कोथावाँ प्रा०वि० का हाल, बच्चों को दूध और फल नहीं दे रहे जिम्मेदार

भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर भारतीय दूतावास ने मस्कट में आयोजित की कार्यशाला

अमर शहीद भगवान बिरसा मुंडा की जयंती ‘जनजातीय गौरव दिवस’ के तौर पर इस बार भारत ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मनाई जा रही है। इस अवसर पर विदेशों में स्थित भारतीय दूतावास विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन कर रहे हैं। ओमान इस स्थित भारत के दूतावास ने राजधानी मस्कट में भारतीय सामजिक क्लब रंगरेज ग्रुप के कालाकारों के साथ मिलकर शनिवार को एक भारतीय जनजातीय कला कार्यशाला का आयोजन किया।

जनजातीय कला कार्यशाला में विभिन्न देशों के कई प्रतिभागियों ने भाग लिया।

इस बारे में दूतावास ने एक ट्वीट थ्रेड में कहा भारतीय सामाजिक क्लब रंगरेज़ समूह के कलाकारों एवं आर्ट एंड सोल गैलरी के सहयोग से एक भारतीय जनजातीय कला कार्यशाला का आयोजन किया। दूतावास ने आगे कहा जनजातीय कला कार्यशाला में विभिन्न देशों के कई प्रतिभागियों ने भाग लिया। राजदूत अमित नारंग ने कार्यशाला के प्रतिभागियों के साथ बातचीत की और भारत के स्वतंत्रता संग्राम के एक प्रतिष्ठित व्यक्ति के रूप में भगवान बिरसा मुंडा के योगदान पर प्रकाश डाला।

दूतावास ने बताया कि राजदूत नारंग ने जनजातियों की समृद्ध कला और सांस्कृतिक विरासत पर बात की, जो प्रकृति के साथ लोगों के सामंजस्यपूर्ण जुड़ाव और धरती माता की रक्षा के महत्व को दर्शाते हैं। ये विचार विशेष रूप से आधुनिक दुनिया के लिए प्रासंगिक हैं।

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नेतृत्व में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आदिवासी समाज के नायक और स्वतंत्रता सेनानी बिरसा मुंडा की जयंती को ‘जनजातीय गौरव दिवस’ के रूप में मनाने का ऐलान किया था। भारतीय इतिहास और संस्कृति में अनुसूचित जनजातियों के सदस्यों के योगदान का सम्मान करने के लिए 15 नवंबर को ‘जनजातीय गौरव दिवस’ घोषित करने का फैसला किया था। जिसके बाद से देश एवं विदेश में पूरे सप्ताह भर विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है।

(रिपोर्ट: शाश्वत तिवारी)