाइलेरिया की दवा खाना जरूरी है। उन्होने कहा कि पहले डीईसी व एल्वेंडाजोल ही फाइलेरिया में दी जाती था परन्तु अब इन दोनों दवाओं के साथ आईवर मेक्टिन भी साथ में खिलाई जायेगी। श्री पाल ने कहा कि फाइलेरिया की दवा साल में एक बार खायी जाती है और चार-पांच बार खिलाई जाती थी, परन्तु आईवर मेक्टिन दवा आ जाने से व्यक्ति को सिर्फ दो बार ही खानी पडे़गी और फाइलेरिया से बचाव किया जा सकता है। इस अवसर पर नोडल अधिकारी डा0 धीरेन्द्र सिंह, महिला सीएमएस, डा0 विजय कुमार सिंह, पूर्व सीएमओ डा0 विजय कुमार गुप्ता सहित अन्य चिकित्सक आदि उपस्थित रहें। कार्यक्रम में नगर पालिका अध्यक्ष सहित अन्य लोगों ने भी फाइलेरिया की दवा खायी।