सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

बालू खनन माफियाओं पर मुकदमा दर्ज हुई कार्यवाही से मचा हड़कम्प

ग्रामीणों की सूचना पर खनन माफियाओं द्वारा बड़े पैमाने पर ग्राम बबुरहा के पास इकट्ठा लगभग 1000 ट्राली बालू का जत्था बरामद

रिपोर्ट- पी०डी०गुप्ता-


कछौना(हरदोई): कल कोतवाली कछौना में बड़े पैमाने पर चल रहे बालू खनन माफियाओं पर जिलाधिकारी के निर्देश पर कछौना पुलिस ने पूर्व प्रधान व उनके भाई पर मुकदमा दर्ज कर कार्यवाही की है जिससे खनन माफियाओं में हड़कम्प मच गया है।
बताते चलें कि कछौना क्षेत्र में खनन माफिया व पुलिस की मिलीभगत से शारदा नहर में खनन माफिया बालू निकालने के कार्य को दिन-रात दोनों समय खुले-आम अंजाम देते थे। आवाज़ उठाने वाले पुलिसकर्मियों का बोरी-बिस्तर बंध जाता था। खनन माफियाओं द्वारा सत्ता-पक्ष की हनक व धनबल की हनक के आगे जिम्मेदार मूकदर्शक हो जाते थे। उच्च न्यायालय के आदेश की खुलेआम धज्जियाँ उड़ाई जाती थीं। ये खनन माफिया बालू निकाल कर ऊँची कीमतों पर बाजार में बेच देते थे तथा नहर की पटरियां तहस-नहस कर देते थे जिससे किसानों की फसल डूब जाती थी। लगातार तेज गति से ट्रालियां निकलने से सड़कें ख़राब हो रही थीं। आए दिन कोई न कोई राहगीर चुटहिल हो जाता था। शारदा नहर के कलौली पुलिया, समसपुर पल, गौहानी पुल, खजोहना पुल से खुलेआम बालू खनन का कार्य बदस्तूर जारी था जिसमें पुलिस व राजस्व निरीक्षक, कथित मीडियाकर्मी खुलेआम सहयोग करते थे जिससे जिम्मेदार बाकायदा सुविधा शुल्क लेकर इनके कार्य को अंजाम की स्वीकृति देते थे। जिससे चाहकर भी कोई भी आवाज़ नही उठा सकता है। ग्रामीणों की सूचना पर खनन माफियाओं द्वारा बड़े पैमाने पर ग्राम बबुरहा के पास लगभग 1000 ट्राली बालू स्टॉक थी जिस पर पुलिस ने कार्यवाही करते हुए अवर अभियंता दिलीप कुमार की शिकायत पर पूर्व प्रधान मो० नसीम व उनके भाई मुख्तार पर खनन धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया गया। इस कार्यवाही से खनन माफियाओं में हड़कम्प मच गया है।