सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

गेहूं खरीद के संबन्ध में गेंहूं खरीद केन्द्र प्रभारियों की कार्यशाला का आयोजन

01 अप्रैल 2017 से प्रारम्भ हो रही गेंहूं खरीद के संबन्ध में गेंहूं खरीद केन्द्र प्रभारियों की कार्यशाला का आयोजन आज कलेक्ट्रेट सभागार में अपर जिलाधिकारी विपिन कुमार मिश्र की अध्यक्षता में किया गया। बैठक में अपर जिलाधिकारी ने सभी केन्द्र प्रभारियों को निर्देश दिये कि सभी खरीद केन्द्रों पर केन्द्र प्रभारियों द्वारा किसानों से अच्छा व्यवहार किया जायेगा तथा गर्मी के मौसम को देखते हुये किसानों के लिये ठण्डे पानी एवं छाया की व्यवस्था सुनिश्चित करायी जायेगी। उन्होने कहा कि खरीद प्रारम्भ करने से पहले इलेक्ट्रानिक कांटा तथा नमी मापक यन्त्र की जांच अवश्य कर ली जाये और किसानों का गेंहूं बिना किसी भेदभाव के खरीदा जायेगा।

अपर जिलाधिकारी ने कहा कि कोई भी केन्द्र प्रभारी अपने खरीद केन्द्र को छोड़ने से पहले मूवमेंट रजिस्टर पर नोट करेगें और जाने से पहले किसी जिम्मेदार व्यक्ति को केन्द्र की जिम्मेदारी सौंपकर जायेगें। अपर जिलाधिकारी ने कहा कि सभी केन्द्रों पर पर्याप्त बोरे, धनराशि एवं उपकरण की उपलब्धता सुनिश्चित की जाये और सभी किसानों को गेंहूं खरीद का भुगतान आर0टी0जी0एस0 के माध्यम से किया जायेगा तथा प्रतिदिन खरीद की जानकारी उसी दिन कम्प्यूटर पर भी अपलोड कराई जायेगी जिसके लिये सभी एजेन्सियों के कम्प्यूटर आपरेटर तथा केन्द्र प्रभारियों को 28 मार्च को प्रशिक्षण प्रदान किया जायेगा।

बैठक में डिप्टी आर0एम0ओ0 दिनेश कुमार मिश्र ने बताया कि किसानों का गेंहूं शासन द्वारा निर्धारित मूल्य 1625 रू0 प्रति कुन्तल की दर से खरीदा जायेगा जिसके लिये जनपद में 63 गेंहूं खरीद केन्द्र बनाये गये हैं। उन्होने बताया कि विपणन शाखा द्वारा 07 केन्द्रों पर, पी0सी0एफ0 द्वारा 39 केन्द्रों पर, यू0पी0स्टेट एग्रो द्वारा 02 केन्द्रों पर, एस0एफ0सी0 द्वारा 08 केन्द्रों पर, एन0सी0सी0एफ0 द्वारा 04 केन्द्रों पर तथा भारतीय खाद्य निगम एजेन्सी द्वारा 03 केन्द्रों पर गेंहूं की खरीद की जायेगी। बैठक में जिला खाद्य विपणन अधिकारी संतोष मिश्र सहित सभी गेंहूं खरीद एजेन्सियों के अधिकारी व केन्द्र प्रभारी मौजूद रहे।