डीएम व एसएसपी ने पुलिस लाइन परेड ग्राउण्ड बदायूँ में मैराथन दौड़ व क्रिकेट-पिच का किया उद्घाटन

सङक दुर्घटनाओं मे मृतकों एवं घायलों की स्मृति में पुलिस लाइन परेड ग्राउण्ड मे मैराथन दौङ का आयोजन किया गया । जिसमें जिलाधिकारी महोदय, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, अपर पुलिस अधीक्षक नगर, क्षेत्राधिकारी नगर व अन्य अधि0/कर्म0गण द्वारा प्रतिभाग किया गया । जिलाधिकारी बदायूं श्री कुमार प्रशांत एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद बदायूं अशोक कुमार त्रिपाठी द्वारा हरी झण्डी दिखाकर मैराथन दौङ शुरु करायी गयी । संयुक्त राष्ट्र संघ की पहल पर प्रदेश मे पहली बार वर्ष 2017 मे सङक दुर्घटनाओं मे मृतकों एवं घायलों की स्मृति मे मैराथन दौङ का आयोजन किया गया था । पुलिस लाइन मे आयोजित की गयी मैराथन दौङ मे प्रतियोगियों ने खासा उत्साह दिखाया । सुबह 08.30 पर पुलिस लाइन परेड ग्राउण्ड से मैराथन दौङ शुरु हुई । पुलिस अधीक्षक नगर जनपद बदायूं जितेन्द्र श्रीवास्तव द्वारा महिला व पुरुष दोनों वर्गों मे प्रथम, द्वितीय व तृतीय आने वाले प्रतियोगियों को पुरष्कार देकर सम्मानित किया गया । संध्या काल मे जनपद बदायूं के समस्त थानों व मुख्य स्थानों पर सङक दुर्घटनाओं मे मृतकों एवं घायलों की स्मृति में कैण्डल मार्च किया जायेगा ।

इसके उपरान्त जिलाधिकारी बदायूं श्री कुमार प्रशांत एवं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जनपद बदायूं अशोक कुमार त्रिपाठी द्वारा पुलिस लाइन परेड ग्राउण्ड मे फीता काटकर क्रिकेट-पिच का उद्घाटन किया गया । एक प्रचीन कहावत है पहला सुख निरोगी काया इसका मतलब है कि सुखी जीवन का भोग करने के लिए स्वस्थ शरीर का होना जरूरी है, लेकिन शरीर तभी स्वस्थ हो सकता है जब इसके सभी अंग दुरुस्त यानि फिट हों और शारीरिक अंगों को फिट रखने हेतु खेलों से बढकर अन्य कोई साधन नहीं है । खेल – कूद के दौरान शरीर के लगभग सभी अंगों का व्यायाम हो जाता है | मांसपेशिया सुदृढ़ बनती है जिससे काया निरोगी रहती है | स्वास्थ्य रक्षा और सशक्त शरीर के लिए खेल अनिवार्य है । महोदय द्वारा बताया गया कि सभी पुलिसकर्मियों को ड्यूटी के साथ-साथ खाली समय में खेलना भी चाहिए, खेलने से व्यक्ति का शारीरिक, मानसिक, बौद्धिक और मनोवैज्ञानिक विकास होता है । जब पुलिसकर्मी मानसिक व शारीरिक रुप से स्वस्था होंगे तो कर्तव्य पालन भी उचित प्रकार से कर पायेंगे ।

url and counting visits