सई नदी की करुण कथा : पौराणिक और ऐतिहासिक नदी मर रही है

देश में 68वें गणतंत्र का जश्न

देश में आज 68वें गणतंत्र दिवस का जश्न है । आज ही अर्थात 26 जनवरी, 1950 को भारत को उसका संविधान मिला था । नई दिल्ली में हमाशा की तरह गणतंत्र दिवस की भव्य परेड आयोजित की गयी । देश की विविधता और विभिन्न क्षेत्रों में भारत की उपलब्धियों तथा सैन्य क्षमता का प्रदर्शन परेड में किया गया । अबु धाबी युवराज शेख मोहम्मद बिन ज़ायेद अल नहियान इस समारोह के मुख्य अतिथि बने । आज सुबह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और सेना प्रमुखों ने इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति पर पुष्पचक्र से अमर शहीदों को नमन किया । देश के राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्र ध्वज फहराया । हवलदार हंगपन दादा को उनकी उत्कृष्ट सेवाओं के लिए परेड से पहले सलामी मंच पर राष्ट्रपति  ने  मरणोपरांत अशोक चक्र से सम्मानित किया ।

राष्‍ट्रगान की धुन के मध्य 21 तोपों की सलामी, साथ ही हेलीकॉप्‍टर से पुष्‍पों की वर्षा के बाद परेड शुरू हुई । सेना की मिसाइल ताकत, टी-90 भीष्‍म टैंक, ब्रह्मोस तथा आकाश ने देश की क्षमता का प्रदर्शन किया । एमआई-35, स्‍वदेशी हल्‍के लड़ाकू विमानों जैसे तेजस, जगुआर, मिग 29 और सुखोई ने रोमांचक उड़ाने भरीं । बेटी बचाओ और बेटी बढ़ाओं अभियान, खादी इंडिया, जीएसटी, सबके लिए आवास, स्‍वच्‍छ भारत, हरित भारत और कौशल विकास जैसे विषय इस बार की झांकियों का मुख्य आकर्षण रहे ।