‘आर्थिक मन्दी’ के प्रति सरकार सजग नहीं

भाषाविद्-समीक्षक डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय

डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय-

देश की वित्तमन्त्री निर्मला सीतारमण जी०एस०टी० को दशहरा से और सुविधाजनक बनाने की आज बात कर रही हैं; किन्तु इस समय देश जिस ‘आर्थिक मन्दी’ से गुज़र रहा है, उस पर मौन हैं, क्यों? पिछले पाँच वर्षों से अब तक चमन’ से कफ़न’ तक ख़रीदने के लिए देश की सरकार देश की जनता से बड़ी संख्या में जी०एस०टी० के नाम पर प्रकारान्तर से धनराशि लेती आ रही है और देश के उस वर्ग को आर्थिक रूप से रुग्ण करती आ रही है, जो प्रतिदिन कुआँ खोदते हैं और पानी पीते हैं। आश्चर्य है, उनके प्रति सरकार सह-अनुभूति का संस्कार स्वयं में आरोपित नहीं कर पा रही है; क्योंकि सरकार का पेट भरा रहे; जनता भूखों मरती है तो मरती रहे।

निस्सन्देह, देश की सरकार आर्थिक विषय में बुरी तरह से अनुत्तीर्ण दिख रही है।

(सर्वाधिकार सुरक्षित : डॉ० पृथ्वीनाथ पाण्डेय, प्रयागराज; २३ अगस्त, २०१९ ईसवी)

url and counting visits