मतदान आपकी जिम्मेदारी, ना मज़बूरी है। मतदान ज़रूरी है।

कल (७ जुलाई) की ‘अमर उजाला उड़ान’ के ‘मार्गदर्शन’ में सफलता के लिए ‘धैर्य और संयम’ का पठन-पाठन

प्रिय विद्यार्थिवृन्द!
सारस्वत पथ पर अग्रसर रहे!

कल आता है; क्योंकि कल ७ जुलाई है और दिन बुद्धवार। आप इसी दिन प्रतिसप्ताह ‘अमर उजाला उड़ान’ पत्रिका में ‘मार्गदर्शन’ स्तम्भ के अन्तर्गत ‘व्यक्तित्व-संवर्द्धन’ और ‘व्यक्तित्व-परीक्षण’ से सम्बन्धित ऐसे विचार और चिन्तन-प्रधान लेख का अध्ययन करते हैं, जो आप सभी के लिए, विशेषत: प्रतियोगितात्मक परीक्षाओं की तैयारी कर रहे विद्यार्थियों के लिए अत्युपयोगी (अति+उपयोगी) सिद्ध होते आ रहे हैं।

आपके लिए परीक्षोपयोगी फ़ीचर सम्पादक प्रियवर ‘अभिषेक सक्सेना जी’ कभी ‘कवर स्टोरी’ तो कभी ‘मार्गदर्शन’ के अन्तर्गत आकर्षक ढंग से प्रस्तुत करते आ रहे हैं। हमने पिछले माह आप सभी के लिए ‘अनुवादकला का ज्ञान’, ‘संक्षेपण’/’सारलेखन-कला’ आदिक का बोध विस्तारपूर्वक कराया था और पिछले बुद्धवार को ‘आलस्य की पाठशाला से दूर रहे!’ का सम्बोधन कर इच्छा प्रकट की थी।

‘मार्गदर्शन’ के अन्तर्गत ‘कल’ (७ जुलाई) के अंक में हम आपको ‘धैर्य और संयम की ओर हाथ बढ़ायें’ का पाठ पढ़ाते हुए; वहाँ के परिवेश से परिचित कराते हुए, आपकी ‘विजिगीषा’ (जीतने की प्रबल इच्छा) और मानसिक ‘उड़ान’ का अनुभव करायेंगे, जो कि आपको स्वत:-स्फूर्त चेतना के साथ सम्पृक्त (जोड़ती) करती है और आपके मन-प्राण को आशा, विश्वास तथा कर्त्तव्यपरायणता से सम्बद्ध भी।

आप ‘अमर उजाला उड़ान’ के आन्तर्जालिक (ऑन-लाइन) ग्राहक बनकर प्रतिसप्ताह ज्ञानगंगा में डुबकी लगा सकते हैं।
तो आइए! उपर्युक्त ‘कल’ की प्रतीक्षा करें।