ब्लॉक कोथावां में वोटर लिस्टों की बिक्री के नाम पर हो रही अवैध वसूली

ग्राम प्रधान केन व ग्राम विकास अधिकारी की मिलीभगत से पात्रों को नहीं मिला प्रधानमंत्री आवास

Corruption Feature IV24

यूपी के जनपद कौशाम्बी के कड़ा ब्लाक ग्राम सभा केन में ग्राम विकास अधिकारी की मिलीभगत से प्रधान पर ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि ग्राम प्रधान द्वारा कई महिलाओं से आवास दिलवाने के नाम पर 10-10, 5-5 हजार रुपए की धन उगाही की गई और उनको आवास भी नहीं दिया गया। जबकि महिलाओं का कहना है कि उनका घर बारिश में गिर गया। गरीब महिलाएं अपने बच्चो के संग कुछ पड़ोसियों के मकान में रहती हैं तो कुछ छप्पर डाल कर गुजर-बसर कर रहीं हैं। आवास दिलाने के नाम पर बस बार-बार रकम ऐठी गई।

पात्रों को आवास न देकर पिछले पंचवर्षीय में आवास मिलने वाले अपात्रों को सुविधा शुल्क लेकर दोबारा आवास आवंटित कर दिया गया। ऐसे परिवारों को पुनः आवास मिलना कहीं न कहीं ग्राम प्रधान, ग्राम विकास अधिकारी व खंड विकास अधिकारी के कालेकारनामों का नमूना ही है । यह घृणित कार्य योगीराज पर बहुत बड़ा प्रश्न चिह्न है।

गरीब, मजदूर, विधवा, विकलांग पात्रों को आवास योजना का लाभ न देकर ग्राम प्रधान द्वारा अपने चहेतों को दे दिया गया। वही शौचालय, नाली, इंटरलॉकिंग में गोलमाल भी देखने को मिला। कई बार जिले के आला अधिकारियों का ध्यान ग्राम सभा केन के गरीब पात्रों ने आकृष्ट कराया लेकिन उच्चाधिकारियों की मिलीभगत से प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ पात्रों को नहीं मिल पा रहा है। ऐसे सभी ग्राम प्रधान व ग्राम विकास अधिकारी के विकास कार्यों में हुए घोटालों की जांच की जाए तो निश्चित तौर पर इनके ऊपर कड़ी कार्यवाही हो सकती है और पात्रों को उनके हक का आवास मिल सकता है।

कौशांबी ब्यूरो रिपोर्ट

url and counting visits