आप सब पाठकों-दर्शकों को नवरात्र के पावन पर्व की शुभकामना

व्हिसिल ब्लोअर (स्वतंत्र पत्रकार) के खिलाफ फिर से दर्ज़ कराया गया फ़र्जी मुक़द्दमा, इससे पहले भी भ्रष्टाचार के विरुद्ध लड़ाई में जा चुका है जेल

राघवेन्द्र कुमार त्रिपाठी ‘राघव’ :

नगर पंचायत अझुवा में विकास कार्यों में लंबे समय से हो रहे घोटालों और सरकारी जमीनों पर हो रहे कब्ज़े के खिलाफ़ लगातार रिपोर्टिंग करने पर पत्रकार के विरुद्ध फर्जी मुकदमा कराया गया दर्ज, इससे पहले भी गम्भीर आरोप लगाकर एक प्राणघातक हमले उसे आरोपित बनाया जा चुका है । इस मामले को स्थानीय अख़बारों ने प्रमुुखता सेे उठाया भी था । कहा तो यह जा रहा हैकि प्राणघातक हमले की एफआईआर में नाम किसी और का था और गवाही भी किसी और की हुई थी, लेेेकिन इन भ्रष्टाचारियों ने केसरवानी को फंसा दिया ।

कौशाम्बी के अझुवा में व्याप्त भ्रष्टाचार को उजागर करने के कारण ईओ अझुवा ने अरविन्द केसरवानी पर लिखाया मुक़दमा । ह्वॉट्सएप चैटिंग को बनाया आधार, जिसमें केसरवानी ने भ्रष्टाचार को लेकर ही किये हैं तंज ।

नगर पंचायत अझुवा में मोक्षधाम के विकास में हुए घोटाले से लेकर, कई सड़कों, नालों, धोबीघाट के विकास कार्य, मार्ग प्रकाश संबंधी कार्यों, इंटरलाकिंग, बारात घर, सामुदायिक शौचालयों, पार्क, गोशाला निर्माण, नए हैंडपंपों की स्थापना एवं रिबोर संबंधी कार्यों आदि में जिम्मेदारों की मिलीभगत के चलते मानक के विरुद्ध घटियास्तर के कार्य कराकर आम जनता की सुख-सुविधाओं के लिए मिलने वाले करोड़ों रुपये के सरकारी धन की लूट के विरूद्ध पिछले कई वर्षों से लगातार कलम चलाने पर भ्रष्टाचार के जिम्मेदार लोग पत्रकार की सच्ची कलम रुकवाने के उद्देश्य से साजिश के तहत उस पर फर्जी मुकदमा दर्ज कराकर जेल भेजने की फिराक मे रहते हैं

एक बार इसी प्रकार पत्रकार को साजिश के तहत जान से मारने की कोशिश की । अन्य घटना मे साजिश करके जेल भिजवाया जा चुका है, जिसमे संबंधित पत्रकार कई महीने जेल में रहने के बाद जमानत पर रिहा हुआ है। जमानत पर छूटने के बाद पत्रकार ने पुन: इन लोगों के भ्रष्टाचार पर कलम चलाकर आवाज बुलंद करना शुरु किया; तो ई.ओ. अझुवा ने एक दिन मौखिक रूप से पत्रकार से कहा कि नगर पंचायत अझुवा की कमियों और भ्रष्टाचार के विषय मे खबरें चलाना बंद कर दो; नहीं तो फिर से मुकदमा दर्ज कराकर जेल भिजवा दूंगा । इस पर पत्रकार ने जवाब दिया कि जब तक नगर पंचायत में चल रहा भ्रष्टाचार नही रुकेगा और दोषियों पर कार्यवाही नही होगी, मैं अपनी कलम से समाज व सरकार को सच्चाई से अवगत कराता रहूंगा ।

अंततोगत्वा पत्रकार द्वारा भ्रष्टाचार एवं नगर के नागरिकों की बुनियादी सरकारी सुविधाओं मे भ्रष्टाचार के कारण बनी कमियों एवं जिम्मेदारों की मिलीभगत से नगर की सरकारी जमीनों, तालाबों आदि पर अवैध कब्जे करके उन्हे विक्रय करने, सरकारी योजनाओं मे पक्षपात एवं अवैध धनादोहन करने आदि मामलों पर लगातार खबर चलाने से भन्नाए इनमे संलिप्त लोगों ने साजिश करके पत्रकार के विरुद्ध फर्जी मुकदमा दर्ज कराकर उसे पुन: जेल भेजने की फिराक मे हैं ताकि उनके द्वारा किए जा रहे भ्रष्टाचार के विरुद्ध नगर के लोग आवाज उठाने का साहस न कर सकें और उनकी भ्रष्टाचार की दुकान वैसे ही चलती रहे।

मामले को लेकर नगर के लोगों मे आक्रोश बढ़ता जा रहा है और भ्रष्टाचार को और नही सहने व कार्यवाही हेतु नगरवासी व समाजसेवी उच्चाधिकारियों से मिलकर इंसाफ की आवाज बुलंद करने की तैयारी कर रहे हैं।

अझुवा में व्याप्त भ्रष्टाचार की बानगी :

  • एक करोड़ बारह लाख रुपये सरकार से मिलने के बावजूद अपनी बदकिस्मती पर रो रहा अझुवा का मोक्षधाम ।
  • भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ा मोक्षधाम का विकास कार्य ।
  • पूर्व नगर पंचायत अध्यक्षा के कार्यकाल मे शासन ने दिया था विकास के लिए धन,पूर्व मे जिलाधिकारी कौशाम्बी कर चुके निरीक्षण,दिए थे मानक के साथ कार्य पूरा कराने के आदेश ।
  • जिम्मेदारों ने आज तक नही कराया कार्य पूर्ण, जिलाधिकारी के आदेश की उड़ी धज्जियां ।
  • तत्कालीन चेयरमैन और अधिशासी अधिकारी ने नगर पालिका अधिनियम के नियमों को ताक पर रखकर तत्कालीन नामित सभासद के रक्त संबंधी की फर्म सहित एक अन्य फर्म को दिया था विकास कार्य का टेंडर ।
  • कई समाजसेवियों ने शासन स्तर तक मोक्षधाम के विकास मे हुए घोर भ्रष्टाचार की शिकायत की थी,आज तक नही हुई कार्यवाही ।
  • योगी सरकार की भ्रष्टाचार पर जीऱो टालरेंस की उड़ाई जा रही धज्जियां, जिम्मेदारों को भ्रष्टाचार पर कार्यवाही का भय नहीं ।
url and counting visits