संजय सिंह, सांसद, आप ने पेयजल एवं स्वच्छता मिशन पर उठाए सवाल! | IV24 News | Lucknow

“जीतेगा इण्डिया हारेगा कोरोना” मुहिम को बल देता गायिका शिवाङ्गी मिश्र का लॉकडाउन एन्थम

शशांक कुमार, सुल्तानपुर :

लॉकडाउन एंथम एक अनूठी पहल है देश मे चल रहे यज्ञकुंड में अपनी भी आहुति डालने की। देशवासियों की यही छोटी छोटी कोशिशें ही “जीतेगा इंडिया, हारेगा कोरोना” मुहिम को पूर्ण करेंगी। लॉकडाउन एंथम की गायिका और कलाकार शिवांगी मिश्रा ने ख़ास मुलाक़ात के दौरान बताया कि क्योंकि ये लड़ाई पूरे देश की है इसलिए सभी देशवासियों को एक साथ लड़ना होगा। शिवांगी ने आगे कहा कि सोच के साथ लॉकडाउन एंथम बनाया गया है। जिसमे हमने यह दिखाने की कोशिश की है कि पूरी दुनिया मे किस तरह से लोग लॉकडाउन के दौरान अपनी रुचि के कार्य पेंटिंग, रेसिपी, म्यूजिक, खेल आदि कर अपना तो टाइम पास कर ही रहे है साथ ही लोगो से सोशल मीडिया आदि माध्यमो से साझा करके उनको भी लॉकडाउन के दौरान खुद की पसंदीदा हैबिट्स कर टाइम पास करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं।

गायिका शिवांगी मिश्र

बिना पारिश्रमिक के किया कार्य

शिवांगी मिश्रा ने बताया कि मैं होली की छुट्टियों में घर आई थी। उसके बाद कोरोना इफेक्ट के चलते लखनऊ जा नही पाई। इसी दौरान देश मे लॉकडाउन हो गया। मेरे पास अल्बम के डायरेक्टर जोएब खान का फोन आया उन्होंने कहा कि हम लॉकडाउन अल्बम बना रहे हैं और मुझे ऑफर किया। मैं तुरन्त तैयार हो गयी। बिना किसी पारिश्रमिक और बहुत ही अल्प संसाधन में काम किया। शिवांगी मिश्रा ने बताया कि अलमारी में बैठकर मोबाइल से गाने की रिकॉर्डिंग की और साथ ही अकेले ही दीवार पर टेप से मोबाइल चिपकाकर वीडियो शूट किया। मकसद एक ही था कि जो मोटो इस वीडियो का है वह दुनिया तक पहुंच जाए। इसके पूर्व कई अल्बम रिलीज हो चुके हैं।

शिवांगी मिश्रा का इसके पूर्व कई अल्बम रिलीज हो चुके हैं। अभी हाल ही में इन्होंने माइकल जैक्सन के “अर्थ” सांग का कवर सांग गाया था जिस सांग ने काफी प्रसिद्धि प्राप्त की थी। इसके अलावा इन्होंने “रिमझिम घिरे सावन” और “टाइटेनिक” का कवर सांग आदि भी गा चुकी हैं। शिवांगी मिश्रा ने बताया कि एक बहुत बड़े प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। लॉकडाउन के कारण अभी काम रोकना पड़ा है जब सब ठीक हो जाएगा तो हम काम शुरू करेंगे।

लॉकडाउन का पालन करें—-

शिवांगी मिश्रा मिर्जापुर की रहने वाली हैं। इन्होंने प्राथमिक पढ़ाई मुम्बई से की। उसके बात सरस्वती डेंटल कालेज लखनऊ से बीडीएस की पढ़ाई कम्प्लीट की। बचपन से ही इन्हें गाने का शौख था और गायिका बनना चाहती थीं। उनका कहना है कि मेहनत और लगन से आदमी कुछ भी कर सकता है। मुझे बड़ा गर्व है कि लॉकडाउन के इस कठिन परिस्थिति में हम लॉकडाउन वीडियो अल्बम बनाने में कामयाब रहे हैं। हमने सोशल डिस्टनसिंग और सभी रूल्स को पूरी तरह फॉलो भी किया है। मैं यही चाहती हूं कि हम सभी लोग सरकार द्वारा जारी गाइडलाइन का पूर्ण पालन करते हुए अगर समाज के लिए कुछ क्रिएटिव कर सकते हैं तो अवश्य करें अपना भी टाइम पास होगा और लोग प्रेरित भी होंगे।