सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

पूर्व बीईओ और एबीआरसी गबन के मामले में फंसे

अंतर्ध्वनि एन इनर वॉइस


मामला सत्र 2011/12 का है। बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूलों में निःशुल्क वितरित की जाने वाली पुस्तकें जिला मुख्यालय से ब्लॉक संसाधन केन्द्र अहिरोरी पहुंचाई गई थीं। तत्कालीन समन्वयक सुनीता त्यागी ने ढुलाई बिल्टी बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय में जमा कर ₹10,200 भुगतान की मांग की थी। लम्बे समय तक भुगतान नहीं होने पर समन्वयक ने कार्यालय से सम्पर्क साधा। पता चला कि तत्कालीन खण्ड शिक्षा अधिकारी नवाब वर्मा ने भुगतान सहायक समन्वयक आशीष श्रीवास्तव के खाते में करके बंदरबांट कर लिया।

इस बाबत तत्कालीन समन्वयक सुनीता त्यागी ने टड़ियावां थाने में तहरीर दी, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की। रिपोर्ट दर्ज कराने को सुनीता त्यागी ने इस साल 02 फ़रवरी को 156(3) के तहत न्यायालय में प्रार्थना पत्र दिया था। कोर्ट ने टड़ियावां पुलिस को 03 दिन में रिपोर्ट दर्ज करने का निर्देश दिया था। लेकिन, पुलिस ने निर्देश के विपरीत काफी दिनों बाद कल एफआईआर दर्ज की।