ॐ के ज़रिए त्रिदेव की शक्तियों को करें आत्मसात

फ़रीदाबाद, १५ अक्टूबर- टाउन हॉल ग्राउंड में पिछले १२ अक्टूबर से चल रहे विराट भक्ति सत्संग महोत्सव का आज समापन हो गया। इसका आयोजन विश्व जागृति मिशन द्वारा किया गया था। आज मन्त्र-दीक्षा संस्कार कार्यक्रम में सैकड़ों स्त्री-पुरूषों ने गुरूदीक्षा ग्रहण की, वहीं योग व ध्यान की कक्षा में हज़ारों लोगों को अच्छे स्वास्थ्य का विधिवत प्रशिक्षण दिया गया। महोत्सव के समापन सत्र में बोलते हुये मिशन प्रमुख श्री सुधांशु जी महाराज ने कहा कि सृजनकर्ता ब्रह्मा, पोषणकर्ता विष्णु और नियंत्रणकर्ता व संतुलनकर्ता शिव की त्रिदेवी शक्ति ‘ॐ’ में विद्यमान है। मानव शरीर के तीन केंद्रों पर इन शक्तियों की मौजूदगी बताते हुये उन्होंने कहा कि  नाभि केन्द्र पर ब्रह्मा, हृदय केन्द्र पर विष्णु तथा आज्ञाचक्र (मस्तिष्क) केन्द्र पर शिवशक्ति विद्यमान रहती है। ॐकार की साधना करने वाला व्यक्ति सब कुछ पा लेता है और जीवन की सारी सफलताएँ अर्जित कर आनन्द के मूल स्रोत से जुड़ जाता है।
 श्री सुधांशु जी महाराज ने कहा कि ॐ के साथ गायत्री मन्त्र का अवलंबन करने वाला व्यक्ति निडरता, धैर्यशीलता, रचनात्मकता, निर्माणशीलता, क्रियाशीलता,  ऊर्जा, करुणा, दया, अपनत्व, स्थिरता जैसे अनेक गुणों का स्वामी बन जाता है। वह अच्छी योजना संरचना तथा उनके क्रियान्वयन में पूर्णतया दक्ष हो जाता है। ऐसे व्यक्ति को सदैव दैवीय संरक्षण का अनुभव होता रहता है। उन्होंने बीस मिनट की बड़ी सुन्दर साधना का व्यावहारिक प्रशिक्षण उपस्थित नर-नारियों को दिया।
आचार्य श्री सुधांशु जी   महाराज ने स्वच्छ भारत के निर्माण के लिए प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा आरम्भ कराई गई ‘स्वच्छ भारत योजना’ की सराहना करते हुये कहा कि विश्व जागृति मिशन ‘स्वस्थ भारत निर्माण’ की योजना पर गम्भीरता से काम कर रहा है। उन्होंने राष्ट्र को अच्छी सेहत का वितरण करने वाले ‘युगऋषि आयुर्वेद कार्यक्रम’ के विषय में विस्तार से बताया। उन्होंने आध्यात्मिक गतिविधियों के अलावा स्वास्थ्य, शिक्षा,  स्वावलम्बन, गौसंवर्धन, वृद्धजन सेवा, वानप्रस्थी पुरुषों के समय के नियोजन जैसे अनेक लोकहितकारी कार्यक्रमों की जानकारी विस्तार से दी। श्रद्धेय महाराजश्री ने विश्व जागृति मिशन के फ़रीदाबाद मण्डल द्वारा अनाथ बालक-बालिकाओं की शिक्षा, विधवा कल्याण तथा स्वास्थ्य सेवाओं की सराहना सत्संग महोत्सव के मंच से की।
उधर योग व ध्यान गुरू डॉ अर्चिका दीदी ने प्रातःक़ालीन कक्षा में लगभग डेढ़ हज़ार ध्यान-जिज्ञासुओं को व्यावहारिक ट्रेनिंग दी। विश्व जागृति मिशन के महामन्त्री श्री देवराज कटारिया ने बताया कि आगामी २६ से २९ अक्टूबर की तिथियों में जयपुर में विराट भक्ति सत्संग महोत्सव सम्पन्न होगा। दिल्ली के पीतमपुरा में २८ व २९ अक्टूबर को ध्यान उत्सव आयोजित किया गया है।०१ से ०५ नवम्बर तक देवभूमि उत्तराखण्ड की तीर्थनगरी ऋषिकेश में परमार्थ गंगा तट पर विशेष ध्यान साधना शिविर का आयोजन होगा। विश्व जागृति मिशन के फ़रीदाबाद मण्डल  के प्रधान श्री राजकुमार अरोड़ा ने महाराजश्री एवं आनन्दधाम परिवार के सभी सदस्यों तथा उपस्थित जनसमुदाय के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने ज़िला प्रशासन के विभिन्न विभागों एवं मीडिया के प्रति भी आभार कहा। सम्पूर्ण कार्यक्रमों का संचालन मिशन के निदेशक श्री राम महेश मिश्र ने किया।
url and counting visits