रामलला श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में मन्दिर हेतु हुआ भूमि पूजन

5 लाख का लोन स्वीकृत लेकिन दिए केवल 2 लाख, बैंक प्रबंधक के विरुद्ध एफआईआर के निर्देश

Corruption Feature IV24

बदायूँ: शासन की प्राथमिकता वाली योजना ओडीओपी के अन्तर्गत जनपद ज़री-जरदौजी के लिए चयनित हैं। भारतीय स्टेट बैंक की मुख्य शाखा ने आवेदक प्यारे मियाँ को ज़री-जरदौजी के कार्य हेतु 5 पांच का लोन स्वीकृत किया था। लेकिन आवेदक को सिर्फ दो लाख रुपए ही दिए, शेष रुपयों के लिए आवेदक बैंक के चक्कर लगा रहा है। डीएम प्रकरण का संज्ञान लेते हुए बैंक शाखा प्रबंधक के खिलाफ तत्काल एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि शासन की प्राथमिकता वाली योजना में किसी प्रकार की शिथिलता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। ऐसे प्रबंधकों पर कड़ी कार्यवाही की जाए।

सोमवार को कलेक्ट्रेट स्थित सभगार में जिलाधिकारी कुमार प्रशान्त ने मुख्य विकास अधिकारी निशा अनंत, अग्रणीय बैंक प्रबंधक परमवीर सिंह, जिला उद्योग प्रोत्साहन उद्यमिता विकास केन्द्र की उपायुक्त उद्योग जैस्मिन व व्यापारियों के साथ जिला उद्योग बंधु की बैठक आयोजित की। डीएम ने एलडीएम को निर्देश दिए कि बैंकों में लंवित ऋण पत्रावलियों की समिति बनाकर जांच की जाए कि बिना किसी कारण के ऋण क्यों नहीं दिया जा रहा है। ऋण पत्रावलियों को प्राथमिकता के आधार पर निस्तारित किया जाए, ज्यादा से ज्यादा लोग रोजगार स्थापित कर सकें। उद्योग के लिए आंवटित प्लाट्स पर उद्योग स्थापित नहीं हुआ है, जीएम डीआईसी ऐसे प्लाट स्वामियों को नोटिस देकर कार्यवाही करें। बैठक में प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, सब रजिस्ट्रार, विद्युत एवं अग्निशमन के अधिकारी अनुपस्थित होने पर डीएम ने उनका वेतन रोकते हुए स्पष्टीकरण के निर्देश दिए हैं। इस अवसर पर एसपी सिटी प्रवीन सिंह चौहान भी मौजूद रहे।

url and counting visits