बारात में द्वारचार के दौरान नशेड़ी के तमंचे से चली गोली से बालिका घायल

हर्ष फायरिंग पर है रोक का इसी तरह उड़ता रहता है मजाक

                वैवाहिक व मांगलिक समारोह के दौरान हर्ष फायरिंग पर पूरी तरह प्रतिबंध है फिर भी लोग अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं। सुप्रीम कोर्ट के सख्त निर्देश दे रखे हैं कि किसी भी समारोह में हर्ष फायरिंग नहीं की जायेगी फिर भी पुलिस इस पर रोक लगाने में नाकाम साबित हो रही है। हालांकि हर्ष फायरिंग होने के लिए थाना क्षेत्र के एसओ को जिम्मेदार बनाया गया हैं वहीं आरोपी के साथ जिसके घर में फायरिंग हो उसके खिलाफ भी मुकदमा दर्ज करने का कानून बनाया गया हैं। परंतु पुलिस फिर भी इन घटनाओं को नहीं रोक पा रही। यही वजह कि इस तरह की घटनाएं होती रहती हैं। एक नशेड़ी की वजह से बालिका गोली लगने से घायल हो गयी है जिसे इलाज के लिए जिला असप्ताल में भर्ती कराया गया है। आरोपी युवक अभी फरार है।
       ताजा मामला हरदोई जिला के बेहटागोकुल थाना क्षेत्र का है। यहां गुरुवार को हुमायूपुर गांव में इंद्रपाल के घर बारात आयी थी। ग्रामीणों के मुताबिक, शादी समारोह में द्वारचार के वक्त लोग हर्ष फायरिंग कर रहे थे। इस दौरान नशे में धुत होकर देशी तमंचे से फायरिंग कर रहे रामू की गोली एक बच्ची को जा लगी। इस घटना से हड़कंप मच गया। आनन-फानन में बच्ची को घायल अवस्था में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। यहां उसका इलाज चल रहा है। फिलहाल पुलिस पूरे मामले की पड़ताल कर आगे की कार्रवाई कर रही है। बालिका जिंदगी की जंग लड़ रही है तो आरोपी अभी भी पुलिस की गिरफ्त से दूर है।      
       हर्ष फायरिंग की यह पहली घटना नही है। इससे पूर्व भी कई घटनाएं हो चुकी है। 21 जून 2017 को हरदोई जिला के हरपालपुर थाना क्षेत्र के नगरा चौधरपुर में रात एक तिलक समारोह के दौरान हर्ष फायरिंग में गोली लगने से एक वृद्ध दूल्हे के चाचा शिवरतन (70) गंभीर रूप से घायल हो गया था। जिसे आनन-फानन में जिला अस्पताल से लखनऊ ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था। 23 मई 2017 को हरपालपुर थाना के भटौली धर्म पुर निवासी कुलदीप (21) को तिलक समारोह था। बिलग्राम कोतवाली के जरौली नेवादा से लोग तिलक चढ़ाने के लिए आए थे। तिलक चढ़ने के बाद सभी लोग बैठ कर शादी की तैयारियों की बात कर रहे थे। इसी बीच गांव का युवक कल्लू हाथ में तमंचा लेकर हर्ष फायरिंग करने लगा था और दूल्हे को गोली लग गई थी।