रामलला श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में मन्दिर हेतु हुआ भूमि पूजन

फौजी के परिवार को प्रताड़ित करने के आरोप में कांग्रेस ने किया चक्का जाम  

              एक फौजी की पत्नी के द्वारा भाजपा की पूर्व सांसद व एससी एसटी आयोग की उपाध्यक्षा के सेवानिवृत्त एसडीएम पति द्वारा जमीन कब्जाए जाने के आरोप लगाकर लगाए गए बैनर को लेकर विवाद बढ़ गया है।मामले पर अब कांग्रेस ने राजनैतिक रोटी सेंकनी शुरू कर दी है और महिला के समर्थन में चक्का जाम किया।हालांकि मौके पर पहुंचे एएसपी सिटी मजिस्ट्रेट आदि ने जांच व कार्यवाई का भरोसा दिलाकर मामला समाप्त कराया है।इस दौरान एक महिला बेहोश भी हो गयी जिसे इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया।
               कांग्रेस की अनुसूचित जाति विभाग के जिला चेयरमैन पीपी वर्मा के नेतृत्व में सैकड़ों कांग्रेसियों ने जिंदपीर चौराहे पर जाम लगाकर जमकर नारेबाजी की।कांग्रेसियों ने कछौना कोतवाली क्षेत्र के कटियामऊ निवासी व केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के हेड कांस्टेबल बलराम की पत्नी सुशीला के समर्थन में यह चक्का जाम व धरना प्रदर्शन किया था।जाम लगाए जाने की सूचना पर भारी संख्या में पुलिस पहुंची लेकिन जाम नही खुल सका तो एएसपी ज्ञानंजय सिंह व सिटी मजिस्ट्रेट सतीश त्रिपाठी भी पहुंचे और कांग्रेसियों को समझा बुझाकर नियमानुसार कार्यवाई का भरोसा दिलाकर जाम खुलवाया।इससे पहले पीड़िता ने कई स्थानों पर भाजपा नेता व उनके पति के विरुद्ध बैनर लगवाए थे और वाल पेटिंग भी कराई थी।इस मामले में भी एक मामला कछौना कोतवाली में रिटायर्ड एसडीएम के द्वारा दर्ज कराया गया है।
             कांग्रेस द्वारा दिये गए शिकायती पत्र में कहा गया है कि भाजपा की पूर्व सांसद पूर्णिमा वर्मा व उनके रिटायर्ड एसडीएम पति श्रीपाल वर्मा द्वारा फौजी बलराम की पत्नी सुशीला की जमीन कब्जा किये जाने के लिए लगातार प्रताड़ित किया जा रहा है और दरोगा महेंद्र कुमार ही प्रताड़ित कर रहा है।आरोप है कि इसीलिए उसके पति देवर आदि पर फर्जी मुकदमे दर्ज कराये जा रहे है।इस प्रदर्शन के दौरान एक महिला बेहोश भी हो गयी जिसे इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया।दोनों अधिकारियों ने मामले में जांच कार्यवाई का भरोसा पीड़िता व कांग्रेसियों को दिलाया है।इस दौरान कार्यवाहक जिलाध्यक्ष आशीष सिंह समेत सैकड़ों कांग्रेसी व पीड़िता के साथ महिलाएं व ग्रामीण भी मौजूद रहे।
url and counting visits