सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की कर्मशाला ‘रायबरेली से लातूर तक’

भाषाविज्ञानी एवं समीक्षक, प्रयागराज के आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय की शैक्षिक कर्मशाला का आरम्भ हो चुका है। विद्यार्थियों, अध्यापकों तथा मीडियाकर्मियों को कई दशक से शुद्ध हिन्दी बोलने और लिखने के प्रति आग्रहशील आचार्य पाण्डेय की इस वर्ष की कर्मशाला उत्तरप्रदेश के रायबरेली ज़िले के ऊँचाहार-क्षेत्र के शिवमंगल मौर्य बालिका इण्टर कॉलेज मे आयोजित की जायेगी, तदनन्तर महाराष्ट्र के लातूर ज़िले के राजर्षि साहू महाविद्यालय मे इसका आयोजन किया जायेगा। कोरोना-दुष्प्रभाव के कारण आचार्य पाण्डेय की लोकप्रिय ‘भाषिक पाठशाला’ पूर्णत: प्रभावित रही। गत वर्ष की उनकी आन्ध्रप्रदेश, हिमाचलप्रदेश, सिक्किम, झारखण्ड, उत्तराखण्ड, छत्तीसगढ़, उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश आदिक राज्यों मे आयोजित प्रत्यक्ष और परोक्ष कर्मशालाओं से लाखों विद्यार्थी, अध्यापक, मीडियाकर्मी तथा अन्य प्रबुद्धजन लाभान्वित हो चुके हैं।

उल्लेखनीय है कि आचार्य पं० पृथ्वीनाथ पाण्डेय २१ सितम्बर को ऊँचाहार (रायबरेली) तथा २६-२७ सितम्बर को लातूर (महाराष्ट्र) मे मौखिक और लिखित भाषाओं का बोध कराते हुए, शुद्धाशुद्ध शब्दप्रयोग को बहुविध समझायेंगे और लिखायेंगे।